अश्विन का नियंत्रण ही उन्हें अलग करता है – शाकिब (Shakib believes Ashwin control makes him special)

Shakib believes Ashwin control makes him special

शाकिब अल हसन बल्ले और गेंद दोनों के साथ अपनी टीम के लिए निर्णायक भूमिका निभाते हैं।

शाकिब अल हसन आर अश्विन के साथ स्पिन की लड़ाई के बारे में नहीं सोच रहे हैं। वह इसके बजाय इस चीज पर ध्यान केंद्रित कर रहे हैं की कैसे वह बांग्लादेश के लिए सबसे अच्छा योगदान कर सकते हैं। मेहमान टीम ने यह दोहराया है कि इस छोटे दौरे पर उनका ध्यान एक टीम के रूप में अच्छी तरह प्रदर्शन करने पर है तब जब उनके बल्लेबाज़ और गेंदबाज़ लय में हैं।

शाकिब की भूमिका दोनों पहलुओं में खेलने की है: वे एक जादूई गेंदबाज़ी स्पैल से खेल का पाठ्यक्रम बदल सकते हैं जबकि एक तेज़ पारी से बांग्लादेश के लिए बड़े स्कोर की स्थापना में मदद कर सकते हैं। यह दोनों न्यूजीलैंड में हुआ, लेकिन दोनों ही प्रदर्शन टीम के लिए एक बेहतर परिणाम नहीं दे पाए और वे दोनों टेस्ट हार गए।

“यह हर किसी के लिए एक चुनौती है,” शाकिब ने कहा। “मान लें, आपने 250 रन बनाए और आपके गेंदबाज़ अच्छी तरह प्रदर्शन करते हैं, तो 250 रन भी बहुत रन हैं। लेकिन फिर आप 500 रन बनाते हैं, लेकिन आपके गेंदबाज़ उतने ही रन भी दे देते हैं। इसलिए जब हर कोई योगदान देता है तो टीम अच्छा प्रदर्शन कर सकती है। टीम केवल एक क्षेत्र के भरोसे नहीं जीत सकती। न्यूजीलैंड में यही हुआ, एक दिन हमने अच्छी बल्लेबाज़ी की और दूसरे दिन हमने अच्छी गेंदबाज़ी की – लेकिन कोई संयुक्त योगदान नहीं रहा।”

उन्होंने टीम के एक इकाई के रूप में प्रदर्शन सुनिश्चित करने के लिए खिलाड़ियों की सामूहिक जिम्मेदारी पर जोर दिया। “हर किसी का इसमें एक योगदान है, और उनका भी जो नए थे। हर किसी की जिम्मेदारी है,” आखिरी शब्द पर बल देते हुए उन्होंने कहा।

शाकिब बांग्लादेश के गेंदबाज़ी आक्रमण का केन्द्र बिन्दु हैं जैसे आर अश्विन भारत के लिए हैं। जहां शाकिब का दृष्टिकोण भारतीय ऑफ स्पिनर से अलग है, अटैक कुछ समानताओं में से एक है जो वे साझा करते हैं।

एक आल-राउंडर खिलाड़ी के रूप में शाकिब की भूमिका ने उन्हें ज्यादा सफलता अर्जित कराई है लेकिन उन्होंने अश्विन के साथ किसी भी तुलना को खारिज कर दिया, अपनी बल्लेबाज़ी पर ध्यान केंद्रित करने और पिछले छह साल में टेस्ट क्रिकेट के बांग्लादेश के आम तौर पर कम खेले जाने की बात कही। शाकिब ने पिछले तीन साल में एक स्पिनर के रूप में अश्विन की वृद्धि के लिए तारीफ की, उनके अच्छे नियंत्रण की बात कही।

“कोई प्रतिस्पर्धा नहीं है,” शाकिब ने हैदराबाद में कहा, जहां 9 फरवरी से टेस्ट खेला जाएगा। “मैं इसे इस तरह से नहीं लेता हूं और न ही वे लेते हैं। वास्तव में मुझे लगता है की इस बारे कोई इस तरह नहीं सोचता है। वह अपनी ओर से अच्छा कर रहे हैं और मैं अपनी ओर से अच्छा करने की कोशिश कर रहा हूँ।
जितना बेहतर मैं करूंगा उतनी अधिक मदद टीम को मिलेगी। हर एक खिलाड़ी का महत्व हर टीम के लिए अलग है। जिस भूमिका में मैं हूं मुझे खुशी होगी की मैं अपनी टीम के लिए योगदान कर सकुं।

“वह [अश्विन] पिछले 2-3 साल से भारत के लिए वास्तव में अच्छी गेंदबाज़ी कर रहे हैं। उनका नियंत्रण उन्हें अलग करता है। वह गेंद के साथ जो करना चाहते हैं करते हैं। अगर आप ऐसा कर सकते हैं, तो आपको एक गेंदबाज़ के रूप में कुछ भी करने की जरूरत नहीं है। उनका नियंत्रण और विश्वास ही उन्हें नंबर-1 गेंदबाज़ बनाता है।”

यदि बांग्लादेश भारत में टेस्ट मैच में एक प्रभाव बनाना चाहता है तो शाकिब अल हसन को मेहदी हसन मिराज़ जैसे अन्य स्पिनरों के समर्थन की आवश्यकता होगी।


रविचंद्रन अश्विन – भारत – रिकौर्ड़स (Ravichandran Ashwin Records)

बांग्लादेशी टीम में अपनी अलग भूमिका के बावजूद, सभी क्षेत्रों और स्वरूपों में एक गेंदबाज़ के रूप में शाकिब के महत्व पर थोड़ा संदेह है। इंग्लैंड के खिलाफ पिछले साल अक्टूबर में, उन्होंने विपक्ष को रोकने और लगातार एक ही लाइन और लेंथ पर ध्यान देने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई थी। यहाँ तक की क्राइस्टचर्च में पिछले महीने, जहां न्यूजीलैंड के बाएं हाथ के स्पिनर मिशेल सेंटनर ने एक भी ओवर नहीं फेंका, शाकिब के तीन विकेट ने बांग्लादेश के लिए दूसरे दिन भी उम्मीद बनाए रखी।

उन्होंने पिछले कुछ वर्षों में यह दिखाया है कि वह गेंदबाजी में लंबे स्पैल डाल सकते हैं और उनकी इस अद्भुत प्रदर्शन ने बांग्लादेशी गेंदबाज़ी को काफी फायदा पहुंचाया है।
मेहदी हसन मिराज़ और तैजूल इस्लाम गेंदबाज़ी आक्रमण में अच्छे विकल्प हैं, और दोनों को लंबे गेंदबाज़ी स्पैल डालने की ज़रूरत पड़ सकती है जो बांग्लादेश को खेल नियंत्रित करने के लिए और भारत के फार्म में चल रहे बल्लेबाज़ों को उनसे मैच दूर न ले जाने में मदद कर सकते हैं।

शाकिब ने स्वीकार किया कि सबसे बड़ी चुनौती भारत के बल्लेबाज़ों को रोकना है। आपको यह भी सोचना है कि वे अच्छी तरह से स्पिन खेलते हैं,” उन्होंने कहा। “मुझे लगता है कि वे स्पिन खेलने में सबसे अच्छे हैं, तो यह हमारे लिए एक बड़ी चुनौती होगी। यदि हम यहाँ अच्छी तरह से कर सकते हैं, तो यह श्रीलंका सीरीज के लिए हमारे आत्मविश्वास को बढ़ावा देगा।”

बांग्लादेश की गेंदबाज़ी इकाई एक छोर से जहां शाकिब पर मेहदी, तैजूल के साथ निर्भर करेगी वहीं तेज़ गेंदबाज़ी खेल में
आक्रमण को अपने नियंत्रण में लाने की कोशिश करेगी। जैसा कि शाकिब ने कहा, ज़रूरी नहीं की पूरा दारोमदार हमेशा उनके ही उपर डाल देना चाहिये, और जिम्मेदारियां टीम द्वारा साझा किया जाना चाहिए।

Leave a Response

share on: