भारत बनाम पाकिस्तान क्रिकेट क्यों है इतना रोमांचक?

India vs Pakistan Cricket saga

वो सब कुछ जो आपको जानना चाहिए एक ऐसे मैच के बारे में जिसे 1 अरब से ज़्यादा लोग देखते हैं

भारत पाकिस्तान के मैच में बड़ी बात क्या है?

भारत-पाकिस्तान की क्रिकेट में प्रतिद्वंद्वता क्रिकेट में सब से तीव्र है. इन दोनों देशों के बीच संघर्ष और शत्रुता का एक इतिहास है, और क्रिकेट में भी ये भावना दोनों देशों के राजनैतिक हालातों से उबरी है. क्रिकेट दोनों ही देशों में सब से लोकप्रिय खेल है, और जब भी भारत पाकिस्तान का क्रिकेट मैच होता है तो उसे लगभग 1 अरब लोग देखते हैं – अनुमान है की 2011 विश्व कप का सेमि फाइनल मुकाबला लगभग 98.8 करोड़ लोगों ने देखा था.

क्या यह एक दुर्लभ घटना है?

भारत और पाकिस्तान सालों के अंतराल में कभी कभार आईसीसी द्वारा आयोजित बड़े टूर्नामेंट (जैसे विश्व कप, चैंपियंस ट्रॉफी, टी 20 विश्व कप) में एक दूसरे के खिलाफ खेलते हैं. ऐसे मैचों का प्रचार अलग ही चरम पर होता है क्योंकि राजनीतिक तनाव का कारन पिछले 10 सालों में भारत पाकिस्तान ने कभी कोई श्रंखला नहीं खेली.

भारत-पाकिस्तान क्रिकेट प्रतिद्वंद्विता की उत्पत्ति क्या है?

1947 से पहले पाकिस्तान भी भारत का ही हिस्सा था जिसे ब्रिटिश भारत भी कहा जाता था. ब्रिटिश शासन के समाप्त होने के बाद दो देश – भारत और पाकिस्तान – बनाए गए, जिसका मूल उद्देश्य हिन्दू और मुस्लमान राष्ट्र बनाना था. इस विभाजन के कारण लाखों लोगों की हत्या हुई जो अपनी पसंद के देश में जाना चाहते थे. इसके बाद से भारत पाकिस्तान से 4 बार युद्ध में सफलता प्राप्त कर चूका है, और सम्पूर्ण विश्व में पाकिस्तान को एक आतंकवादी देश के रूप में देखा जाता है (विश्व क्रिकेट की कोई भी टीम पाकिस्तान में जाकर क्रिकेट नहीं खेलती है).

तो क्या क्रिकेट प्रतिद्वंद्विता राजनीतिक संघर्ष का विस्तार है?

इसमें कोई दो राय नहीं की राजनीतिक तनाव के कारण ही भारत पाकिस्तान की क्रिकेट में दुश्मनी शुरू हुई लेकिन कुछ वर्षों बाद इस प्रतिद्वंद्वता ने अपना खुद एक इतिहास बना लिया है. ऐसे बहुत बार देखने को मिला है जब दोनों टीमों ने कड़ा मुकाबला किया और अनेक रोमांचक मैच खेले.

एक-दूसरे के प्रति प्रशंसकों का रवैया क्या है?

जहाँ अधिकतर प्रशंसक दूसरी टीम को अपने दुश्मन के रूप में देखते हैं और ऐसी ही भावना व्यक्त करते हैं वहीँ कई मौको पर प्रशंसकों द्वारा दूसरी टीम के लिए ज़बरदस्त सम्मान भी देखने को मिला है. इसका प्रमाण है भारत में कई पाकिस्तानी खिलाडियों की लोकप्रियता और पाकिस्तान में भारतीय खिलाडियों की. कई जानकारों का मानना है की क्रिकेट ने कई बार राजनीतिक तनाव को कम करने का, और संवाद स्थापित करने का कार्य किया है, क्योंकि दोनों देशों में कई सांस्कृतिक समानताएं हैं. क्रिकेट दौरों को कई बार दोनों देशों के बीच दोस्ती बढ़ाने के प्रयास के रूप में देखा गया है.

इस प्रतिद्वंद्वता का एक हिस्सा वो कहानियां भी है जहाँ एक देश के लोगों ने दूसरे देश से आये प्रशंसकों का खुले दिल से आदर सत्कार किया, और मैदान पर कई बार विरोधी खिलाड़ियों के अच्छे प्रदर्शन की सराहना की. उदाहरण के तौर पर जब दिग्गज पाकिस्तानी खिलाड़ी शाहिद अफरीदी ने क्रिकेट से संन्यास लिया तो पूरी भारतीय टीम ने एक टी-शर्ट उन्हें हस्ताक्षर कर भेंट की.

कीर्तिमानों के नज़रिये से किस टीम का पलड़ा भारी रहता है?

भले ही पिछले कुछ सालो में भारत ने पाकिस्तान को कई बार पटका है, लेकिन कुल मैचों की संख्या में अब भी पाकिस्तान भारत से आगे है. एकदिवसीय क्रिकेट मुकाबलों में पाकिस्तान ने भारत के 52 की तुलना में कुल 72 मैच जीते हैं. 1980 के दशक के अंत में पाकिस्तान आसानी से भारत को हरा दिया करता था, वहीँ 1990 और 2000 के पहले भाग में दोनों टीमें संतुलन में बराबर थी लेकिन पाकिस्तान ज़्यादा बार जीता. 2007 के बाद से ये कहानी पलट गई, और पिछले 10 सालों में भारत ने हर बार पाकिस्तान को कई शर्मनाक शिकस्त दी हैं.

कौन है दोनों में से जीत का प्रबल दावेदार?

भारत इस में पसंदीदा टीम के रूप में दिखता है क्योंकि पिछले 7 सालों से विश्व क्रिकेट की सबसे सफल टीमों में से एक रहा है. पाकिस्तान की टीम हर श्रंखला में एक कमज़ोर वर्ग के रूप में शुरुआत करती है लेकिन उनकी सबको हैरान कर देने की क्षमता सर्वव्यापी है और अपने दिन पर वे कितना भी बड़ा उलटफेर करने में सक्षम हैं. विश्व स्तरीय क्रिकेट श्रंखलाओं में भारत ने पाकिस्तान को 13 बार हराया है जब की पाकिस्तान केवल 2 बार ही भारत को हरा पाया है.

किन खिलाड़ियों पर नज़र रहती है?

भारतीय कप्तान विराट कोहली को कई क्रिकेट विशेषज्ञ विश्व का नंबर 1 बल्लेबाज़ मानते हैं. विराट शायद दुनिया के सबसे प्रसिद्द क्रिकेटर भी हैं – ट्विटर पर उनके 1.5 करोड़ से ज़्यादा प्रशंसक हैं. पाकिस्तान की मौजूदा टीम में ज़्यादा बड़े नाम तो नहीं हैं लेकिन तेज़ गेंदबाज़ मोहम्मद आमिर और हसन अली काफी सुर्खियां बटोर चुके हैं.

Summary
Review Date
Reviewed Item
India vs Pakistan Cricket saga | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: