चहल ने लिए 6 विकेट, भारत ने इंग्लैंड को 75 रन से हराया (India beat England by 75 runs as Chahal takes 6-25)

India beat England by 75 runs as Chahal takes 6-25

भारत 202-6 (रैना 63, धोनी 56) ने इंग्लैंड 127 (रूट 42, चहल 6-25, बूमराह 3-14) को 75 रन से हराया.

यूज़वेन्द्र चहल ने सबको हैरान करते करते हुए अपने 4 ओवेरो में 25 रन देकर 6 विकेट लिए – जो की किसी भी भारतीय की टी२० क्रिकेट में सर्वश्रेष्ठ गेंदबाज़ी है, और विश्व स्तर पर तीसरी सबसे बेहतरीन गेंदबाज़ी प्रदर्शन है – जिसके दम पर इंग्लैंड की बल्लेबाज़ी की कमर टूट गई और उनका निराशाजनक भारत दौरा टी२० सीरीज़ हार कर ख़त्म हुआ. भारत के 203 रन के लक्ष्य का पीछा करते हुए इंग्लैंड ने अच्छी बल्लेबाज़ी करी, और पारी के 14वें ओवर तक वो मैच में बने हुए थे. लेकिन इसके बाद जो हुआ वो बेहद हैरान करने वाला था – इंग्लैंड ने अगली 19 गेंदों पर मात्र 8 रन के भीतर अपने बचे सारे 8 विकेट गँवा दिए और भारत को बड़ी जीत दे दी.

भारत ने ये टी२० श्रंखला 2-1 से जीती और इससे पहले टेस्ट सीरीज़ 4-0 और एकदिवसीय सीरीज़ 2-1 के अंतर से जीत चुका था जिसके चलते इंग्लैंड की टीम जो ढाई महीने से भारत में थी, खाली हाथ ही अपने घर लौटेगी. जैसा की टेस्ट और एकदिवसीय सीरीज़ में हुआ था, इंग्लैंड की स्पिन गेंदबाज़ी के सामने कमज़ोरी ही उनके पतन का कारण बनी, जिसके चलते चहल ने अपने उछाल और स्पिन में बदलाव लाकर इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों को शर्मसार कर आउट किया, और शायद अब वे अपने घर की उड़ान भरने के लिए पल पल इंतज़ार कर रहे होंगे.

भारत ने पहले बल्लेबाज़ी करते हुए सुरेश रैना (63) और महेंद्र सिंह धोनी (56) के अर्धशतकों की बदौलत 202 रन का विशाल स्कोर खड़ा कर दिया. धोनी के टी२० अंतरराष्ट्रीय करियर की 76 परियों में ये पहला अर्धशतक था. जवाब में इंग्लैंड की तरफ से फिर एक बार जेसन रॉय ना आक्रामक शुरुआत कियोर पारी के दूसरे ओवर में चहल की दूसरी ही गेंद को दर्शक दीर्घा के पर 6 रन के लिए पहुँचा दिया. लेकिन इसके कुछ ही क्षणों बाद चहल ने मैच में अपने पहला विकेट लेते हुए सॅम बिलिंग्स को सुरेश रैना के हाथों गली में कॅच करा दिया. बिलिंग्स इस मैच में इंग्लैंड की तरफ से शून्य पर आउट होने वाले 5 बल्लेबाज़ों में से पहले थे, और कोई भी दो गेंद से ज़्यादा नही खेल सका.

रूट जो की पूरी सीरीज़ में इंग्लैंड के सबसे सक्षम बल्लेबाज़ लगते आए हैं, उन्होने इस मैच में भी अच्छी बल्लेबाज़ी तो की लेकिन उनकी बल्लेबाज़ी में स्पिन के खिलाफ दबाव का एहसास साफ़ दिख रहा था. अमित मिश्रा ने ऐसे ही दबाव बनाकर रॉय को आउट कराया था और जब मॉर्गन ने सुरेश रैना के एक ही ओवर में 22 रन ठोके तब भी दूसरी तरफ से रूट शॉट्स खेलने की जल्दी में लगे. मिश्रा ने लगभग रूट को भी युवराज के द्वारा कॅच आउट करा ही दिया था लेकिन ऋषभ पंत के उत्साहित जश्न के चलते युवराज का ध्यान भंग हुआ और कैच छूट गया.

मैच के 13वें ओवर से खेल का रुख़ भारत की तरफ मुड़ा जब रैना के महेंगे ओवर के बाद मिश्रा ने रूट को आउट करने का मौका बनाते हुए किफायती गेंदबाज़ी करी. इसके बाद गेंदबाज़ी आक्रमण में वापिस लाए गए चहल ने मॉर्गन को सीमा रेखा पर कॅच आउट कराया, और रूट को अगली ही तेज़ डाली गयी फ्लिपर गेंद पर पगबाधा आउट करा दिया. इसके बाद इंग्लैंड के बल्लेबाज़ों पर रनों की बकाया दर का दबाव भारी पड़ गया. इसके अगले ओवर में जोस बटलर ने बूमराह की गेंद पर पुल शॉट खेल कर गेंद को हवा में टाँग दिया जिसे कोहली ने आराम से कैच कर उन्हें शून्य के स्कोर पर वापिस भेज दिया.

इस समय तक इंग्लैंड का स्कोर 119-2 से 119-5 हो चुका था. चहल के अगले ओवर् में मोईन अली भी ग़ैरज़िम्मेदाराना शॉट खेल कर कैच आउट हो गए और इंग्लैंड की आख़िरी उम्मीद बेन स्टोक्स भी दो गेंद बाद ही सीमा रेखा पर रैना के बेहतरीन कैच का शिकार बन गए. इसी ओवर में चहल ने जॉर्डन को स्टंप आउट करके अपना छटवा और ओवर का तीसरा विकट गिरा दिया. बूमरह ने भी अगले ओवर में शेष दो विकेट लेकर कुल 10-15 मिनट के भीतर ही मैच एकदम से ख़त्म कर दिया.

पहले बल्लेबाज़ी करते हुए भारत ने भी विराट कोहली का विकेट जल्दी गँवा दिया था. लेकिन इसके बाद रैना ना राहुल के साथ मिलकर आक्रामक शॉट खेलने शुरू किए और राहुल के आउट होने के बाद धोनी के साथ भी अर्धशतकीय साझेदारी की. रैना ने अपनी 63 रन की पारी में 5 छक्के लगाए. रैना के आउट होने के बाद धोनी ने रनों की रफ़्तार बढ़ाई और उनका युवराज ने बखूबी साथ निभाया. युवराज ने जॉर्डन के एक ओवर में 3 छक्के और एक चौका मार कर 23 रन ठोक दिए. धोनी ने भी आक्रामक बल्लेबाज़ी करते हुए अपने अंतरराष्ट्रीय टी२० करियर का पहले अर्धशतक बनाया और 56 रन 36 गेंदों में बनाकर वे आउट हुए.

Leave a Response

share on: