5 छोटे कद के क्रिकेटर जो सर्वकालिक महान खिलाड़ी बने

5 short cricketers who became legends

एक ओर जहाँ अंतर्राष्ट्रीय खेलों में लंबे कद के खिलाड़ियों का बोलबाला है वहीं क्रिकेट में टेम्बा बावुमा, मुश्फिकुर रहीम और पार्थिव पटेल जैसे छोटे कद के खिलाड़ी कड़ी प्रतिस्पर्धा पेश कर रहे हैं। लोगों की धारणा है कि महान क्रिकेटर 1970 और 1980 के वेस्ट इंडीज़ के खिलाड़ियों या ऑस्ट्रेलिया के तेज़ गेंदबाज़ों की तरह लंबी कद काठी के होते हैं। लेकिन कुछ ऐसे भी क्रिकेटर हुए हैं जो लंबे तो नहीं थे लेकिन सर्वकालिक महान खिलाड़ी बने। निम्न 5 खिलाड़ी यह सिद्ध करते हैं कि लम्बाई का कुशलता और योग्यता से कुछ लेना देना नहीं है।

क्रिकेट के इतिहास की 5 सबसे तेज़ तर्रार पारियाँ

#5 गुंडप्पा विश्वनाथ- 5’3″

गुंडप्पा विश्वनाथ
गुंडप्पा विश्वनाथ

सुनील गावस्कर के बहनोई गुंडप्पा विश्वनाथ भारतीय क्रिकेट के सर्वश्रेष्ठ बल्लेबाज़ों में से एक थे। 5’3″ लम्बाई के विशी(उनका चर्चित नाम) कलाइयों का बेहतरीन उपयोग करने के महारथी थे।

वह तेज़ गेंदबाज़ों और स्पिन गेंदबाजों दोनों को अच्छी तरह खेलते थे। देर से शॉट खेलना, स्पिन गेंदबाज़ों के खिलाफ कदमों का उपयोग करना उनके पसंदीदा शॉट थे। हालाँकि उनके आंकड़े उतने अच्छे नहीं रहे लेकिन वह सुनील गावस्कर की ही तरह प्रभावशाली खिलाड़ी थे।

पहले ही मैच में शतक लगाने के बाद वह अहम मौकों पर टीम के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाते रहे। उनमे से कुछ यादगार पारियां थीं-
1974-74 में मद्रास में एंडी रॉबर्ट्स के खिलाफ 97 रनों की मैच जिताऊ पारी, 1978-79 में मद्रास की उछाल भरी विकेट पर वेस्ट इंडीज के खिलाफ टीम के 255 रनों में 124 रन उनके थे। 1975-76 में न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ क्राइस्टचर्च में 83 और 79 रन की पारी।

विश्वनाथ कठिन पिचों पर बेहद उपयोगी थे और अपनी शैली में बल्लेबाजी करते थे। अपने कैरियर में उन्होंने केवल एक बार 1979-80 में गोल्डन जुबली मैच के दौरान अंपायर के फैसले का विरोध किया।

#4 एल्विन कालीचरण– 5’4″

एल्विन कालीचरण
एल्विन कालीचरण

एल्विन बाएं हाथ के बल्लेबाज़ों की तरह अपने नियंत्रण और शैली के लिए जाने जाते थे। शुरुआत के दो टेस्ट मैचों में 2 शतक लगा कर 1970 में वह वेस्ट इंडीज की दिग्गज टीम का हिस्सा बने। उस टीम में वह सबसे छोटे कद के खिलाड़ी थे।

कालीचरण ने 114 शतक(प्रथम श्रेणी और A श्रेणी के शतकों को सम्मिलित कर) लगाये जिसमें से एक बार A श्रेणी के एकदिवसीय मैच में दोहरा शतक भी शामिल है। उनकी सबसे यादगार पारी 1975 विश्व कप की थी जिसमें उन्होंने डेनिस लिली की लगातार 10 गेंदों पर 35 रन बना डाले।

10 घटनाएं जब पिच पर बल्लेबाज गेंदबाज की गेंद से चोटिल हो गया

5’4″ लम्बाई से कुछ बड़े कालीचरण का औसत 44.43 रहा(66 टेस्ट में 4399 रन)। उनके बारे में बड़ा तथ्य यह है कि 1990 में क्रिकेट के सभी प्रारूपों से सन्यास लेने से पूर्व उन्होंने 500 प्रथम श्रेणी मैच खेले जिसमें उन्होंने 32000 रन बनाए और इसके अतिरिक्त 400 A श्रेणी मैच भी खेले। उन्होंने 1981 में अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास ले लिया।

#3 सुनील गावस्कर – 5’5″

सुनील गावस्कर
सुनील गावस्कर

सुनील गावस्कर को लिटिल मास्टर के नाम से जाना जाता है।

सुनील गावस्कर भारतीय क्रिकेट के बड़े नामों और महानतम सलामी बल्लेबाज़ों में से एक हैं। विश्व के खतरनाक गेंदबाज़ों का सामना करते समय उनकी लम्बाई 5’5″ था।

उनके खेल की तकनीक परिपूर्ण थी और वह पूरा ध्यान खेल पर देते थे। खेल की उनकी रक्षात्मक शैली को भेदना लगभग असंभव था। टेस्ट मैचों में 10 हज़ार रन और 34 शतक बनाने वाले वह पहले बल्लेबाज़ थे।

उनके 34 शतकों में से 13 शतक दिग्गज टीम वेस्ट इंडीज के खिलाफ थे। सन्यास के बाद वह आई सी सी मैच रेफरी, बी सी सी आई अध्यक्ष, आई सी सी क्रिकेट कमेटी के चेयरमैन, कमेंटेटर और समीक्षक रह चुके हैं। आज की तारीख में वह क्रिकेट की जानी पहचानी आवाज़ हैं।

#2 मुथैया मुरलीधरन – 5’5″

मुथैया मुरलीधरन
मुथैया मुरलीधरन

मुरलीधरन सर्वकालिक महानतम स्पिनर हैं।

श्रीलंकाई गेंदबाज़ मुथैया मुरलीधरन को जादू, योग्यता और कला जैसे शब्दों से परिभाषित किया जा सकता है। 800 टेस्ट विकेट(टेस्ट क्रिकेट में किसी भी गेंदबाज़ द्वारा सर्वाधिक) और 534 एकदिवसीय विकेट(एकदिवसीय क्रिकेट में किसी भी गेंदबाज़ द्वारा सर्वाधिक) लेने के बावजूद मुरलीधरन सबसे सज्जन क्रिकेटरों में से एक थे।

आंकड़े: खिलाड़ी जो कि एकदिवसीय क्रिकेट में अफरीदी के सर्वाधिक छक्कों के कीर्तिमान को तोड़ सकते है

मुरलीधरन अपनी गेंदबाज़ी से जादू बिखेरते थे। वह किसी भी समय किसी भी बल्लेबाज़ को आउट कर मैच का नक्शा पलट सकते थे। अपनी कला, योग्यता और स्पिन गेंदबाजी से उन्होंने कई बल्लेबाज़ों को परेशान किया और कभी कभी अकेले दम पर मैच जिताया।

उन्होंने अपनी टीम के साथियों के साथ संघर्षशील श्रीलंकाई टीम को बुलंदियों पर पहुँचाया। उनका औसत 22.72 और स्ट्राइक रेट 55 है जो किसी भी स्पिनर के लिए शानदार आंकड़े हैं। मुरलीधरन श्रीलंका के महानतम मैच विजेता रहे हैं।

#1 सचिन तेंदुलकर- 5’5″

सचिन तेंदुलकर
सचिन तेंदुलकर

सचिन तेंदुलकर एक दिग्गज बल्लेबाज और इस पीढ़ी के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ी थे।

सचिन तेंदुलकर अपने कैरियर के आरम्भ में एक तेज़ गेंदबाज़ बनना चाहते थे लेकिन डेनिस लिली ने उनके छोटे कद की वजह से उन्हें ऐसा न करने के सलाह दी जिसके बाद सचिन ने बल्लेबाज़ी पर ध्यान देना शुरू किया। 1989 में 16 वर्ष की अवस्था में अपने पदार्पण से ही वह चर्चा में बने रहे।

34000 अंतर्राष्ट्रीय रन और 100 शतकों के साथ सचिन तेंदुलकर बल्लेबाज़ी का दूसरा नाम बन गया। उन्होंने कई रिकॉर्ड बनाये जिनमें से कुछ शायद कभी नहीं टूटेंगे। अपने समय के वह एक सम्पूर्ण बल्लेबाज़, रन मशीन और क्रिकेट के सबसे बड़े आदर्श रहे हैं।

सभी प्रतिद्वंद्वियों के खिलाफ उनका बल्ला बोला। वह मैदान के चारों ओर रन बना सकते थे और किसी भी परिस्थिति में बल्लेबाजी कर सकते थे। उन्होंने विश्व के सभी कोनों में रन बनाए हैं और कई बार अकेले दम पर मैच का नक्शा पलट दिया।

क्रिकेट के सभी प्रारूपों से सन्यास लेने के बावजूद वह अभी भी इस खेल के महानतम खिलाड़ी माने जाते हैं और इस ग्रह पर सबसे अधिक पूजे जाने वाले क्रिकेटर हैं।

Source: 5 short cricketers who went on to become all-time greats

Summary
Review Date
Reviewed Item
5 short cricketers who became legends | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: