ब्रॅड हॉग – ऑस्ट्रेलिया – रिकॉर्ड

Brad-Hogg-Records

पूरा नाम – जॉर्ज ब्राडली हॉग

जन्म – 6 फरवरी, 1971, नररोगिन, पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया

प्रमुख टीमें – ऑस्ट्रेलिया, एंटीगुआ हवकसबिल्लस, केप कोबराज, कोलकाता नाइट राइडर्स, मेलबर्न रेनेगेड्स, पर्थ स्कॉर्चर्स, राजस्थान रॉयल्स, वारविकशायर, पश्चिमी ऑस्ट्रेलिया

उपनाम – जॉर्ज

भूमिका – हरफनमौला खिलाड़ी

बल्लेबाजी की शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी की शैली – धीमें बाएं हाथ के चाइनामैन

ऊंचाई – 1.83 मीटर

टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण (कैप 367) – 10 अक्टूबर 1996 बनाम भारत
अंतिम परीक्षण – 24 जनवरी 2008 बनाम भारत

वनडे कैरियर की शुरुआत (कैप 126) – 26 अगस्त 1996 बनाम जिम्बाब्वे
अंतिम वनडे – 2 मार्च 2008 बनाम भारत
वनडे शर्ट नंबर 31

टी 20 कैरियर की शुरुआत (कॅप 18) – 24 फरवरी 2006 बनाम दक्षिण अफ्रीका
अंतिम टी 20 – 23 मार्च 2014 बनाम पाकिस्तान
टी 20 शर्ट नंबर 31/71

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत
मॅच रन सर्वाधिक स्कोर औसत स्ट्राइक रेट शतक अर्धशतक चौके छ्क्के कॅच
टेस्ट 7 186 79 26.57 49.46 0 1 14 2 1
एकदिवसीय 123 790 71* 20.25 78.68 0 2 41 5 36
टी२० 15 55 41 13.75 141.02 0 0 3 3 1
प्रथम श्रेणी 99 3992 158 35.01 4 27 55
लिस्ट ए 233 2606 94* 26.32 0 6 81
ट्वेंटी२० 133 349 54 15.17 105.75 0 1 18 8 30
गेंदबाज़ी औसत
मॅच विकेट बेस्ट/पारी बेस्ट/मॅच औसत रन प्रति ओवर स्ट्राइक रेट 4 विकेट 5 विकेट 10 विकेट
टेस्ट 7 17 2/40 4/133 54.88 3.67 89.6 0 0 0
एकदिवसीय 123 156 5/32 5/32 26.84 4.51 35.6 3 2 0
टी२० 15 7 2/31 2/31 53.28 7.61 42 0 0 0
प्रथम श्रेणी 99 181 6/44 40.51 3.26 74.5 9 0
लिस्ट ए 233 257 5/23 5/23 28.06 4.65 36.1 5 3 0
ट्वेंटी२० 133 133 4/9 4/9 24.31 6.83 21.3 5 0 0

अपनी चमकदार मुस्कुराहट, ख़तरनाक फ्लिपर और कभी ना पकड़े जाने वाली रॉंग-वन् गेंदबाज़ी के साथ ब्रॅड हॉग ऑस्ट्रेलिया के आजतक के सबसे चमत्कारी चाइना-मॅन स्पिन गेंदबाज़ हैं. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सबसे पहली छाप हॉग ने 2003 विश्व कप में एंडी फ्लावर को फ्लिपर पर क्लीन बोल्ड करके छोड़ी थी. फ्लावर बॅक-फुट पर गेंद को खेलने गए और गेंद घूमने की जगह अंदर आई और उन्हे बोल्ड कर गई. इससे पहले हॉग की गेंदबाज़ी काफ़ी साधारण लगा करती थी. स्टुअर्ट मॅकगिल की ही तरह ब्रॅड हॉग भी शेन वॉर्न की वजह से टीम में कभी अपनी जगह नही बना पाए. 2003 वर्ल्ड कप में शेन वॉर्न को आईसीसी द्वारा निलंबित किए जाने पर अचानक ब्रॅड हॉग को टीम में मौका मिला. इससे पहले अपना टेस्ट पदार्पण भी उन्होने 1996 में भारत के खिलाफ शेन वॉर्न के चोटिल होने के कारण ही किया था. उन्होने उस मैच में केवल 5 रन बनाए और एक विकट लिया, और इसके बाद 7 साल और 78 मैचों तक टीम में वापसी नही कर पाए. अपने पहले और दूसरे टेस्ट मैच के बीच इतना अंतर किसी ऑस्ट्रेलिया के खिलाड़ी के साथ नही हुआ.

क्रिकेट टीम में ना रहने पर हॉग ने ज़्यादा मेहनत नही की और अपना समय आनंद से बिताया. उन्होने अपना क्रिकेट करियर एक बायें हाथ के बल्लेबाज़ के रूप में किया था और पश्चिम ऑस्ट्रेलिया के कोच टोनी मॅन के कहने पर स्पिन गेंदबाज़ी का अभ्यास किया. उनकी बल्लेबाज़ी खराब होती गयी और 2004 में उन्होने प्रथम श्रेणी में एक शतक बनाया. लेकिन हॉग की फील्डिंग इसकी भरपाई कर देती थी. हॉग एक डाकिया हुआ करते थे और अपने मज़किया व्यक्तित्व के लिए प्रसिद्ध थे.

बांग्लादेश के खिलाफ मॅन ऑफ द सीरीज़ बने हॉग ने अप्रैल 2006 में एकदिवसीय मैचों में अपने 100 विकेट पूरे किए. लेकिन इसके बाद उन्हें अक्सर घरेलू क्रिकेट में ही इस्तेमाल किया जाता रहा और सी बी सीरीज़ के पहले चरण के बाद उन्हें टीम से निकाल दिया गया. ऐसा लगने लगा था की हॉग का अंतरराष्ट्रीय करियर अब ख़त्म हो चुका है लेकिन कॅमरॉन वाइट के खराब गेंदबाज़ी प्रदर्शन के चलते चयनकर्ताओं ने एक बार फिर हॉग को टीम में जगह दी. लेकिन हॉग फिर अगले 5 मैचों में एक भी विकट नही ले पाए. सबके चौंकाते हुए ब्रॅड हॉग ने 2007 विश्व कप में मुरलिथरण जितनी ही ख़तरनाक गेंदबाज़ी करते हुए 15.8 की औसत से 21 विकेट लिए. लेकिन इसके बाद भारत के विरुद्द टेस्ट मैचों में हॉग ने फिर से संघर्ष किया और 60 की औसत से केवल आठ विकेट लिए. 2007-08 में हॉग ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट से सन्यास लेकर सबको चौंका दिया.

इसके बाद कुछ समय तक उन्होने क्रिकेट कॉमेंटरी की और फिर से पर्थ में प्रथम श्रेणी क्रिकेट खेलनी शुरू की. उनके अत्यंत उत्साहित प्रदर्शन के चलते 40 साल की उम्र में उन्हे 2011-12 में भारत के खिलाफ टी२० मैचों के लिए ऑस्ट्रेलिया टीम में बुलाया गया. आईपीएल में भी उनकी टी२० के लिहाज़ से ख़तरनाक गेंदबाज़ी के लिए राजस्थान रायल्स टीम ने हॉग को 1.2 करोड़ में खरीदा.

आईपीएल 2018: आईपीएल के पिछले 10 संस्करणों में खेलने वाले सबसे अधिक आयु वाले खिलाड़ियों की सूची!

Leave a Response

share on: