खिलाड़ियों का रण: वीरेंद्र सहवाग बनाम विव रिचर्ड्स

Virender Sehwag vs Viv Richards

बेहतरीन गुणवत्ता का मनोरंजन प्रदान करने वाले दो अपरंपरागत खिलाड़ियों के बीच तुलना।

बेशक, सहवाग की तुलना किसी और के साथ नहीं की जा सकती क्योंकि वह एक अनौपचारिक दृष्टिकोण के साथ अनोखा मनोरंजन कराते थे। पूर्व भारतीय सलामी बल्लेबाज पर चर्चा करते हुए एक नाम सामने आता है, निर्भीक और शक्तिशाली, वेस्ट इंडीज के महान खिलाड़ी, विव रिचर्ड्स का!
दो अलग-अलग युगों के क्रिकेटरों की तुलना करना तर्कहीन हो सकता है, लेकिन अगर हम कुछ आँकड़ों में नजर डालते हैं और उनके कुछ कीर्तिमानों को देखते हैं तो इससे कोई बुराई नहीं होगी। चलिए इसे उनकी बल्लेबाजी जैसा मनोरंजक बनाने की कोशिश करते हैं।

# 1 स्ट्राइक दर

दोनों, सहवाग और रिचर्ड्स अपने आक्रामक दृष्टिकोण और त्वरित स्कोरिंग दर के लिए जाने जाते थे। उनकी स्ट्राइक दरों की तुलना करना थोड़ा कम समझ में आता है क्योंकि दोनों ने विभिन्न युगों में बल्लेबाजी की। सहवाग के समय के दौरान, बल्लेबाज आज़ादी से खेले, जबकि रिचर्ड्स के युग में बल्लेबाज सावधानी से खेलते थे। तो, कौन अधिक आक्रामक था? चलिए इन लोगों की तुलना इनके युग के सहयोगियों के साथ करते हैं।

यदि हम सहवाग के एकदिवसीय कैरियर के दौरान 5000 से ज्यादा गेंदों का सामना करने वाले बल्लेबाजों को देखते हैं तो सहवाग 104.33 की स्ट्राइक दर के साथ सारणी में सबसे ऊपर है। हालांकि, एडम गिलक्रिस्ट – 98.72 और एबी डीविलियर्स – 93.15 की स्ट्राइक दर के साथ उनसे ज्यादा पीछे नहीं हैं| रिचर्ड्स की स्ट्राइक दर 90.20 की थी और दूसरे स्थान पर डीन जोन्स – 76.25 और एलन बॉर्डर – 70.39 से वे कहीं आगे हैं। विवियन रिचर्ड्स को गेंदबाजी करना बहुत भयानक होता रहा होगा।

    सर विव रिचर्ड्स – वेस्टइंडीज़ – रिकॉर्ड

# 2 विदेशी टेस्ट में प्रदर्शन

विवियन रिचर्ड्स और सहवाग के कुछ बेहतरीन प्रदर्शन उनके विदेशी टेस्ट मुकाबलों में आए। मेलबर्न में सहवाग के 195 और ओल्ड ट्रॅफोर्ड में रिचर्ड्स के अविजित 189, लोक कथाओ का हिस्सा बन गए हैं। लेकिन टेस्ट में इन बल्लेबाजों का समग्र प्रदर्शन कितना अच्छा था?
सहवाग ने 52 विदेशी टेस्ट मुकाबले खेले और 44.65 के औसत से 3930 रन बनाए जिसमें 10 शतक थे। उनका 44.65 का औसत, उनके समग्र औसत 49.34 के करीब है। दूसरी ओर, विवियन रिचर्ड्स ने 73 विदेशी टेस्ट मुकाबले खेले और 50.50 की औसत से 5404 रन बनाए जिसमें 13 शतक शामिल थे। उनका विदेशी टेस्ट मुकाबलों में औसत उनके समग्र करियर औसत, 50.23 की तुलना में थोड़ा बेहतर था|

# 3 जीतने में योगदान

कोई भी व्यक्ति कितना भी अच्छा प्रदर्शन करे, हम उस पहलू को नजरअंदाज नहीं कर सकते हैं, कि अंत में, परिणाम ही है, जो मायने रखता है। तो, टीम की जीत में सहवाग और रिचर्ड्स का योगदान क्या था?

    वीरेंद्र सहवाग के पुत्र ने बनाई धोनी की तस्वीर!

अपने करियर के दौरान, रिचर्ड्स 63 टेस्ट जीत का हिस्सा थे और उनमे उन्होंने 4300 रन बनाए। दिलचस्प बात यह है कि इन टेस्ट मैचों में उनका औसत 52.43, उनके कुल कैरियर औसत 50.23 के करीब है। उसी युग में 50 से अधिक टेस्ट जीतने वाले अन्य वेस्टइंडीज के बल्लेबाजों की सूची में, रिचर्ड्स, गॉर्डोन ग्रीनिज के बाद दूसरे स्थान पर रहे, जिनकी औसत 54.20 की थी। इस प्रकार, रिचर्ड्स वास्तव में अपने दल के लिए मैच विजेता थे|
सहवाग 42 टेस्ट जीतों का हिस्सा रहे और 54.65 के औसत से 3498 रन बनाए। इन टेस्ट मुकाबलों में उनका औसत उनके करियर के औसत 49.34 से काफी अधिक है। जब हम दूसरे भारतीय बल्लेबाजों की तुलना इन टेस्ट मैचों में करते हैं, तो राहुल द्रविड़ (67.27 के औसत से पहले स्थान पर) और सचिन तेंदुलकर (67.06 के औसत से दूसरे स्थान पर) सहवाग से आगे हैं। हालांकि, सहवाग की 88.15 की स्ट्राइक दर उन्हें इस सूची में आगे खड़ा कर देती है।

# 4 चौकों-छक्कों की आवृत्ति

सहवाग और रिचर्ड्स को उनकी इच्छा पर गेंद को सीमा पार भेजने के लिए जाना जाता था। मैच की स्थिति, गेंदबाज या क्षेत्ररक्षक, इन खिलाड़ियों के लिए कोई मायने नहीं रखते थे और ये गेंद को बिना किसी परेशानी के सीमा पार पहुंचा सकते थे| लेकिन गेंद को सीमा पार भेजने की किसकी आवृत्ति बेहतर थी?

सहवाग ने अपने एकदिवसीय कैरियर में 7929 गेंदों का सामना करते हुए 1132 चौके और 136 छक्के जड़े। इस प्रकार, उन्होंने प्रति 6.83 गेंद पर एक गेंद सीमा पार भेजी। विवियन रिचर्ड्स ने 7451 गेंदों का सामना किया और 600 चौके और 126 छक्के लगाए। उन्होंने प्रति 10.26 गेंदों पर एक चौका या छक्का मारा।

    सर विवियन रिचर्ड्स के बारे में 15 तथ्य: 20 वीं सदी के मास्टर ब्लास्टर

# 5 बल्लेबाजी की स्थिति

हालांकि इन बल्लेबाजों में बहुत समानताएँ हैं, लेकिन इनके बीच एक महत्वपूर्ण अंतर इनकी बल्लेबाजी की स्थिति है। सहवाग सलामी बल्लेबाज थे, जबकि रिचर्ड्स ने अपने अधिकांश टेस्ट मैचों में मध्य क्रम में बल्लेबाज़ी की। लेकिन ये धुरंधर कितने प्रभावशाली थे, जब इन्हें इनकी इष्ट स्थिति में बल्लेबाजी करने का मौका नहीं मिला? सहवाग की औसत 5, 6 और 7 के क्रम पर बल्लेबाजी करते हुए 42.11 की है। रिचर्ड्स की औसत 2, 6, 7 और 8वें क्रम में बल्लेबाजी करते हुए 39.26 की है।

ये तुलना आगे चलती रह सकती है, और केवल यही संकेत देगी कि ये दोनों बल्लेबाज सभी आँकड़ों में लगभग एक समान हैं।

सहवाग और रिचर्ड्स की बल्लेबाजी में तुलना किए जाने के बजाय देखने में अधिक मनोरंजन मिला!

Summary
Review Date
Reviewed Item
Virender Sehwag vs Viv Richards | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: