कुलदीप यादव से जुड़े 10 तथ्य

10 facts to know about Kuldeep Yadav

धर्मशाला में बॉर्डर गावस्कर ट्रॉफी के चौथे टेस्ट मैच में भारतीय टीम की तरफ से पहले चाइनामैन गेंदबाज़ कुलदीप यादव ने पदार्पण किया। डेविड वार्नर उनके पहले शिकार बने। हम आपको बताएँगे कुलदीप यादव से जुड़ी 10 खास बातें-

1- यादव का जन्म 14 दिसम्बर 1994 को उत्तर प्रदेश के उन्नाव जिले के एक गांव में हुआ था।

2- उनके पिता ईंट भट्ठे के मालिक थे। यादव की युवावस्था में उनके क्रिकेट के जुनून को पूरा करने के लिए उनका परिवार गांव छोड़कर कानपुर में बस गया।

3- भारत के 82 साल के टेस्ट इतिहास में वह पहले बाएं हाथ के चाइनामैन गेंदबाज़ हैं। परंपरागत बाएं हाथ के कई स्पिनर देखे जा चुके हैं लेकिन गैर परंपरागत स्पिनरों में ब्रैड हॉग, पॉल एडम्स और माइकल बेवन का नाम ही ध्यान में आता है।

4- कानपुर क्रिकेट अकादमी में उन्होंने तेज़ गेंदबाज़ के रूप में शुरुआत की थी लेकिन उनके कोच कपिल पांडेय ने उन्हें बाएं हाथ का स्पिनर बनने की सलाह दी। शुरुआत में कुलदीप को यह बहुत कठिन लगा यहाँ तक कि वो रोए भी लेकिन अंत में उन्हें अपनी अद्भुत स्पिन गेंदबाज़ी का अनुभव हो गया।

भारतीय क्रिकेट टीम के इतिहास की 5 सबसे बड़ी प्रतिद्वंद्विताएँ

5- अप्रैल 2012 में 17 वर्ष की अवस्था में वह भारतीय अंडर 19 टीम के लिए चुने गए लेकिन उन्हें खेलने का मौका नहीं मिला और उन्मुक्त चंद की कप्तानी में भारत ने अंडर 19 विश्व कप जीत लिया था।

6- 2014 में यू ए ई में खेले गए अंडर 19 विश्व कप तक अपने निरंतर अच्छे प्रदर्शन से वह टीम का अभिन्न अंग बन चुके थे और टीम के वरिष्ठ खिलाड़ी समझे जाने लगे थे। इस विश्व कप में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया। विश्व कप में वह तीसरे सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ बने। उन्होंने स्कॉटलैंड के खिलाफ हैट्रिक सहित 6 मैचों में 14 विकेट लिए।

7- 2012 आई पी एल में वह मुंबई इंडियंस का हिस्सा थे लेकिन उन्हें एक भी मैच में मौका नहीं मिला हालाँकि उन्हें नेट में सचिन तेंदुलकर को गेंदबाज़ी करने का अवसर मिला और अपनी गेंदबाज़ी से उन्होंने सचिन तेंदुलकर को भी प्रभावित किया।

8- मुम्बई इंडियंस के लिए नेट में अच्छे प्रदर्शन के बावजूद टीम ने उन्हें दोबारा नहीं चुना और के के आर ने $66000 में उन्हें खरीद लिया।

ड्रेसिंग रूम की 11 ऐसी कहानियाँ जिन्होंने भारतीय खिलाड़ियों का अलग रूप प्रदर्शित किया

9- सी एल टी 20 में उन्होंने फ्रैंचाइज़ी के फैसले को सही साबित करते हुए 5 मैचों में 6 विकेट लिए और टीम को फाइनल तक पहुँचाने में अहम भूमिका निभाई।

10- सी एल टी 20 में उनके प्रदर्शन के ज़रिये उन्हें वेस्ट इंडीज के खिलाफ एकदिवसीय श्रृंखला में भारतीय टीम में स्थान मिला। उस समय उनके पास किसी भी प्रथम श्रेणी या A श्रेणी मैच का अनुभव नहीं था।

Source: 10 things you should know about Kuldeep Yadav

Summary
Review Date
Reviewed Item
10 facts to know about Kuldeep Yadav | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: