ब्रैडमैन विरुद्ध तेंदुलकर: सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर की जंग

Comparison - Sachin Tednulkar vs Don Bradman

हमेशा ही ये सवाल उठे है कि इन दोनों क्रिकेटरों में से बेहतर कौन है, और यह चुनाव कर पाना अतिरिक्त रूप से मुश्किल है क्योंकि इस मामले में, दोनों ही खिलाड़ी अलग -अलग युगों का हिस्सा रहे है | यहां पर हम इन दोनों की तुलना करते है, एक किंवदंती डॉन ब्रैडमैन और आधुनिक युग की किंवदंती, सचिन तेंदुलकर | यह तुलना कई कारकों पर निर्भर है, और यहां पर हम इन नतीजों का सारांश कर एक सम्पूर्ण विजेता का चुनाव करते है |

जिन कारकों का विश्लेषण किया जा रहा है, वे है: भौतिक, शारीरिक, मनोवैज्ञानिक, प्रतिभा और लोकप्रियता | अंत में विजेता की खोज करने के लिए आप को अंत तक इस विश्लेषण को पढ़ना पड़ेगा |

भौतिक युद्ध

रेटिंग तालिका को अभी शून्य से शुरू किया है, इसलिए किसी विश्लेषण की आवश्यकता नहीं है | शरीर के आकार और रचना की तुलना की जाए, तो साफ़ तौर पर ब्रैडमैन ऊपर आते है, इस तथ्य के कारण कि सचिन का कद 5 फ़ीट 5 इंच है, वहीं ब्रैडमैन उनसे कुछ इंच ऊपर 5 फ़ीट 7 इंच लम्बे है | कद क्रिकेट में एक छोटा सा किरदार निभाता है, और खिलाड़ी को अधिक बड़ी पहुंच और लम्बी स्विंग देता है | तेंदुलकर की छोटी कद-काठी के कारण उन्हें अधिक संतुलन और स्थिरता का लाभ मिलता है, जो कि एक बड़ा कारक है | तेंदुलकर का वज़न करीब 60 किलोग्राम है, और हालाँकि हमारे पास ब्रैडमैन के शरीर के नाप नहीं है, दोनों में से किसी का भी वज़न अत्यधिक नहीं है | यह मामला बहुत करीब है, लेकिन अंत में ब्रैडमैन को ही विजेता चुना जाता है |

शारीरिक युद्ध

इस जंग में शारीरिक कारकों से जुड़ी छः बातों को ध्यान में रखने की ज़रुरत है, और स्पष्ट तुलना करने के लिए पर्याप्त जानकारी उपलब्ध नहीं है | ब्रैडमैन कभी किसी स्वास्थ्य परीक्षण का हिस्सा नहीं बने होंगे, और सचिन ने भी भारतीय क्रिकेट टीम के स्वास्थ्य परीक्षण सत्रों को कई बार छोड़ा होगा | किसी भी कारण से, तुलना करने के लिए कोई नतीजे नहीं है | ब्रैडमैन की फिटनेस उनके धूम्रपान (पाइप) करने से कम ज़रूर रही होगी, लेकिन उस समय पर खिलाड़ियों के लिए यह असामान्य नहीं था | एक आधुनिक खिलाड़ी को स्वस्थ रहने के फायदों के बारे में अधिक जानकारी होती है , और फिटनेस ट्रेनरों के लिए अधिक समर्थन भी है, इसलिए यह अपेक्षा की जाती है कि तेंदुलकर ब्रैडमैन से अधिक फिट होंगे | इस जंग के विजेता तेंदुलकर है |

मनोवैज्ञानिक युद्ध

यहां पर तीन मनोवैज्ञानिक/मानसिक कारक है: प्रतिक्रिया समय (मस्तिष्क प्रसंस्करण), प्रेरणा और आत्मविश्वास और दबाव की स्थिति से मुक़ाबला करना,ये सभी क्रिकेट में महत्वपूर्ण है | दोनों ही खिलाड़ियों को अपनी मानसिक ताकत के लिए जाना जाता है, हालाँकि ब्रैडमैन की आखिरी पारी एक मशहूर असफलता रहने से यह जंग तेंदुलकर ने जीत ली है |

प्रतिभा/ प्रदर्शन का युद्ध:

सभी कारकों को ध्यान में रखा जाये, तो प्रतिभा सबसे ज़रूरी है, क्योंकि प्रतिभा (और इसलिए प्रदर्शन) ही वे पैमाने है जिन पर एक क्रिकेटर को खरा उतरना पड़ता है | ब्रैडमैन के 52 के मुक़ाबले, सचिन ने पूरे 200 टेस्ट मैच खेले, लेकिन सचिन का 54 से नीचे का औसत ब्रैडमैन के 99.94 के औसत से काफी कम है | ब्रैडमैन का सर्वश्रेष्ठ स्कोर भी बड़ा था, ब्रैडमैन के 334, तेंदुलकर के नाबाद 248 के मुक़ाबले | पूरे समय के चोटी के खिलाड़ियों की विज़डेन की रैंकिंग में, जो कि सारी पारियों को ध्यान में रखखर बनायीं गयी है, ब्रैडमैन सचिन से काफी ऊपर है | इस बात को भी ध्यान में रखना चाहिए कि दोनों अलग युगों के खिलाड़ी है – ब्रैडमैन ने कभी किसी गेंदबाज़ का सामना नहीं किया जो 150 किमी/प्रति घंटा की रफ़्तार से गेंदबाज़ी करता हो, लेकिन उन्हें कम निरंतर पिचों का सामना ज़रूर करना पड़ता था | ब्रैडमैन ने अपने लगभग सारे टेस्ट (52 में से 37) इंग्लैंड के विरुद्ध खेले है, वहीं तेंदुलकर की यह औसत एक बड़ी श्रेणी की प्रतिभावान टीमों के विरुद्ध है |

गेंदबाज़ी के मामले में, सचिन ने प्रथम श्रेणी क्रिकेट में बहुत अधिक मात्रा में गेंदें डाली है और उनके आंकड़े भी इतने बढ़िया नहीं रहे है: सचिन का टेस्ट गेंदबाज़ी औसत 52 के करीब है और सर्वश्रेष्ठ आंकड़े 3/10, इसकी तुलना में ब्रैडमैन की औसत 36 की है और सर्वश्रेष्ठ 1/8 | हालाँकि, एकदिवसीय क्रिकेट में, जो कि ब्रैडमैन के समय पर नहीं खेली जाती थी, तेंदुलकर ने काफी बढ़िया प्रदर्शन किया है | अंतर्राष्ट्रीय एकदिवसीय मैचों में वे अब तक के सबसे विपुल रन-स्कोरर है और एकदिवसीय मैचों में 10,000 रनों के जादुई आंकड़े को छूने वाले पहले खिलाड़ी है |

फिर से, यहां पर कोई स्पष्ट विजेता नहीं है | लेकिन ब्रैडमैन की बेहतर बल्लेबाज़ी औसत के कारण उन्हें ही इस प्रतिभा की जंग का विजेता माना जाता है |

लोकप्रियता का युद्ध

अरबों लोगों और सैंकड़ों भगवानों के देश भारत में, तेंदुलकर को भी एक भगवान की तरह ही पूजा जाता है | सम्पूर्ण क्रिकेट जगत, जिसमे भारत भी शामिल है, यह मानता है कि ब्रैडमैन पूरे समय के सर्वश्रेष्ठ क्रिकेटर है, हालाँकि कई लोग यह भी मानते है कि सचिन ही सर्वश्रेष्ठ है | लोकप्रियता के मामले में इन दोनों में तुलना लगभग असंभव है | एक विश्वसनीय वेबसाइट द्वारा किये गए चुनाव में यह सामने आया है कि एक हीरो होने के मामले में ब्रैडमैन सचिन से काफी आगे है | इसलिए इस करीबी मामले में खिताब ब्रैडमैन को जाता है |

सर्वसमावेशी विजेता – ऊपर दी गयी चुनौतियों के विजेता है:

भौतिक – ब्रैडमैन
शारीरिक – तेंदुलकर
मनोवैज्ञानिक – तेंदुलकर
प्रतिभा – ब्रैडमैन
लोकप्रियता – ब्रैडमैन
सर्वसमावेशी – ब्रैडमैन

Summary
Review Date
Reviewed Item
Comparison - Sachin Tendulkar vs Don Bradman | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: