जो रूट सभी परिस्थितियों में रन स्कोर कर सकते हैं, विराट कोहली नहीं कर सकते: स्टुअर्ट ब्रॉड (Broad rates Joe Root above Virat Kohli)

Broad-rates-Joe-Root-above-Virat-Kohli

स्टुअर्ट ब्रॉड ने विराट कोहली और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ दोनों को जो रूट के नीचे आंका।

इंग्लैंड के तेज गेंदबाज जेम्स एंडरसन के विराट कोहली की तकनीक पर सवाल उठाने के कुछ दिनों के बाद उनके साथी खिलाड़ी स्टुअर्ट ब्रॉड ने कहा कि उनके हम वतन जो रूट कोहली की तुलना में बेहतर हैं।

ब्रॉड, जो अब तक इंग्लैंड के लिए सबसे ज्यादा विकेट लेने वालों की सूची में शामिल हैं, ने कोहली और ऑस्ट्रेलियाई कप्तान स्टीव स्मिथ दोनों को रूट के नीचे आंका है।

ब्रॉड ने क्रिकेट आस्ट्रेलिया की वेबसाइट से कहा, “मैं कहूंगा जो रूट, लेकिन सिर्फ इसलिए क्योंकि मैंने उनके साथ ज्यादा क्रिकेट खेला है मुझे पता है कि वह कई परिस्थितियों में रन बनाते हैं, यहां तक की हर परिस्थिति में, और उन्होंने इंग्लैंड टीम के तौर पर मुश्किल समय में हमारे लिए रन बनाए हैं। मैं सोचता हूं कि आपने किसी के करीब रह कर जब इतने लंबे समय के लिए खेला है तो आप उनकी क्षमताएं देख पाते हैं। वो, मेरे हिसाब से, सबसे अच्छे खिलाड़ी बनने योग्य हैं, क्योंकि मैं उन्हें हर दिन देखता हूं।

ब्रॉड के हिसाब से, कोहली, जो वर्ष 2016 में सबसे ज्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी थे, के अनुसार, कम कंसिस्टेंट हैं उनके ऑस्ट्रेलियाई समकक्ष स्मिथ से।

“स्टीवन स्मिथ और जो रूट के प्रकार के खिलाड़ी, इनमें वह निरंतरता है की हर बार जब वे बल्लेबाजी के लिए जाते हैं तो बहुत रन बनाने के लिए बेताब रहते हैं, और यही उन्हें सर्वश्रेष्ठ बनाता है और इसलिए वे दुनिया के सर्वश्रेष्ठ खिलाड़ियों में आते हैं।”

अपनी राय को समर्थन देते हुए ब्रॉड ने कहा कि “कोहली ऑफ स्टंप के बाहर आसानी से चपेट में आ जाते हैं और इस धुआंधार भारतीय खिलाड़ी को यहीं फंसाया जा सकता है।”

“विराट के बारे में केवल एक बात जो आप महसूस करते हैं वह ये की आप केवल एक निक का इंतजार करते हैं। वे पैड के पास बहुत मजबूत हैं और ज्यादा बोल्ड भी नहीं होते। जिन परिस्थितियों में हम खेले, उनकी रन बनाने की भूख लाजवाब थी,” उन्होंने आगे कहा।

इससे पहले, उनके साथी खिलाड़ी एंडरसन ने शायद इसी तरह की टिप्पणियां कोहली के बारे में की थी, जब उन्होंने कोहली की बल्लेबाजी तकनीक पर सवाल खड़े करते हुए कहा था की 28 वर्षीय खिलाड़ी घरेलू परिस्थितियों में विकसित हुए हैं।

एंडरसन ने एक विवादास्पद बयान देते हुए कहा कि कोहली ने रनों का पहाड़ भारतीय परिस्थितियों में बनाया है, जो इंग्लैंड के इस घातक गेंदबाज के हिसाब से “समीकरण से बाहर से खामियां लेना” है।

मुझे यकीन है कि वह (कोहली) बदले नहीं हैं। मुझे लगता है उनकी कोई भी तकनीकी कमियां यहां खेल में नहीं हैं। विकेट बस इसे समीकरण से बाहर ले आते हैं। वहाँ विकेट में वह गति नहीं है जिससे हमें निक मिल सके, जैसा की हमने इंग्लैंड में उनके खिलाफ किया था- थोड़े और अधिक मूवमेंट के साथ।

जो रूट और विराट कोहली के बीच तुलना:

ऐसा लगता है कि ब्रॉड ने एंडरसन की किताब से कुछ पन्ने निकाल लिए हों लेकिन शायद वह भूल गए हैं कि कोहली ने 2 वनडे शतक ऑस्ट्रेलिया के भारत के दौरे के दौरान, इस साल के शुरू में मारे हैं।

कोहली ने कैरेबियन धरती पर अपने कैरियर का पहला टेस्ट डबल शतक मारा था और इंग्लैंड-भारत टेस्ट श्रृंखला में सर्वाधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी थे।

चीजें सामने लाने के लिए, कोहली ने 2016 के अंत तक 12 टेस्ट मैचों में 1,215 रन बनाए और 3 डबल टन सहित 4 शतक भी शामिल हैं। उनका टेस्ट औसत 2016 में बेहतरीन 75.93 का है।

इंग्लैंड श्रृंखला के शुरू होने से पहले कोहली का औसत मात्र 13.40 का था, जो 5 टेस्ट मैचों की सीरीज के बाद 44.40 पर है।

2016 के अंत में, कोहली विश्व क्रिकेट में पहले और एकमात्र बल्लेबाज हैं जिनका औसत खेल के तीनों प्रारूपों में 50 से अधिक है।

इंग्लैंड के रूट, एलिस्टेयर कुक और जॉनी बेयरस्टो ने 2016 में कोहली से अधिक रन बनाए हैं (क्योंकि इन्होंने कोहली से 5 अधिक टेस्ट मैच खेले), फिर भी कोहली इन खिलाड़ियों से कहीं बेहतर थे।

इसके विपरीत, रूट भारत में 5 टेस्ट मैचों की श्रृंखला के दौरान भारतीय पिचों पर लगातार संघर्ष करते रहे हैं। जहां कोहली ने पांच टेस्ट में 655 (8 पारी) रन बनाए, वहीं रूट ने 492 रन बनाए (10 पारी)।

यदि (कोहली और रूट की) विदेशी धरती पर प्रदर्शन की तुलना करें तो दोनों का औसत 44 है। यह साबित करता है शायद ही विदेशों में प्रदर्शन के मामले में रूट और कोहली के बीच कोई अंतर है।

इस प्रकार, कोहली और रूट पर ब्रॉड का अवलोकन थोड़ा गलत और एकतरफा साबित होता है।

Leave a Response

share on: