डैरेन गफ – इंग्लैंड – रिकॉर्ड

Darren Gough Records

पूरा नाम – डैरेन गफ

जन्म – सितम्बर 18, 1970, मोंक ब्रेटन, बार्नस्ले, यॉर्कशायर

प्रमुख टीमें – इंग्लैंड, एसेक्स, यॉर्कशायर

उपनाम – राइनो, डेज़लर

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के तेज-मध्यम

ऊँचाई – 5 फीट 11 इंच

टेस्ट पदार्पण (कैप 568) – 30 जून 1994 बनाम न्यूजीलैंड
अंतिम टेस्ट – 31 जुलाई 2003 बनाम दक्षिण अफ्रीका

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 126) – 19 मई 1994 बनाम न्यूजीलैंड
अंतिम एकदिवसीय – 2 सितंबर 2006 बनाम पाकिस्तान

टी 20 पदार्पण (कैप 3) – 13 जून 2005 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम टी 20 – 28 अगस्त 2006 बनाम पाकिस्तान

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	58	86	18	855	65	12.57	1967	43.46	0	2	102	9	13	0 एकदिवसीय	159	87	38	609	46*	12.42	947	64.3	0	0	43	5	25	0 टी२०	2	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	0	0 प्रथम श्रेणी	248	326	60	4607	121	17.31			1	20			51	0 लिस्ट ए	420	225	75	2092	72*	13.94			0	2			73	0 ट्वेंटी२०	32	18	5	205	37	15.76	157	130.57	0	0	23	4	2	0
Darren-Gough-Batting-and-Fielding-Records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	58	95	11821	6503	229	6/42	9/92	28.39	3.3	51.6	14	9	0 एकदिवसीय	159	156	8470	6209	235	5/44	5/44	26.42	4.39	36	10	2	0 टी२०	2	2	41	49	3	3/16	3/16	16.33	7.17	13.6	0	0	0 प्रथम श्रेणी	248		44023	23217	855	7/28		27.15	3.16	51.4		33	3 लिस्ट ए	420		20665	14457	598	7/27	7/27	24.17	4.19	34.5	21	7	0 ट्वेंटी२०	32	32	665	830	33	3/16	3/16	25.15	7.48	20.1	0	0	0
Darren-Gough-Bowling-Records-in-Hindi

डैरेन गॉफ़ अन्य तेज गेंदबाजों के विपरीत शरीर से थोड़े भारी थे| इस बात ने आलोचकों को उनके करियर के शुरुआती समय में फिटनेस की कमी के साथ जोड़ने के लिए मजबूर किया, लेकिन उन्होंने कुछ वर्षों में ही इंग्लैंड के सबसे सफल गेंदबाज़ों में से एक बनकर उन बातो को गलत साबित कर दिया।

5 फुट 11 इंच के इस आदमी ने अपने घरेलू काउंटी यॉर्कशायर के लिए 19 वर्ष की आयु में प्रथम श्रेणी जीवन की शुरुआत की। वह गेंद को दोनों तरफ स्विंग करने के लिए जाने जाते थे और इन्हें अक्सर गेंद के साथ एक ‘स्किडी कस्टमर’ के रूप में जाना जाता था| वह यॉर्कशायर के साथ 15 वर्षों तक रहे, जिसके दौरान 1993 में, क्लब के ही एक विदेशी खिलाड़ी रिची रिचर्डसन ने उन्हें सलाह दी कि समीक्षकों को भूल जाएँ और सिर्फ गति पर ध्यान दें। वेस्ट इंडीज के इस धुरंधर ने गॉफ़ के आत्मविश्वास को बढ़ाया और कुछ अच्छे प्रदर्शनों के बाद, वह 50 ओवर प्रारूप के लिए 1994 में राष्ट्रीय टीम में चुने गए। इसके तुरंत बाद, उन्होंने उसी वर्ष में अपना पहला टेस्ट मैच भी खेला। आखिरकार, चोंटो से प्रभावित करियर के बावजूद, वह एकदिवसीय मैचों में इंग्लैंड के दूसरे सबसे अधिक विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने, जबकि वे टेस्ट में अपने देश के शीर्ष गेंदबाजों की सारणी में नौवें स्थान पर रहे।

गेंद के साथ गॉफ़ की क्षमता के कारण उन्हें पहली बार पाँच विकेट हासिल करने के लिए सिर्फ 4 एकदिवसीय मुकाबले खेलने पड़े। अपने 159 मैचों के एकदिवसीय कैरियर के दौरान,गॉफ़ ने अपने कप्तान को औसतन एक मुकाबले में डेढ़ विकेट का आश्वासन दिया। उन्होंने नियमित अंतराल पर विकेट लेना जारी रखा और 234 विकेट लिए जिसमें उन्होंने दस बार 4 या उससे ज्यादा विकेट हासिल किए। इस प्रक्रिया में वह एकदिवसीय प्रारूप में 200 विकेट लेने वाले पहले इंग्लिश गेंदबाज बने। उनका सर्वश्रेष्ठ 1997 में लॉर्ड्स में दौरा कर रही ऑस्ट्रेलियाई टीम के खिलाफ आया, जहां उन्होंने 40 रन देकर 5 विकेट लिए थे, जिसके कारण उन्हें करियर में दूसरी और आखिरी बार पाँच विकेट मिले। पाकिस्तान के खिलाफ घरेलू श्रृंखला में पिंडली में चोट लगने के बाद, गॉफ़ ने एकदिवसीय क्रिकेट से सन्यास की घोषणा की।

गॉफ़ की शुरुआत टेस्ट क्रिकेट में शानदार रही। उन्होंने न्यूजीलैंड के खिलाफ अपने पहले मैच में चार विकेट लिए थे और बाद में बल्ले से भी 65 रन बनाए। इससे इंग्लिश मीडिया ने उन्हें “नया बॉथम” कहा। हालांकि, गॉफ़ एक अच्छे हरफ़नमौला ख़िलाड़ी बनने का दबाव सह नहीं पाए और उन्होंने अपना बल्लेबाजी फॉर्म खो दिया, जिसके बाद उन्हें एक गेंदबाज के रूप में जाना जाने लगा, जो थोड़ी बहुत बल्लेबाज़ी कर सकता था। अपने टेस्ट मैच के कैरियर में, 1999 में सिडनी में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ टेस्ट इतिहास में 23वीं हेट-ट्रिक लेने के लिए उन्हें सबसे ज्यादा जाना जाता है। अपने कैरियर में 229 विकेट के साथ, जिसमे नौ बार पारी में पाँच या ज्यादा विकेट शामिल है, गॉफ़ को क्रिकेट के सबसे लंबे प्रारूप से घुटने की परेशानी के कारण 2003 में सन्यास लेना पड़ा|

गॉफ़ अंतरराष्ट्रीय टी 20 क्रिकेट में ज्यादा नहीं खेल सके क्योंकि सबसे छोटा प्रारूप तब अपनी पहचान बना रहा था और वह सिर्फ 2 मैचों में खेले – ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ शुरुआत और 2006 में पाकिस्तान के खिलाफ आखिरी मैच।

यॉर्कशायर में लंबे समय के कार्यकाल के बाद, गॉफ़ को पारिवारिक कारणों के चलते एसेक्स जाना पड़ा, लेकिन वह 2007 में अपने पूर्व क्लब में वापस आए, और कहा,”वे जानते हैं कि मैं यॉर्कशायर के लिए दीवारों के बीच से भी चला जाऊंगा।” उन्हें कप्तान बनाया गया और उनकी कप्तानी का रिकॉर्ड कई जीतो के साथ सनसनीखेज रहा। उन्होंने जून 2007 में, 11 वर्षों में, यॉर्कशायर के लिए सर्वश्रेष्ठ गेंदबाजी के आंकड़े दिए, केंट के खिलाफ 6/47 लेकर| इसके एक साल बाद, डैरेन गॉफ़ ने खेल के सभी प्रारूपों से सन्यास लेने का फैसला किया और 248 मैचों में 855 विकेटो के साथ अपने प्रथम श्रेणी करियर का अंत किया।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Darren Gough Records | England | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: