वीरेंद्र सहवाग और राशिद लतीफ़ हाल ही में शब्दों के युद्ध में शामिल हुए

Sehwag vs Rashid Latif on Twitter

भारत के पूर्व ताबड़तोड़ सलामी बल्लेबाज़ वीरेंद्र सहवाग भले ही क्रिकेट के खेल से संन्यास ले चुके हो लेकिन उन्हें इस खेल से कोई दूर नहीं रख सकता | उनके खेलने के दिनों के दौरान, वे बल्ले से अपने बेख़ौफ़ अंदाज़ के लिए मशहूर थे |

विश्व के सबसे घातक बल्लेबाज़ों में से एक, उन्होंने विश्व क्रिकेट के लगभग हर गेंदबाज़ी आक्रमण की कभी-न-कभी धज्जियां उड़ाई है | वो चीज़ें सरल रखते थे और इस चमड़े की गेंद से निपटने का उनके पास बस एक तरीका था – ‘बॉल को देखो…और उसे मारो |’

लगभग 2 साल पहले क्रिकेट के हर प्रारूप से संन्यास लेने के बाद सहवाग ने अपने कई साथी-खिलाड़ियों की तरह ही क्रिकेट कमेंट्री शुरू कर दी है | और बस तभी से, सहवाग ने उसी तरह हाथ में माइक लेकर अपने प्रशंसकों का मनोरंजन करना शुरू कर दिया है, जैसा कि वे कभी बल्ले से किया करते थे | और-तो-और सूक्ष्म-ब्लॉगिंग वेबसाइट ट्विटर पर भी सहवाग अक्सर ही मज़ेदार ट्वीट करते हुए पाए जाते है | समय के हर छोटे अंतराल के बाद उनकी टिप्पणियां चर्चा का विषय बन जाया करती है |

हाल ही में, भारत और पाकिस्तान के बीच खेले गए चैंपियंस ट्रॉफी 2017 के मैच के बाद भी वे एक बड़ा ही हसीजनक सन्देश लेकर ट्विटर पर आये | सहवाग ने ट्वीट किया: पोते के बाद बेटे | कोई बात नहीं बेटा, अच्छी कोशिश थी ! भारत को अभिनन्दन ! #बाप बाप होता है # इंडिया विरुद्ध पाक

हालाँकि, पूर्व पाकिस्तानी क्रिकेटर राशिद लतीफ़ को सहवाग की यह बात कुछ जमी नहीं | सहवाग के इस ट्वीट पर गुस्सा उतारते हुए उन्होंने एक वीडियो जारी की जो कि सोशल नेटवर्किंग साइटों पर वायरल हो चुकी है | लतीफ़ ने बिलकुल भी हाथ नहीं खींचे और इस पूर्व भारतीय सितारा खिलाड़ी पर अपशब्दों का इस्तेमाल करते पाए गए है |
इस मामले पर भारतीय क्रिकेट के प्रशंसक सहवाग का जवाब जानने के लिए बहुत उत्सुक थे | इस बारे में सहवाग ने प्रतिकार करने के बजाये शान्ति बनाये रखने का निर्णय लिया और ट्विटर की मदद से कहते हुए पाए गए: “एक सार्थक मौन हमेशा ही व्यर्थ के शब्दों से बेहतर होता है |”

Summary
Review Date
Reviewed Item
Sehwag vs Rashid Latif on Twitter | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: