धोनी के योगदान को कमतर आँकने की भूल न करे भारत: एडम गिलक्रिस्ट

India should not underestimate contribution of MS Dhoni - Adam Gilchrist

हालांकि 2019 के विश्व कप में अभी भी समय बाकी है, लेकिन गिलक्रिस्ट को अभी से लगता है कि शायद ही ऐसा कोई खिलाड़ी है जो 50 ओवर के प्रारूप में झारखंड के धुआँधार खिलाड़ी की जगह ले पायेगा।

भारत के लिए महेंद्र सिंह धोनी कैसे खेलेंगे? यह भारतीय क्रिकेट के लिए बहुत बड़ा सवाल है। इंग्लैंड में होने वाले 2019 के विश्व कप के लिए तैयारियाँ शुरू हो चुकी हैं और कई लोगों ने टीम में धोनी के स्थान पर सवाल उठाये हैं, जबकि कई लोग इस विकेटकीपर-बल्लेबाज के साथ खड़े भी दिखाई देते हैं।

रिकी पोंटिंग ने बताया कि सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली में कौन बेहतर है

गुरुवार को ऑस्ट्रेलियाई दिग्गज एडम गिलक्रिस्ट, जिन्होंने विकेटकीपर-बल्लेबाज की भूमिका को फिर से परिभाषित करने की कोशिश की, ने इस मुद्दे को फिर से उछाला और चल रही बहस पर अपने विचार साझा किए।

उन्होंने दावा किया कि भारतीय क्रिकेट टीम धोनी की उपस्थिति से फायदे में ही रहती है, और यह भी कहा कि पूर्व भारतीय कप्तान के अनुभव का गलत मूल्यांकन नहीं होना चाहिए।

गिलक्रिस्ट ने पीटीआई को बताया, “मुझे लगता है कि वे (भारतीय टीम) उनके (धोनी) आस पास रहने भर से ही उनके अनुभव से काफी फायदे में रहते हैं। मुझे लगता है कि उनके अनुभव और कौशल को नजरअंदाज करने के गलती नहीं होनी चाहिए।

स्टीव स्मिथ ने अपनी ड्रीम टीम में विराट कोहली को नहीं रखा

गिलक्रिस्ट ने यह भी कहा कि धोनी अभी भी बिना किसी परेशानी के 3 से 7 तक किसी भी स्थिति में बल्लेबाजी कर सकते हैं।

“मुझे लगता है कि वह (धोनी) इतने बहुमुखी हैं कि वह 3 से 7 नंबर के बीच कहीं भी खेल सकते हैं और जब भी वह आएँगे, असरदार ही रहेंगे। इसलिए भारतीय टीम में वो लचीलेपन आ जाता है। इस तरह एमएस ने अपने पूरे करियर के दौरान टीम के लिए विकल्प खुले रखे हैं।”

“मैं पिछले 12 महीनों के आँकड़ों से तो अवगत नहीं हूँ, लेकिन मुझे नहीं लगता कि उनपर जब भी टीम की नैया पार लगाने की जिम्मेदारी आयी होगी, तो वह पीछे हटे होंगे। मुझे विराट (कोहली) और बाकी सभी भारतीय खिलाड़ियों के अंदर भरे जुनून और उनकी आक्रामकता से प्यार है। अनुभव और आक्रामकता दोनों का संतुलित होना हमेशा अच्छा होता है,” गिलक्रिस्ट ने कहा।

हालांकि, 2019 के विश्व कप में अभी भी समय बाकी है, लेकिन गिलक्रिस्ट को अभी से लगता है कि शायद ही ऐसा कोई खिलाड़ी है जो 50 ओवर के प्रारूप में झारखंड के धुआँधार खिलाड़ी की जगह ले पायेगा।

उन्होंने कहा, “धोनी को पता होगा कि क्या वह 2019 का विश्व कप खेलने को तैयार हैं या नहीं, या वह वहाँ तक पहुँचने के लिए उतने बलिदान देने को तैयार हैं या नहीं।”

लेकिन फिर उन्होंने एक और शानदार प्रश्न पूछा।

“मुद्दे की बात यह भी है कि क्या टीम के पास एमएस का विकल्प मौजूद है, कोई ऐसा खिलाड़ी जो टीम के लिए उतनी ही जिम्मेदारियाँ उठाने को तैयार हो। मैं इसका जवाब नहीं दे सकता क्योंकि मुझे पता नहीं है। टीम के पास कई रोमांचक विकेटकीपर-बल्लेबाज़ हैं, लेकिन मुझे नहीं पता कि क्या वे एमएस जितना या उनसे ज्यादा मूल्यवान साबित होंगे। विश्व कप अभी भी 18 महीने दूर है और इस दौरान बहुत कुछ हो सकता है, “उन्होंने कहा।

उन्होंने कहा, “मेरा मानना ​​है कि एमएस वही निर्णय लेंगे जो भारतीय क्रिकेट के लिए सही होगा। इसमें अभी काफी समय है, लेकिन याद रखिए कि उनके पास अनुभव की कमी नहीं है,” उन्होंने याद दिलाया।

भारतीय कप्तान विराट कोहली के अब तक 49 अंतरराष्ट्रीय शतक हो चुके हैं और गिलक्रिस्ट ने कहा कि सभी बल्लेबाजी रिकॉर्ड खतरे में हैं।

उन्होंने कहा, “मुझे लगता है कि सभी प्रारूपों के बल्लेबाजी रिकार्ड्स खतरे में हैं। यह असाधारण है। वह एक विश्वस्तरीय बल्लेबाज हैं। अगर वह सभी बल्लेबाजी रिकॉर्ड न भी तोड़ पाये, तो वह निश्चित रूप से उन सभी के करीब तो पहुँच ही जायेंगे,” उन्होंने कहा।

एक शानदार करियर में धोनी ने क्रमशः 90 टेस्ट, 309 एकदिवसीय और 82 टी20 मैच खेले हैं, जिनमें उन्होंने क्रमशः 4876, 9826 और 1232 रन बनाये हैं।

एक उत्कृष्ट फिनिशर होने के अलावा वह कई विकेटकीपिंग रिकॉर्ड भी अपने नाम रखते हैं।

Source: Adam Gilchrist warns India not to underestimate MS Dhoni’s contribution

Summary
Review Date
Reviewed Item
India should not underestimate contribution of MS Dhoni - Adam Gilchrist
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: