क्रिस जॉर्डन – इंग्लैंड/सनराइज़र्स हैदराबाद – रिकॉर्ड

Chris Jordan records in hindi

पूरा नाम – क्रिस्टोफर जेम्स जॉर्डन

जन्म – 4 अक्टूबर, 1988, बारबाडोस

प्रमुख टीमें – इंग्लैंड, एडिलेड स्ट्राइकर, बारबाडोस, इंग्लैंड लायंस, पेशावर झल्मी, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सनराइजर्स हैदराबाद, सरे, सरे 2 जी, ससेक्स

उपनाम – सीजे

भूमिका – गेंदबाज

बल्लेबाजी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के तेज-मध्यम

ऊँचाई – 6 फुट 2 इंच

शिक्षा – डुलविच कॉलेज

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 8 180 35 18 56.25 0 0 24 1 14
ODIs 31 169 38* 12.07 89.89 0 0 12 5 19
T20Is 26 134 27* 13.4 111.66 0 0 11 5 12
First-class 94 2700 147 25 2 12 114
List A 72 560 55 14.73 0 1 42
T20s 99 661 45* 17.39 117.61 0 0 53 20 54
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 8 21 4/18 7/50 35.8 2.94 72.8 1 0 0
ODIs 31 43 5/29 5/29 35.37 5.95 35.6 0 1 0
T20Is 26 31 4/28 4/28 26.19 8.73 18 1 0 0
First-class 94 284 7/43 9/58 32.25 3.44 56.2 10 9 0
List A 72 109 5/28 5/28 28.84 5.71 30.2 1 2 0
T20s 99 105 4/11 4/11 25.53 8.5 18 2 0 0

क्रिस जॉर्डन, जिनका जन्म बारबडोस में हुआ था, खेल से संबंधित एक छात्रवृत्ति प्राप्त करके इंग्लैंड गए और वहां के डलविच कॉलेज में भर्ती हो गए। वर्ष 2007 में वह 18 वर्ष की आयु में काउंटी क्रिकेट खेलने लगे और सर्रे की टीम की ओर से खेलते हुए उन्होंने काउंटी प्रतियोगिता में पांच मुकाबलों में 20 विकेट हासिल किए।



दुर्भाग्य से, उसके बाद वह लगातार चोटों से जूझते रहे और पीठ की एक समस्या के कारण वह वर्ष 2010 के दौरान पूरी तरह से क्रिकेट से दूर रहे। वर्ष 2011 में उनकी वापसी अधिक प्रभावशाली नहीं रही क्योंकि वह केवल 11 विकेट ही हासिल कर सके, परंतु वह उसी वर्ष सर्दियों में कुछ समय के लिए बारबडोस की टीम में शामिल हुए और उन्होंने 13 विकेट भी लिए। वर्ष 2012 में उन्होंने सर्रे की टीम में वापसी की, परंतु उनके प्रदर्शन में बड़ी गिरावट आई और उन्हें उस सत्र के अंत में अनुबंध से मुक्त कर दिया गया। वह पुनः बारबडोस की टीम में लौटे और 15.18 की औसत से 16 विकेट लेकर उन्होंने शानदार प्रदर्शन किया।

टाइमल मिल्स – इंग्लैंड/रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर – रिकॉर्ड

इसके बाद वर्ष 2013, जॉर्डन के लिए अच्छा फल देने वाला सिद्ध हुआ क्योंकि इसी वर्ष वह ससेक्स की टीम के साथ जुड़े थे। उन्होंने यॉर्कशायर के विरुद्ध अपने पदार्पण मुकाबले में 48 रन देकर 6 विकेट हासिल किए और वह काउंटी चैम्पियनशिप प्रतियोगिता में सर्वाधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ियों में से एक बने। उन्होंने अगस्त में बांग्लादेश-ए के विरुद्ध होने वाली अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय मुकाबलों का श्रृंखला में इंग्लैंड लॉयंस की टीम का ओर से खेलने का अवसर अर्जित किया और आयरलैंड और ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध होने वाले मुकाबलों के लिए वरिष्ठ टीम में भी उनका चयन हुआ था। उन्होंने आखिरकार ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध साउथेम्प्टन में खेले गए मुकाबले में अपना अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय पदार्पण किया और अपने पहले ही मुकाबले में तीन विकेट हासिल किए। उनके इस प्रदर्शन ने वर्ष 2014 के आरंभ में इंग्लैंड के ऑस्ट्रेलिया और वेस्टइंडीज़ दौरे के लिए सीमित ओवरों वाले मुकाबलों के लिए टीम में उनके लिए जगह अर्जित की। वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध तीसरे अंतरराष्ट्रीय टी-20 मुकाबले में उनके वीरतापूर्ण प्रदर्शन ने सबका ध्यान आकर्षित किया क्योंकि उन्होंने इंग्लैंड की पारी के अंतिम ओवर में ड्वेन ब्रावो की गेंदों पर चार छक्के लगाते हुए 26 रन बटोरे, जिसके कारण इंग्लैंड की टीम ने मुकाबला करने योग्य स्कोर बनाया, और उसके बाद उन्होंने(जॉर्डन ने) वेस्टइंडीज़ के तीन विकेट लेकर अपनी टीम को मुकाबले में सांत्वना देने वाली विजय दिलाई।

मोईन अली – इंग्लैंड – रिकॉर्ड



जॉर्डन अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय टीम में बार-बार अंदर-बाहर होते रहे हैं। श्रीलंका के विरुद्ध इंग्लैंड में ही खेली गई अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय श्रृंखला में उनके शानदार प्रदर्शन, जब उन्होंने पांच मुकाबलों में 12 विकेट लिए, के बाद चयनकर्ताओं ने उन्हें उसी विपक्षी टीम के विरुद्ध अपना प्रथम टेस्ट मुकाबला खेलने का अवसर प्रदान किया। उन्होंने भारत के विरुद्ध खेले गए तीन टेस्ट मुकाबलों में भी भाग लिया और श्रृंखला की प्रगति के साथ-साथ उन्होंने अपने प्रदर्शन में और सुधार किया परंतु वह अपने अच्छे प्रदर्शन को अंतरराष्ट्रीय एकदिवसीय श्रृंखला में जारी नहीं रख सके। उन्होंने पांच मुकाबलों की श्रृंखला में केवल एक ही मुकाबला खेला और श्रीलंका के दौरे के दौरान भी उनका प्रदर्शन कुछ अच्छा नहीं रहा। क्रिस वॉक्स की वापसी के कारण भी टीम में जॉर्डन का दबदबा कम हुआ था। परंतु फिर भी उन्हें विश्वकप के लिए 15 सदस्यों की टीम में जगह दी गई।

स्टुअर्ट ब्रॉड – इंग्लैंड – रिकॉर्ड

Summary
Review Date
Reviewed Item
Chris Jordan Records | England | SRH | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: