उमेश यादव, एक समय जो एक महत्वाकांक्षी कांस्टेबल थे, आज आरबीआई ऑफिसर बन गए हैं

Umesh Yadav becomes RBI officer

हाइलाइट्स

उमेश को शहर की शाखा में सहायक प्रबंधक नियुक्त किया गया है।

चैंपियंस ट्रॉफी से पहले ही इस पर वार्ता चल रही थी। मई में इंग्लैंड जाने से पहले उन्होंने आरबीआई के अधिकारियों से मुलाकात भी की थी।

10 साल पहले उमेश ने पुलिस विभाग में कॉन्स्टेबल के पद पर बहाली के लीज परीक्षा की तैयारी की थी।

एक दशक पहले तिलक यादव अपने सबसे छोटे पुत्र उमेश यादव को सरकारी नौकरी में भेजना चाहते थे। उमेश ने पुलिस विभाग में कॉन्स्टेबल के पद पर बहाली के लिए परीक्षा की तैयारी की थी।

उमेश यादव से जुड़े 10 तथ्य – विदर्भ एक्सप्रेस

दुर्भाग्यवश, वह परीक्षा पास नहीं कर सके और कुछ ही नम्बरों से चूक गए। एक दशक बाद उमेश – जो वर्त्तमान में विश्व क्रिकेट के अग्रणी तेज गेंदबाजों में से एक हैं – को एक बेहतर सरकारी नौकरी मिल गई है।

उन्हें भारतीय रिजर्व बैंक (आरबीआई), नागपुर कार्यालय में सहायक प्रबंधक के रूप में नियुक्त किया गया है। 29 साल की उम्र के इस खिलाड़ी ने शामिल होने से पहले औपचारिकताएं पूरी कीं। इसके बाद वह श्रीलंका दौरे के लिए अपने साथियों के साथ चले गए।

“चैंपियंस ट्रॉफी से पहले से यह वार्ता चल रही थी। उन्होंने मई में इंग्लैंड जाने से पहले आरबीआई के अधिकारियों से मुलाकात की थी। अधिकारियों ने खेल कोटे से उनकी नियुक्ति तय कर दी थी लेकिन राष्ट्रीय कर्तव्यों की वजह से वह औपचारिकताओं को पूरा नहीं कर पा रहे थे।”

शिखर धवन – भारत – रिकॉर्ड

जब उमेश को 2008 में विदर्भ शिविर के लिए बुलाया गया था, तब तत्कालीन कप्तान प्रीतम गंधे सीधे उन्हें एयर इंडिया ले गए थे, जहां उन्हें अपना पहला अनुबंध मिला। हालांकि, अच्छा प्रदर्शन करने के बावजूद एयर इंडिया ने उन्हें एक स्थायी नौकरी नहीं दी।

उन्होंने कहा, “उन्हें सीधे स्थायी नौकरी मिलनी चाहिए थे, लेकिन चीजें उस तरह से नहीं हो पाईं। वह हमेशा किसी प्रतिष्ठित संगठन का प्रतिनिधित्व करना चाहते थे। यही कारण था कि उन्होंने जल्दबाजी नहीं की। और आज उन्हें वह मिल गया है जिसका उन्हें इंतेजार था।”

एक सूत्र ने कहा, “वह आरबीआई की तुलना में और बेहतर सरकारी संगठन नहीं ढूंढ सकते थे। हालांकि वह आर्थिक रूप से सुरक्षित हैं – वर्तमान पीढ़ी के अधिकांश क्रिकेटर आईपीएल की वजह से आर्थिक रूप से मजबूत हैं, लेकिन एक स्थायी नौकरी करना हमेशा अच्छा होता है।”

मोहम्मद शमी – भारत – रिकॉर्ड

विदर्भ एक्सप्रेस के नाम से जाने जाने वाले खिलाड़ी ने 2016-17 सत्र में शानदार फिटनेस, वास्तविक गति, बेहतरीन नियंत्रण और सबसे महत्वपूर्ण- परिपक्वता का प्रदर्शन किया। उन्होंने लगातार 12 टेस्ट मैच खेले, जबकि अन्य तेज गेंदबाजों को कई चोटें लगीं। उन्होंने नई गेंद को स्विंग कराया और पुरानी गेंद को रिवर्स स्विंग भी।

पिछले सत्र में 400 ओवर के करीब गेंदबाजी करने के बावजूद उनकी गति में कोई कमी नहीं आयी। किसी भी स्तर पर उनमें थकान का कोई संकेत नहीं था। उन्होंने सीजन के आखिरी पड़ाव में भी 140 किमी की रफ़्तार को नियमित रूप से छुआ। अब वह उसी प्रदर्शन को जारी रखने की कोशिश करेंगे, जब टीम इंडिया सत्र में आगे की चुनौतियों का सामना करेगी।

Source: Once an aspiring constable, Umesh Yadav now RBI officer

Summary
Review Date
Reviewed Item
Umesh Yadav becomes RBI officer | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: