वर्जित प्रेम – पाकिस्तान से महेंद्र सिंह धोनी की वाहवाही एक जटिल काम हो सकता है!

कभी कभी एक पाकिस्तानी प्रशंसक अजीब से अजीब जगह पर भी क्रिकेट से प्यार ढूंढ लेता है, भारत के साथ सीमा के पूर्वी इलाके में भी। वास्तव में, सीमा के इस तरफ से, “अजीब” जैसा शब्द इस बात को बयां नहीं कर सकता।

सब से पहले, उपमहाद्वीप के एक हज़ार सालों के इतिहास की अशांति भरी भू-राजनीतिक कहानी, और मनोवैज्ञानिक रुढियों के तले दबा होने के कारण निकट भविष्य में इसकी मैत्री खतरे में नहीं डाली जा सकती। दक्षिण के तटों से लेकर उत्तर की पहाड़ियों तक कंटीली तारबंदी ने सीमाओं को सांप की तरह जकड़ रखा है। और वहाँ चरम बिंदु पर, कश्मीर शब्द लेने मात्र से बम और गोलियां चल सकती हैं। अनिवार्यतः, वहाँ आज की कहानी यह है कि, परमाणु युद्ध की चिंताएं एक जटिल समस्या हैं। पर फिर भी कटुता और दुश्मनी की इस मुड़ गिरह में, पता नहीं कैसे मैं एक उभरते भारतीय सितारे पर अपना क्रिकेट का दिल दे बैठा। मैंने जो आकर्षण महसूस किया वह जोरदार था, हालाँकि मुश्किलें भी उतनी ही थीं। अक्सर वर्जित चीज के लिए प्यार सबसे रोमांचक होता है और उस वर्जित प्यार को ढूंढने के लिए वर्जित जगह से ज्यादा रोमांचक जगह कौन सी हो सकती है? 2005 में विशाखापत्तनम में पाकिस्तानी टीम का सामना करते समय महेंद्र सिंह धोनी 23 साल के थे और अपना पांचवा ओडीआई मैच खेल रहे थे| ग्राउंड पर तेज धूप पड़ रही थी पर भीड़ अपनी सीमा पर थी| भारत ने टॉस जीतकर पहले बल्लेबाजी की। धोनी के बारे में कुछ प्रचार किया गया था, पर उन्होंने उससे ज्यादा कर के दिखाया, वे नंबर 3 पर आए और 120 से ऊपर की स्ट्राइक रेट से 148 रन बना डाले| लहराते हुए लाल रंग के बाल एक इठलाते हुए आदमी की तस्वीर बना रहे थे, वह एक दिलकश व्यक्तित्व था, और उससे भविष्य के एक महान भारतीय की गंध आ रही थी। पाकिस्तान में हम इस गंध को अच्छी तरह जानते हैं। और यह हमें डरा देती थी।

M.S. Dhoni 148 vs Pakistan - First ODI Hundred for Dhoni
M.S. Dhoni 148 vs Pakistan – First ODI Hundred for Dhoni

जैसे जैसे धोनी का कैरियर आगे बढ़ा और वे पदक जीतते रहे, जिनमें पाकिस्तान के खिलाफ भी शामिल थे, उस शुरूआती डर ने उनकी प्रशंसा के लिए रास्ता बनाया, और कुछ ही समय में मैं उनके लिए प्यार और दुआओं से भर गया। वे अपने आप को जिस तरह पेश करते हैं उनका बहुत कुछ आकर्षण उसके कारण होता है। जब वो बल्लेबाजी करते हैं तो क्रीज़ पर ऐसे जमे रहते हैं जैसे किसी आरामदायक चमड़े के सोफे पर बैठे हों। सुरक्षित बॉटम हैण्ड बल्लेबाजी और बेहतरीन फुटवर्क के साथ बल्ले के पूरे चेहरे को दिखा के खेलना उनकी तकनीक है। उनके पास एक चतुर रणनीतिकार दिमाग है और अंत तक खेलना उनका स्वभाव है। उनका खेलने का तरीका रात की तरह शांत है और सागवान की लकड़ी की तरह ठोस है। आप उन्हें कोशिश करते देख सकते हैं, पर बहुत ज्यादा नहीं। वो स्टम्प्स के पीछे ऐसे झुके रहते हैं जैसे किसी घास के मैदान में बिल्ली अपने शिकार पर नजर जमाकर हमले की तैयारी में हो। और इन सबसे उपर धोनी की त्वचा में पूरी तरह से चुस्त दिखाई देती है, अपना काम वे सूझबूझ और आराम से करते हैं, और हार या जीत दोनों में एक से दीखते हैं। उनमें कोहली का उत्तेजना, सहवाग की अकड़, या द्रविड़ की एहतियात नहीं है।

    महेंद्र सिंह धोनी – भारत – रिकॉर्ड्स (Mahendra Singh Dhoni Records)

Pakistani Fan sporting jersey with Dhoni on the back
Pakistani Fan sporting jersey with Dhoni on the back

जब वो खुश होते हैं, उनकी आँखों पर दीखता है। कोई युद्धोन्माद या पागलपन नहीं, कोई संकोच की ख़ामोशी या चुप्पी भी उनमें नहीं। उनके पास केवल खुशदिल भावनाओं की निरंतर अभिव्यक्ति है| आपको ऐसा लगता है कि आप उनके साथ ही हंस रहे हैं और जश्न मना रहे हैं। भारत में क्रिकेट के दिग्गजों की कोई कमी नहीं है, लेकिन आप दावे के साथ कह सकते हैं कि धोनी का कद उन सब में सबसे ऊँचा है। हाँ, तेंदुलकर, गावस्कर और द्रविड़ के पास रन हैं; कुंबले, बेदी, चंद्रशेखर और अश्विन की तेज पकड़ के पास – विकेट हैं; कपिल और मांकड़ का चौतरफा करिश्मा है। और धोनी? उनके पास सफलता है। उन्होंने सबसे ज्यादा टेस्ट (60), वनडे (199) और T20Is (72) में टीम की कप्तानी की है। उनके नेतृत्व में भारत को लगातार 21 महीने तक शीर्ष टेस्ट रैंकिंग पर रहा है, नवंबर 2009 में शुरूआत की , 2011 में विश्व कप जीता, 2007 में विश्व टी 20 पर कब्जा किया, और 2013 में चैंपियंस ट्रॉफी जीत ली| धोनी के भी विरोधी हैं, लेकिन वास्तव में, इन रिकार्ड्स पर कौन बहस कर सकता है? वो अपनी टीम से बहुत कुछ पूछने का हक रखते हैं क्योंकि उन्होंने उन्हें बहुत कुछ दिया भी है। इतिहास के सबसे प्रभावी विकेटकीपरों की सूची में, वह टेस्ट में पांचवे, वनडे में चौथे, और T20Is में पहले पायदान पर हैं। एक बल्लेबाज के रूप में उन्होंने 15,000 से ज्यादा अंतरराष्ट्रीय रन बनाए हैं, और उनका औसत लगभग 45 रन है; इस आकलन के अनुसार वे अपने हमवतन क्रिकेटरों में पांचवे स्थान पर हैं। और लगभग हार के समय उनकी कुशलता सबसे प्रभावशाली है। इसे 40 मौकों पर जब अंत में धोनी क्रीज़ पर खड़े थे, भारत ने केवल एक मैच गंवाया है। टेस्ट और T20Is में भी अंत तक धोनी का क्रीज़ पर होना दृढ़ता से टीम को हार से बचाता है। यही उनकी कप्तानी से उत्पन्न अपराजेयता की आभा है। यह शांत त्वरित सूझबूझ और स्थिरता कभी असफल नहीं होती । आपको हमेशा ऐसा लगेगा उन्होंने आपको बचा लिया है|

Mahendra Singh Dhoni - India Captain
Mahendra Singh Dhoni – India Captain

इतनी सारी वाहवाही और चापलूसी के साथ उन्होंने बहुत से पुरस्कार पाए हैं। हमने कभी नहीं सोचा था क्रिकेट किसी को यूरोपीय फुटबॉल खिलाड़ियों या अमेरिकी खिलाड़ियों जैसा अमीर भी बना सकता है, लेकिन फोर्ब्स पत्रिका ने बार बार दुनिया में सबसे ज्यादा वेतन पाने वाले खिलाड़ियों के बीच धोनी का नाम दिया है, वैश्विक शीर्ष 100 खिलाड़ियों में एकमात्र क्रिकेटर| एक अरब से ज्यादा उपभोक्ताओं वाली भारत की बढ़ती अर्थव्यवस्था और एक विजेता के रूप में धोनी का ब्रांड, उनकी सम्पत्ति के बारे में बताने को काफी है, जिसमें से अधिकांश प्रायोजकों और विज्ञापनों से आता है। जब मैंने पहली बार फोर्ब्स सूचि में धोनी का उल्लेख सुना, मैं खुश था; सिर्फ धोनी के लिए नहीं – यहां तक ​​कि दुनिया में हमारे हिस्से के बारे में, अब क्रिकेट में नकदी का प्रवाह शुरू हो गया था। यही आशाजनक और खुशी की बात है। आप कल्पना कर सकते हैं, धोनी के लिए एक जुनून बढ़ना एक पाकिस्तानी के रूप में संघर्ष की बात है। तथ्य यह है कि कई लोग यह नहीं समझ सकते, यह एक आंतरिक संघर्ष है। एक करीबी दोस्त है, जो एक मनोचिकित्सक के साथ साथ एक क्रिकेट प्रेमी भी है, ने इसे एक “परिएक्शन फॉर्मेशन” के रूप में समझाया – यह एक मनोवैज्ञानिक घटना है जहाँ तुम जिसे नापसंद करते हो अंत में उसी के गुण गाने लगते हो।

M.S.Dhoni - Forbes List
M.S.Dhoni – Forbes List

पर एक ईमानदार परीक्षा ने मुझे इस थ्योरी से संतुष्ट नहीं होने दिया। एक और दोस्त, जो रिश्तों पर एक स्वयंभू विशेषज्ञ हैं, ने कहा कि मैं ईर्ष्या के साथ प्रशंसा को भ्रमित कर रहा हूँ। मुझे नहीं लगता कि मैं ऐसा कर रहा हूँ। मैं चाहता हूँ कि इससे पहले कि देर हो जाए, सरफराज अहमद धोनी के एक पाकिस्तानी संस्करण के रूप में उभरें, लेकिन मुझे भारत के महान अच्छे भाग्य से जलन नहीं है। धोनी भारत और आधुनिक भारतीय क्रिकेट परिदृश्य की एक रचना हैं, और वे अविश्वसनीय रूप से इसमें अच्छी तरह जंचते हैं। उन्हें खेलते देखना एक ख़ुशी की बात होती है, हालाँकि जब वे पाकिस्तान के खिलाफ खेलते हैं तो चीजें जटिल हो जाती हैं। धोनी के 22 ‘मैन ऑफ द मैच अवार्ड्स में से पांच मेरी टीम के खिलाफ आए हैं, और मैंने वो सारे मैच देखे हैं। जाहिर है, मेरी टीम को हारते देखने में कोई मज़ा नहीं है, लेकिन मेरी आत्मा जानती है कि धोनी ने अच्छा प्रदर्शन किया है। यह विभाजित वफादारी का मामला नहीं है। यह उस आदमी के लिए दिली शाबाशी है जिसे सफलता का भरपूर हक है।

– साद शफकत एक कराची आधारित लेखक हैं।

Leave a Response

share on: