विराट को सर्वकालिक महान खिलाड़ी के रूप में याद किया जायेगा: सौरव गांगुली

Virat will be remembered as a legend says Ganguly

सौरव गांगुली बंगाल के आइकन हैं और अपने दिनों में वह गेंदबाज़ों के छक्के छुड़ाने के लिए जाने जाते हैं। सेवानिवृत्ति के बाद वह अपने साप्ताहिक क्विज शो ‘दादागिरी’ के साथ दुनिया भर में मौजूद लाखों बंगालियों का ध्यान आकर्षित करने में भी सफल रहे हैं। आईबीएनएस कनाडा के सुमन दास और सुदीप्तो मैती के साथ एक स्पष्ट बातचीत में पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान ने अपने सच्चे प्यार क्रिकेट और अन्य चीजों के बारे में खुल कर बातें की।

रिकी पोंटिंग ने बताया कि सचिन तेंदुलकर और विराट कोहली में कौन बेहतर है

वर्तमान भारतीय क्रिकेट टीम को आप किस तरह से देखते हैं?

विराट कोहली के नेतृत्व में वे इस समय दुनिया की सर्वश्रेष्ठ टीमों में से एक हैं।

आप 2019 के क्रिकेट विश्व कप में उनकी संभावनाओं के बारे में क्या सोचते हैं?

भविष्यवाणी करना थोड़ा जल्दी होगी, लेकिन भारत के पास वहाँ एक अच्छा मौका होगा। हाल ही में उन्होंने चैंपियंस ट्रॉफी के फाइनल में भाग लिया, हालांकि वे पाकिस्तान से हार गए। उन्हें हमेशा एक मौका मिलेगा। वे बहुत अच्छा क्रिकेट खेलते हैं। इस देश में क्रिकेट इतना बड़ा खेल है और इतनी अच्छी तरह से सुनियोजित किया जाता रहा है कि भारत हमेशा अच्छी टीमों का उत्पादन करता रहेगा।

ड्रेसिंग रूम की 11 ऐसी कहानियाँ जिन्होंने भारतीय खिलाड़ियों का अलग रूप प्रदर्शित किया

विराट कोहली के लिए आपका प्यार जगजाहिर है। आप हमें बताएं कि कौशल और स्थिरता के संदर्भ में वह उस फैब 4 के कितने समक्ष खड़े होते हैं, जिसका आप एक हिस्सा थे?

फैब 4 एक अलग युग में थे। आप दो अलग-अलग युगों की तुलना नहीं कर सकते हैं। मुझे लगता है कि विराट को भारतीय क्रिकेट के सर्वकालिक महान खिलाड़ी के रूप में याद किया जाएगा। वह जवान है, केवल 29 साल का है, उसमें अब भी 7-8 साल का क्रिकेट बाकी है। विराट कोहली भारतीय क्रिकेट को दूसरे स्तर पर ले जा चुके हैं। वह इसमें और अधिक योगदान करेंगे। विराट के अंदर वो बात है, वो जज्बा है और वह जीतना चाहता है। वह भारतीय क्रिकेट को नयी ऊँचाइयों पर ले जायेगा।

क्या आप सोचते हैं कि भारतीय टीम के पास जसप्रीत बुमराह और भुवनेश्वर कुमार के रूप में डेथ ओवरों के सबसे अच्छे गेंदबाज़ हैं?

जी हाँ, लेकिन हमें समय के साथ उनका आँकलन करने की आवश्यकता है। कुछ श्रृंखलाएं ही निर्णय के लिए मापदंड नहीं होनी चाहिए। उन्हें दो साल का समय दें और फिर हम पता कर सकते हैं कि वो सर्वश्रेष्ठ हैं या नहीं।

भारतीय क्रिकेट टीम के इतिहास की 5 सबसे बड़ी प्रतिद्वंद्विताएँ


दादा, आपने एक और महान कप्तान, महेंद्र सिंह धोनी को बनाने में इतनी बड़ी भूमिका अदा की है। हमें बताएं कि पूर्वी भारत के पुरूषों में वो कौन सी बात है जो उन्हें अच्छा नेता बनाती है?

ऐसा पहले कभी नहीं हुआ था, लेकिन हाँ वहाँ से आये आखिरी दो कप्तान काफी अच्छे रहे। मैंने वर्ष 2000 में पदभार संभाला और 2006 तक कप्तान रहा। 2008-09 में धोनी ने पदभार ग्रहण किया और वह 2015 तक कप्तान रहे। पंद्रह साल की अवधि में पूर्वी भारत से आने वाले हम दो ही कप्तान थे। उन्होंने सात साल और मैंने लगभग छह साल तक यह काम किया … मुझे इसका कारण पता नहीं है कि ऐसा क्यों है। हाँ, यह सिर्फ इतना है कि दोनों अच्छे कप्तान थे। दोनों अच्छे खिलाड़ी थे और अंत में अच्छे कप्तान भी बन गए। धोनी एक उल्लेखनीय कप्तान रहे हैं और सबसे कुशल भी।

क्या आपको लगता है कि कप्तानी के संदर्भ में विराट आपकी और धोनी की सफलता का अनुकरण करने में सक्षम होंगे?

हाँ… मुझे लगता है कि विराट कप्तान के रूप में अच्छे हैं। धोनी और मेरे दोनों के साथ अच्छी टीम थी और विराट कोहली के पास भी अच्छी टीम है। मुझे लगता है कि वह यह काम अच्छी तरह से करेंगे और अपनी ज़िम्मेदारी बखूबी निभायेंगे।

युजवेंद्र चहल और कुलदीप यादव लड़कियों से बात करने में कतराते हैं

क्या निकट भविष्य में भारतीय क्रिकेट टीम को प्रशिक्षण देने की आपकी कोई योजना है?

(मुस्कुराते हुए) मुझे नहीं पता और इसके बारे में कुछ कहना बहुत जल्दबाज़ी होगी। केवल एक व्यक्ति को कोच के रूप में नियुक्त किया जा सकता है। मैं टीम के लिए अलग-अलग भूमिकाएँ निभाता रहा हूँ… तो … यह अवसरों पर निर्भर करता है।

दादा, क्या क्रिकेट से सेवानिवृत्ति के बाद से दादागिरी आपकी सबसे बड़ी उपलब्धि है?

मैं इसे इस तरह नहीं देखता … मेरे लिए खेल (क्रिकेट) से कुछ भी बड़ा नहीं हो सकता। मैं सिर्फ अपना काम कर रहा हूँ (दादागिरी की मेजबानी कर रहा हूँ) … यह वर्षों से अच्छी तरह से होता आया है और जाहिर है कि मैंने भी यह सीख लिया कि इसे कैसे करना है। मुझे अभी भी पहला दिन याद है जब वे मेरे पास आए थे और कहा कि वे चाहते हैं कि मैं इस शो की मेजबानी करूँ। मैंने शुरू में उनका प्रस्ताव अस्वीकार कर दिया था। मैंने उन्हें बताया कि मैं क्रिकेट की पृष्ठभूमि से हूँ और मुझे कोई अंदाजा नहीं है कि यह कैसे कर पाउँगा। वे वापस चले गए, लेकिन चार महीने बाद फिर से वापस आये और कहा कि मैं अकेला व्यक्ति हूँ जो शो की मेजबानी कर सकता था। मैंने शुरूआत की और अब मैंने सात सीजन पूरे कर लिए हैं। मैं एक बात में विश्वास करता हूँ… यदि आपके पास इच्छा है और यदि आप कड़ी मेहनत करते हैं, तो आप जीवन में किसी भी चीज़ में ज़रूर सफल होंगे।

आपने अपने कैरियर के दौरान कई जाने माने लोगों के साथ मिलकर कई जादूई क्षण जिए हैं, चाहे क्रिकेट के मैदान में सचिन तेंदुलकर हों या ज़ी बांगला पर अन्य लोग। आपकी पत्नी डोना गांगुली, ग्रैमी अवार्ड विजेता विश्व मोहन भट्ट और जीआईएमए विजेता प्रद्युत मुखर्जी के साथ मिलकर काम करने को आप किस तरह से देखते हैं?

मैं एक बिलकुल अलग दुनिया से आता हूँ, लेकिन जो भी वे कर रहे हैं, मेरी शुभकामनायें हमेशा उनके साथ रहेंगी। मेरी पत्नी के साथ मेरा संबंध बिलकुल अलग है और उसका क्रिकेट और नृत्य के साथ कुछ लेना देना नहीं है। यह पति और पत्नी का प्यार भरा रिश्ता है। डोना के माध्यम से मैं दादा (प्रद्युत मुखर्जी) से मिला। मेरी ओर से उन्हें ढेर सारी शुभकामनाएं।

Source: Virat will be remembered as all time great: Sourav Ganguly

Summary
Review Date
Reviewed Item
Virat will be remembered as a legend says Ganguly | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: