यूनिस खान ने पीसीबी द्वारा बनायी गयी उनकी भव्य विदाई योजना को ख़ारिज किया

Younis Khan rejects PCB farewell plan

यूनिस खान अपनी बल्लेबाजी की क्षमता के लिए उतने ही प्रसिद्ध थे जितने पीसीबी के साथ अपने ख़राब संबंधों की वजह से, और उनकी शिकायतों का सिलसिला उनकी सेवानिवृत्ति के बाद भी समाप्त नहीं हुआ है। एक स्थानीय टेलीविजन चैनल के साथ एक लंबे साक्षात्कार में यूनिस ने पीसीबी के अध्यक्ष नजम सेठी के एक प्रस्ताव को ठुकरा दिया, जिसमें उन्होंने हालिया समय में सेवानिवृत्त हुए मिस्बाह उल हक, शाहिद अफरीदी, और यूनिस खान जैसे कुछ बड़े नामों का सम्मान करने के लिए एक विदाई समारोह का आयोजन कराने का प्रस्ताव रखा था।

भारत बनाम पाकिस्तान क्रिकेट इतिहास की 8 बड़ी नोकझोंक

“मुझे नहीं लगता कि यह विदाई अब मायने रखती है,” यूनूस ने जिओ के साथ एक साक्षात्कार में कहा। “मिस्बाह और मैं इस साल मई में ही रिटायर हो चुके हैं और अब इस आयोजन का कोई मतलब नहीं बनता है। अन्य देशों में पूर्व कप्तानों या दिग्गजों को उनकी सेवानिवृत्ति के कुछ दिनों बाद ही विदाई दी जाती है। मुझे अब इस विदाई का उपयोग नहीं दिख रहा है और ना ही मुझे कोई सम्मान राशि चाहिए। पीसीबी से किसी ने मुझे बुलाया और मुझे आमंत्रित किया और कहा कि मुझे एक खूबसूरत राशि मिलेगी, लेकिन मैं वहाँ नहीं जा रहा हूँ क्योंकि मैंने पीसीबी में जो कुछ भी देखा है जब मैं खेल रहा था, उन सब चीजों को मैं नहीं भूल सकता हूं।”

बोर्ड कुछ समय से विदाई के लिए उत्सुक दिखाई दे रहा है, लेकिन अब उनमें से कम से कम दो लोगों ने तो नहीं आने की सम्भावना जाहिर कर ही दी है। यूनिस के साथ साथ अफरीदी के भी उपस्थित होने की संभावना नहीं है। पहले अफरीदी के लिए विदाई की योजना थी, लेकिन 2016 में वेस्टइंडीज के खिलाफ ट्वेंटी -20 श्रृंखला में निराशा हाथ लगने के बाद वह आयोजन स्थगित हो गया था। यूनिस के मुताबिक खिलाड़ियों की भावनाओं से पीसीबी को कुछ लेना देना नहीं है।

शारजील खान पर पीसीबी ने पांच साल का प्रतिबंध लगाया

उन्होंने कहा, “मेरे लिए गर्व और सम्मान से ज्यादा कुछ महत्वपूर्ण नहीं है। मुझे नहीं लगता कि बोर्ड ने कई खिलाड़ियों के साथ गरिमा और सम्मान का व्यवहार किया है,” उन्होंने कहा।

कई वर्षों से यूनुस ने कई मामलों में बोर्ड के प्रति अपनी नाराजगी जाहिर की है। सबसे ताज़ा उदाहरण उनकी सेवानिवृत्ति के तुरंत बाद उनके अनुबंध की स्थिति के आसपास केंद्रित लगता है। जून के अंत में उनके अनुबंध की समाप्ति होनी थी। उन्होंने कहा कि आखिरी 45 दिनों के उनके वेतन कटौती कर दी गयी क्योंकि वह 14 मई को सेवानिवृत्त हुए थे। “मैंने बोर्ड को सूचित किया था, लेकिन मैंने यह कभी नहीं सोचा था कि वो पैसे काट लेंगे। यह एक सीनियर खिलाड़ी के लिए सम्मान का संकेत नहीं है। उन्होंने मिस्बाह के साथ भी ऐसा ही किया। ”

उनकी कई शिकायतें उनके खेल के कैरियर के दौरान हुई घटनाओं के साथ जुड़ी थीं। उनका मानना है कि पीसीबी अपने वरिष्ठ खिलाड़ियों के साथ सम्मान से पेश नहीं आता है। “बहुत सारे उदाहरण हैं,” उन्होंने कहा। “इंजमाम से पूछें जो मुख्य चयनकर्ता हैं। क्या उन्हें गद्दाफी स्टेडियम के मुख्य द्वार पर नहीं रोका गया था? मिस्बाह से पूछिए, क्या उन्हें स्टेडियम में पाकिस्तान के शिविर के दौरान नहीं बताया गया था कि वह अपनी कार स्टेडियम में नहीं ला सकते?”

मिकी आर्थर – विश्व कप 2019 के लिए टीम को तैयार करना ही परम लक्ष्य है

“बहुत सारी घटनाएं हैं जिनके बारे में सोच के हमें दुःख पहुँचता है। एक समय में एनसीए के कमरों में कोई एलसीडी, रेफ्रिजरेटर या फोन नहीं थे, जहां खिलाड़ी ठहरते थे। सभी सुविधाएं प्रशासनिक ब्लॉक के लिए थीं।”

पाकिस्तान ने हाल ही में लाहौर के गद्दाफी स्टेडियम में विश्व इलेवन के खिलाफ तीन टी20 मैचों की मेजबानी की है और यह विदाई के आयोजन का कार्यक्रम भी मैचों के बीच में अस्थायी रूप से तैयार किया गया था।

Source: Younis Khan snubs PCB’s grand farewell plans

Summary
Review Date
Reviewed Item
Younis Khan rejects PCB farewell plan | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: