सांख्यिकीय विश्लेषण: रविचंद्रन अश्विन बनाम हरभजन सिंह

Ravichandran Ashwin vs Harbhajan Singh

जैसे रविचंद्रन अश्विन आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी 2017 में गेंदबाज़ी करने जा रहे थे, ये गौर किया गया कि उनके खेलने के अंदाज़ में कुछ बदलाव थे | बल्लेबाज़ आसानी से उनका सामना कर पा रहे थे और वे विविधताएं जिनकी डींगें वे टूर्नामेंट की शुरुआत में हांक रहे थे वे साधारण सी ही थी और टी.वी पर उनको गेंदबाज़ी करते देख रहे दर्शक भी इन्हें पढ़ पा रहे थे |

भारत के विजयी टेस्ट सीज़न के दौरान टीम के सबसे घातक और सफल स्पिन गेंदबाज़ों में से एक, चैंपियंस ट्रॉफी में उनसे बहुत बढ़िया प्रदर्शन की उम्मीदें थी | हालाँकि, अपने सबसे बेहतरीन पलों में भी वे विरोधी बल्लेबाज़ों के सामने अनुभवहीन नज़र आये |

टूर्नामेंट के दौरान उन्हें गेंदबाज़ी करते देख हर कोई इस बात पर सवाल खड़े करने को मजबूर हो गया था कि अश्विन विदेशी पिचों और सीमित-ओवरों के प्रारूप में कितने सक्षम है |

भारतीय समर्थकों के एक बहुत बड़े हिस्से को ऐसा लगा था कि 37-वर्षीय हरभजन सिंह चैंपियंस ट्रॉफी में अश्विन से बेहतर प्रदर्शन कर पाते और समर्थकों की यह सोच भी थी कि वे टी-20 प्रारूप में अश्विन की जगह ले ले |

हालाँकि हरभजन ने आखिरी बार भारत के लिए किसी भी प्रारूप में मैच 2016 में एशिया कप के दौरान यूएई के विरुद्ध खेला था, घरेलु स्तर पर और भारतीय प्रीमियर लीग में उन्होंने काबिलेतारीफ प्रदर्शन किया है |

37 की उम्र में, शायद भज्जी के पास खेलने के लिए बहुत साल न बचे हो और इसलिए वे संन्यास लेने से पहले एक और बार भारत की ओर से खेलने को तत्पर होंगे | अश्विन की फॉर्म में आयी गिरावट और युवराज सिंह और एम एस धोनी जैसे अन्य वरिष्ठ खिलाड़ियों को बार-बार मौका मिलते देख यह लगता है कि हमें शायद टर्बनेटर को वापस खेलते देखने का मौका मिल ही जायेगा |

    रिकी पोंटिंग बनाम हरभजन सिंह

अश्विन और हरभजन ने साथ मिलकर बहुत मैच नहीं खेले है और दोनों को साथ में गेंदबाज़ी करते देखने का मौका हमें बहुत बार नहीं मिला है | इस लेख की सहायता से, हम विभिन्न प्रारूपों में उनके आंकड़ों पर गौर करेंगे और तुलना करके यह नतीजा निकालेंगे कि बेहतर गेंदबाज़ कौन है |

टेस्ट क्रिकेट

रविचंद्रन अश्विन:

Ravichandran-Ashwin-Test-records-in-Hindi
Ravichandran-Ashwin-Test-records-in-Hindi

हरभजन सिंह:

Harbhajan-Singh-test-records-in-Hindi
Harbhajan-Singh-test-records-in-Hindi

आंकड़ों से यह साफ़ है कि टेस्ट मैचों में अश्विन हरभजन सिंह से काफी बेहतर गेंदबाज़ है | भज्जी से लगभग 50 टेस्ट कम खेलने वाले अश्विन, भज्जी से केवल 150 विकेट पीछे है और आने वाले सालों में उनसे काफी आगे निकल सकते है |

हालाँकि, पिछले कुछ सालों में, भारत में बनायी गयी पिचों की कड़ी निंदा की गयी है क्योंकि पहले ही दिन से वे काफी स्पिन पैदा करती है | इन ‘रैंक टर्नरों’ ने अश्विन की काफी मदद की है क्योंकि उन्होंने ऐसे पिचों पर ही अपने बहुत से विकेट चटकाए है |

    ज़हीर खान बनाम जवागल श्रीनाथ: एक सांख्यिकीय तुलना

हरभजन ने भी ऐसे पिचों पर काफी विकेट लिए है जो की उनकी सहायता करती हो लेकिन सपाट पिचों पर भी उन्होंने काफी विकेट लिए है जहा उन्होंने गेंद को खुद ही उछाल और गति प्रदान कर शिकार किये है |

एकदिवसीय क्रिकेट

रविचंद्र अश्विन:

Ravichandran-Ashwin-ODI-records-in-Hindi
Ravichandran-Ashwin-ODI-records-in-Hindi


हरभजन सिंह:

Harbhajan-Singh-ODI-records-in-Hindi
Harbhajan-Singh-ODI-records-in-Hindi

एकदिवसीय क्रिकेट की संख्याएं हमें एक दिलचस्प तुलना दिखाती है, और टेस्ट मैचों से काफी भिन्न है | घर पर, फिर से आंकड़े अश्विन की ओर झुके हुए है और वे लगभग हर पहलू में अपने वरिष्ठ खिलाड़ी से आगे है |

गौर करने की बात ये है कि हरभजन सिंह अश्विन से ज़्यादा किफायती रहे है और ये बात सीमित-ओवरों के प्रारूप में ज़्यादा मायने रखती है | और-तो-और अश्विन ने अभी तक एकदिवसीय क्रिकेट में एक बार भी 5 विकेट नहीं लिए है |

    पोंटिंग ने सचिन और लारा में से ज़्यादा महान किसे माना?

अंतर्राष्ट्रीय टी 20

रविचंद्रन अश्विन:

Ravichandran-Ashwin-T20-records-in-Hindi
Ravichandran-Ashwin-T20-records-in-Hindi

हरभजन सिंह:

Harbhajan-Singh-T20-records-in-Hindi
Harbhajan-Singh-T20-records-in-Hindi

यदि इस तथ्य पर गौर किया जाए कि हरभजन सिंह ने घरेलु मैदानों पर केवल 2 ही टी 20 मैच खेले है, तो ये ज़ाहिर है कि उनके आंकड़ों की तुलना अश्विन के साथ नहीं की जा सकती | हालाँकि, हम यदि विदेशी आंकड़ों की तुलना करे, तो वे काफी प्रतिस्पर्धात्मक है |

अश्विन और हरभजन दोनों ही लगभग एक से मैचों में 24 का औसत रखते है |अश्विन की स्ट्राइक रेट बेहतर है वहीं भज्जी की इकॉनमी रेट अश्विन से कम है, जो कि ज़ाहिर तौर पर, बेहतर है |

यदि हम इन सालों में दोनों के आईपीएल प्रदर्शन पर भी ध्यान दे, तो हरभजन अश्विन से ज़्यादा किफायती सामने आते है |

निष्कर्ष:

इनके आंकड़ों को देखा जाए, तो यह फैसला कर पाना मुश्किल है कि इन दोनों में से बेहतर ऑफ-स्पिनर कौन है | जब अश्विन ने हरभजन जितने मैच खेल लिए हो और जब दोनों ही संन्यास ले चुके हो, तब शायद एक बेहतर गेंदबाज़ की तस्वीर और साफ़ दिखाई दे |

चूँकि अश्विन वर्तमान में तीनों प्रारूपों की टीमों का हिस्सा है और हरभजन किसी भी प्रकार का अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट नहीं खेल रहे है, हरभजन को खेल के छोटे प्रारूपों में प्राथमिकता दी जानी चाहिए |

क्योंकि उनके करियर में कुछ ही साल बाकी रह गए है, हरभजन खेल को अभी भी बहुत कुछ दे सकते है, खासकर की टी20 में | विरोधियों को दबाव में रखने और नियमित अंतराल पर विकेट लेने की उनकी खूबी भारतीय दल के लिए एक बड़ी खुशखबरी साबित हो सकती है |

Summary
Review Date
Reviewed Item
Ravichandran Ashwin vs Harbhajan Singh | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: