नाराज़ श्रीसंथ बीसीसीआई पर भड़के

Angry Sreesanth lashes out on BCCI

केरल हाईकोर्ट ने श्रीसंथ के आजीवन प्रतिबंध के फैसले का किया समर्थन, नाराज़ श्रीसंथ बोले असली अपराधियों को पकड़ो

2013 इंडियन प्रीमियर लीग के दौरान एस श्रीसंथ फिक्सिंग के आरोप में गिरफ्तार हुए थे। बी सी सी आई द्वारा उन पर लगाए गए आजीवन प्रतिबंध पर केरल हाईकोर्ट ने अगस्त में रोक लगाई लेकिन मंगलवार को उन पर प्रतिबंध के फैसले को जारी रखा।

मंगलवार को कोच्चि में केरल हाईकोर्ट ने कहा कि श्रीसंथ पर प्रतिबंध लगा रहेगा और बी सी सी आई द्वारा आयोजित किसी भी क्रिकेट आयोजन में वह भाग नहीं ले सकते।

धवन चाहते हैं भारतीय टीम स्टीव वॉ की ऑस्ट्रेलिया जैसी बने

2013 में फिक्सिंग के आरोप के बाद 2015 में बी सी सी आई ने उन पर आजीवन प्रतिबंध लगाया था। फिक्सिंग वाले प्रकरण के समय श्रीसंथ राजस्थान रॉयल्स की तरफ से खेल रहे थे।

अगस्त में केरल हाईकोर्ट ने बी सी सी आई के प्रतिबंध पर रोक लगा दी थी। पिछले वर्ष दिल्ली की विशेष कोर्ट ने उन्हें 2013 में फिक्सिंग का आरोपी पाया था। दिल्ली पुलिस मामले की छानबीन में जुटी है।

मंगलवार को हाईकोर्ट के फैसले के बाद 34 वर्षीय इस क्रिकेटर का केरल की ओर से रणजी ट्रॉफी खेलने का सपना टूट गया। केरल हाईकोर्ट के मुख्य न्यायाधीश नवनीति प्रसाद सिंह ने निर्णय लिया कि बी सी सी आई द्वारा लगाए गए प्रतिबंध पर न्यायालय पुनरीक्षण नहीं कर सकता अतः क्रिकेट बोर्ड के निर्णय का पालन किया जाए।

आशीष नेहरा ने कहा भारत की तरफ से खेलने के लिए अभ्यास किया था आई पी एल के लिए नहीं

नाराज़ श्रीसंथ ने कोर्ट के फैसले को अब तक का सबसे खराब फैसला बताया। उन्होंने दो वर्ष के प्रतिबंध के बाद चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के आई पी एल में वापसी पर सवाल उठाए। चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के मालिकों के सट्टेबाज़ी में लिप्त होने के कारण दोनों टीमो पर सुप्रीम कोर्ट ने 2 वर्ष का प्रतिबंध लगाया था और 2018 में यह प्रतिबंध समाप्त हो रहा है।

केरल क्रिकेट के सहायक सचिव जयेश जॉर्ज ने कहा कि केरल क्रिकेट एसोसिएशन, प्रतिबंध समाप्त होने के बाद से ही श्रीसंथ का समर्थन कर रहा था।
जॉर्ज ने कहा “हमने श्रीसंथ के फिटनेस टेस्ट की तैयारियां शुरू कर दी थीं ताकि वह मैच के लिए फिट हो सकें लेकिन अब हमें कोर्ट के फैसले का सम्मान करना चाहिए।”

अब श्रीसंथ के पास केवल सुप्रीम कोर्ट जाने का रास्ता बचा है और सूत्रों के अनुसार वह सुप्रीम कोर्ट में इस फैसले के खिलाफ अपील करेंगे। श्रीसंथ ने सुप्रीम कोर्ट से मुदगल समिति द्वारा दर्ज किये गए भ्रष्टाचार में लिप्त 13 नामों की सूची सार्वजनिक करने का निवेदन किया है। ऐसी ही एक अपील बिहार क्रिकेट एसोसिएशन की ओर से भी की गई है जिसकी सुनवाई 30 अक्टूबर को होगी।

Source: S. Sreesanth’s life ban restored by Kerala High Court, catch ‘real culprits’, says angry pacer

Summary
Review Date
Reviewed Item
Angry Sreesanth lashes out on BCCI | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: