पैट कमिंस – ऑस्ट्रेलिया – रिकॉर्ड

पैट कमिंस - ऑस्ट्रेलिया - रिकॉर्ड

पूरा नाम – पैट्रिक जेम्स कमिंस

जन्म – 8 मई, 1993, वेस्टमिड, सिडनी

प्रमुख टीमें – ऑस्ट्रेलिया, दिल्ली डेयरडेविल्स, कोलकाता नाइट राइडर्स, न्यू साउथ वेल्स, न्यू साउथ वेल्स सेकंड इलेवन, पर्थ स्कॉचर्स, सिडनी सिक्सर्स, सिडनी थर्ड

उपनाम – कम्मो

भूमिका – गेंदबाज

बल्लेबाजी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के तेज

ऊँचाई – 1.92 मीटर

टेस्ट पदार्पण (कैप 423) – 17 नवंबर 2011 बनाम दक्षिण अफ्रीका

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 189) – 19 अक्टूबर 2011 बनाम दक्षिण अफ्रीका

टी 20 पदार्पण (कैप 51) – 13 अक्टूबर 2011 बनाम दक्षिण अफ्रीका

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 14 365 50 20.27 42.64 0 1 39 9 7
ODIs 39 144 36 12 72 0 0 12 3 6
T20Is 18 28 13 4 82.35 0 0 1 1 4
First-class 25 629 82* 26.2 47.61 0 3 76 10 11
List A 58 274 38 13.04 72.67 0 0 19 5 16
T20s 69 293 39 13.31 122.59 0 0 16 14 14
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 14 66 6/79 9/141 23.81 2.92 48.8 6 2 0
ODIs 39 64 4/24 4/24 28.45 5.38 31.6 4 0 0
T20Is 18 23 3/15 3/15 20.52 6.84 18 0 0 0
First-class 25 103 6/79 9/141 25.09 2.93 51.2 9 2 0
List A 58 94 4/24 4/24 27.95 5.29 31.7 6 0 0
T20s 69 81 4/16 4/16 25.32 7.84 19.3 2 0 0

वर्ष 2011 में वांडरर्स की सहायता भरी पिच पर पैट कमिंस ने अपने पहले टेस्ट में घातक गेंदबाजी कर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट समुदाय में तहलका मचा दिया। उन्होंने दूसरी पारी में छह विकेट लिए और इस प्रकार मैच में कुल 7 विकेट लेकर उन्होंने ऑस्ट्रेलिया को एक आसान लक्ष्य दिलाया। ऑस्ट्रेलिया ने मैच जीत भी लिया। जीत के जश्न के बीच सब इसी बारे में चर्चा कर रहे थे कि कैसे कमिंस के पास एक घातक गेंदबाज वाले सभी हथियार मौजूद थे। वह इतनी कम उम्र में एक संपूर्ण गेंदबाज जितना कौशल रखते थे और यह सच में काफी बड़ी बात थी। हालांकि एक त्रासदी की वजह से वह 6 साल तक एक भी टेस्ट मैच नहीं खेल सके।

जॉश हेज़लवुड – ऑस्ट्रेलिया – रिकॉर्ड

कमिंस के कौशल में तो कोई कमजोरी नहीं है लेकिन उनका कमजोर शरीर उन्हें वह सब कुछ हासिल करने से रोक रहा था जिसका अनुमान उनके पदार्पण के बाद से लगाया जा रहा था। हालांकि इस टेस्ट विराम के दौरान उन्होंने व्हाइट बॉल क्रिकेट में हिस्सा लिया। लेकिन वहाँ भी वह नियमित रूप से नहीं खेल सके और चोटों की वजह से लगातार अंतराल पर उन्हें खेल से ब्रेक भी लेना पड़ता था। ऐसा प्रतीत होने लगा था की चोटों से घिरे रहने वाले कमिंस के कैरियर का शायद अब अंत हो जाएगा। हालांकि, 2016-17 के सत्र में कमिंस ने अपने फिटनेस स्तरों को बड़े पैमाने पर बढ़ाया। निरंतर परिश्रम के कुछ सालों के बाद ऐसा लगने लगा था कि उनका शरीर अंततः स्थिर होना शुरू हो रहा था।



कमिंस को 2017 की शुरुआत में भारत के टेस्ट दौरे के लिए चुना गया था और यह सभी पहलुओं में उनके लिए एक कठिन परीक्षा थी। अलग तरह की पिच और तापमान के स्तर के कारण उप-महाद्वीप तेज गेंदबाज के लिए सबसे अच्छी जगह नहीं है। इस सबके बाद कमिंस का कमजोर शरीर सबकी चिंताएं और बढ़ा रहा था कि वह कैसे यहाँ चीज़ों को संभाल पाएंगे। लेकिन उन्होंने दो लगातार टेस्ट मैचों में हिस्सा लेकर यह दिखा दिया कि उनमें अभी और भी भूख बाकी थी। उस वर्ष आईपीएल के सत्र में उन्हें और अधिक प्रतिस्पर्धी क्रिकेट खेलना पड़ा और भारतीय तेज गेंदबाज जहीर खान की मौजूदगी में कमिंस ने खुद को और बेहतर बना दिया।

मिचेल स्टार्क – ऑस्ट्रेलिया – रिकॉर्ड

प्रगति के बावजूद, कमिंस को अपने कैरियर को ट्रैक पर रखने के लिए लगातार अच्छा काम करना पड़ा। बांग्लादेश दौरे में कमिंस ने अच्छी प्रगति की और लंबी अवधि में अपनी फिटनेस साबित करने के बाद 2017-18 में घर पर होने वाली महत्वपूर्ण एशेज सीरीज के लिए उन्हें मंजूरी दे दी गयी। यह खुद को साबित करने का आदर्श मौका था और कमिंस ने इसे जाने नहीं दिया। उनके लिए यह एक उत्कृष्ट श्रृंखला रही। वह अक्सर महत्वपूर्ण विकेट लेते थे और बल्ले के साथ अमूल्य योगदान भी करते थे। ऑस्ट्रेलिया ने एशेज फिर से वापस हासिल कर लिया और क्रिकेट जगत को यह भरोसा हो गया कि कमिंस लंबे समय तक रहने के लिए यहाँ आये हैं। चोटों को छोड़कर, कुछ भी ऐसा नहीं था, जो उन्हें एक किंवदंती बनने से रोक सकता था।

जेम्स पैटिंसन – ऑस्ट्रेलिया – रिकॉर्ड



Summary
Review Date
Reviewed Item
Pat Cummins Records | Australia | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: