रफ़्तार के सौदागर शोएब अख्तर के बारे में 19 दिलचस्प जानकारियाँ

19 facts to know about Shoaib Akhtar

आधुनिक युग के सबसे बेबाक तेज़ गेंदबाज़ तथा विश्व क्रिकेट के सबसे तेज़ गेंदबाज़ शोएब अख्तर अपनी गति से बल्लेबाज़ों को परेशान करते थे। वह बेहद तेज़ गति से गेंदबाज़ी करते थे। कई बार बल्लेबाज़ उनकी गेंद देखने से पहले ही आउट हो जाता था। उनकी यॉर्कर बल्लेबाज़ों के पैर को तथा बाउंसर शरीर को चोटिल करने के लिये पर्याप्त थी। अपने बेबाक अंदाज़ तथा मैदान के बाहर गतिविधियों के कारण रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर यह गेंदबाज़ क्रिकेट के लोकप्रिय खिलाड़ियों में हमेशा शुमार किया जाएगा। हम आपको इस तेज़ गेंदबाज़ से जुड़ी 19 दिलचस्प बातें बताएँगे-

1. जन्म- 13 अगस्त 1975 को पाकिस्तान के पंजाब राज्य के रावलपिंडी शहर के एक छोटे से गांव मोर्घा में उनका जन्म हुआ। उनके पिता एक रिफाइनरी में काम करते थे।

33 क्रिकेट से जुड़ी यादें जो आपको आपकी उम्र का एहसास करा देंगी

2. उपनाम- अख्तर रावलपिंडी एक्सप्रेस के नाम से मशहूर हैं। उन्हें टाइगर और डॉन के नाम से भी जाना जाता है।

3. सबसे तेज़ गति- 2003 विश्व कप में इंग्लैंड के खिलाफ अख्तर ने क्रिकेट इतिहास की सबसे तेज़ गेंद फेंकी जिसकी गति 161.3 किमी/घण्टा(100.2 मील/घंटा) थी।

4. भेड़ों के बीच भेड़िया- अपने स्कूल के समय में शोएब 100 मीटर की दौड़ में हिस्सा लेते थे। वह एक बेहतरीन धावक थे। अपनी इसी खूबी के कारण क्रिकेट के 35 मीटर रन अप में उन्होंने गति प्राप्त की।

यूनिस खान ने पीसीबी द्वारा बनायी गयी उनकी भव्य विदाई योजना को ख़ारिज किया

5. अख्तर की हज़ारों गर्लफ्रेंड – उन्होंने कहा था ” मेरी हज़ारों गर्लफ्रेंड हैं अगर मैं उन्हें सिर्फ फ्रेंड कहूँ। वे एक प्रशंसक से थोड़ा अधिक हैं। पाकिस्तान में बहुत उत्सुकता है। यदि मैं बाहर निकलता हूं तो बहुत सी महिलाएं मुझ से बात करने को मेरी तरफ भागती हैं। वह मुझे पकड़ती हैं और कभी कभी तो मेरे कपड़े भी फाड़ देती हैं।” ऐसे बयान देना शोएब अख्तर के ही बस की बात है।

6. आक्रामक – 1999 में कोलकाता के ईडन गार्डन में भारत के खिलाफ एशियाई टेस्ट चैंपियनशिप के मुकाबले में उनकी गेंदबाज़ी, उनके व्यक्तित्व को दर्शाती है। दर्शकों से भरे मैदान में उन्होंने पहले अंदर की ओर यॉर्कर गेंद फेंक राहुल द्रविड़ को आउट किया और उसके बाद सचिन तेंदुलकर को पहली ही गेंद पर बोल्ड कर दर्शकों को खामोश कर दिया।

7. जर्जर मकान – उनका बचपन एक कमरे के जर्जर मकान में बीता जहाँ की छत बेहद कमज़ोर थी। उन्होंने अपनी जीवनी ‘कॉन्ट्रोवर्शियली योर्स’ में लिखा ” छत से हम गिरने की आशा नहीं बल्कि हमें सुरक्षित रखने की आशा करते थे”।

8. कठिन जीवन – शोएब के माता पिता गरीब परिवार से थे। दरअसल शोएब के नाना ने उनकी माँ हमीदा को एक ईसाई परिवार को गोद दे दिया था।

भारत बनाम पाकिस्तान क्रिकेट इतिहास की 8 बड़ी नोकझोंक

9. रफ़्तार के सौदागर – किशोरावस्था में भी शोएब बाइक और रफ़्तार के शौक़ीन थे। अपनी बाइक की खतरनाक रफ़्तार से वह लोगों को डरा देते थे।

10. खुद को नहीं मानते सबसे तेज़ – भले ही हर कोई शोएब को सबसे तेज़ गेंदबाज़ मानता हो किन्तु वह ऐसा नहीं मानते। तेज़ गेंदबाज़ों के प्रति पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की उदासीनता का ज़िक्र करते हुए उन्होंने अपनी जीवनी में लिखा ” मोहम्मद जाहिद विश्व के सबसे तेज़ गेंदबाज़ रहे हैं।”

11. क्रिकेट पर प्रतिबंध – 1 अप्रैल 2008 को शोएब पर सार्वजनिक रूप से पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड की आलोचना करने के आरोप में 5 वर्ष का प्रतिबन्ध लगाया गया। अक्टूबर 2008 में लाहौर हाई कोर्ट ने यह प्रतिबन्ध हटा दिया।

12. खेल से जुड़ाव – 2005 में इंग्लैंड के खिलाफ 3 टेस्ट मैचों की घरेलू श्रृंखला में उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया। श्रृंखला में उन्होंने सबसे अधिक 17 विकेट लिए। अख्तर 3 इंग्लिश काउंटी क्रिकेट क्लब के लिये भी खेल चुके हैं। 2001 में सॉमरसेट, 2003 में डरहम और 2004 तथा 2005 में वर्सेस्टरशायर की ओर से वह खेल चुके हैं।

13. वकार के साथ विवाद – 2003 विश्व कप में खराब प्रदर्शन के बाद पूर्व पाकिस्तानी कप्तान और तेज़ गेंदबाज़ वक़ार यूनुस के साथ उनकी ज़ुबानी जंग हुई।

शीर्ष 10 क्रिकेटर जिनपर मैच फिक्सिंग की वजह से आजीवन प्रतिबंध लगाया गया

14. गेंद से छेड़छाड़ का आरोप – 2003 में श्रीलंका में त्रिकोणीय श्रृंखला के दौरान वह गेंद से छेड़छाड़ करने के आरोप में फंसे। ऐसे आरोप में फंसने वाले वह विश्व के दूसरे क्रिकेटर बने।

15. पी सी बी के साथ विवाद – 2005 में ऑस्ट्रेलिया दौरे के बीच में से ही उन्हें चोट के कारण वापस भेज दिया गया। बताया जाता है कि इसके पीछे असली वजह शोएब का खराब व्यवहार, अनुशासनहीनता और ख़राब प्रदर्शन था। इसके बाद देर रात तक बाहर रहने के आरोप में पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड ने उन पर जुर्माना भी लगाया।

16. ड्रग टेस्ट में फेल – 16 अक्टूबर 2006 को पी सी बी ने शोएब और मोहम्मद आसिफ को ड्रग्स लेने के आरोप में निलंबित कर दिया जब दोनों का ड्रग टेस्ट रिपोर्ट पॉज़िटिव आया। इसके बाद 2006 चैंपियंस ट्रॉफी से भी दोनों को बाहर कर दिया गया।

17. अनुशासनहीनता – अगस्त 2007 में अख्तर के ऊपर पाकिस्तान क्रिकेट बोर्ड के खिलाफ अपशब्दों के इस्तेमाल का आरोप लगा। कराची नेशनल कैंप में अनुशासनहीनता के चलते उन पर 3 लाख का जुर्माना किया गया।

18. अन्य विवाद – 1 अप्रैल 2008 को आई सी सी प्लेयर्स कोड ऑफ़ कंडक्ट के उल्लंघन के आरोप में उन पर 5 वर्ष का प्रतिबन्ध लगाया गया। 4 सितम्बर 2008 को ब्रिटिश अधिकारियों ने उन्हें एयरपोर्ट से वापस भेज दिया क्योंकि वह हीथ्रो एयरपोर्ट पर बिना वैध वीज़ा के उतर गए थे।

19. विश्व रिकॉर्ड जिस पर वह गर्व कर सकते हैं – अख्तर के नाम 12 लगातार एकदिवसीय मैचों में नाबाद रहने का रिकॉर्ड है।

Source: 19 Facts about Shoaib Akhtar: The need for speed

Summary
Review Date
Reviewed Item
19 facts to know about Shoaib Akhtar | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: