टाइमल मिल्स – इंग्लैंड/रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर – रिकॉर्ड

Tymal Mills Records in Hindi

पूरा नाम – टाइमल सुलैमान मिल्स

जन्म – 12 अगस्त, 1992, डिजबरी, यॉर्कशायर

प्रमुख टीमें – इंग्लैंड, ऑकलैंड, ब्रिस्बेन हीट, चटगांव वाइकिंग्स, इंग्लैंड लायंस, इंग्लैंड प्रदर्शन कार्यक्रम, इंग्लैंड अंडर -19 एस, एसेक्स, एसेक्स 2 जी, क्वाटा ग्लैडीएटर्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सफ़ोक, ससेक्स

बल्लेबाजी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – बाएं हाथ के तेज

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
T20Is 4 0 0 0 0 0 0 0 0 1
First-class 32 260 31* 11.3 57.77 0 0 34 6 9
List A 23 7 3* 1.75 31.81 0 0 0 0 3
T20s 67 39 8* 3.9 88.63 0 0 2 3 10
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
T20Is 4 3 1/27 1/27 38.66 7.25 32 0 0 0
First-class 32 55 4/25 5/79 36.5 3.41 64.2 3 0 0
List A 23 22 3/23 3/23 35.77 5.97 35.9 0 0 0
T20s 67 77 4/22 4/22 22.54 7.5 18 1 0 0



तेज़ गेंदबाज़ी के बिना क्रिकेट क्या है? तेज़ी/गति के बारे में बात करें। वास्तविक तेज़ी/गति। यदि आप क्रिकेट के मुकाबले में तेज़ गेंदबाज़ी के प्रशंसक हैं जो आँख के झपकने के साथ ही आपकी भावनाओं को जगा देती है तो टायमल सोलोमन मिल्स ही वह खिलाड़ी है जो ऐसा कर सकता है । मिल्स की क़ाबिलियत के बारे में ना तो अधिक लोगों ने सुना, ना तो अधिक लोगों ने इसे देखा और ना ही अधिक लोगों ने इसकी वास्तविकता को स्वीकार किया। उनके द्वारा नैटवेस्ट श्रृंखला के एक टी-20 मुकाबले में 93 मील प्रति घंटे की बिजली जैसी रफ्तार से फेंकी गई एक गेंद क्रिस गेल, जो विश्व क्रिकेट के महान बल्लेबाज़ों में से एक है, के पैर में लगने तक सब कुछ ऐसा ही रहा। टड्डनहैम, एक जगह जो विश्व के मानचित्र पर बड़ी मुश्किल से नज़र आती है, में जन्मे मिल्स अब एक करोड़पति है। और वह भी आधिकारिक तौर पर ।

बेन स्टोक्स – इंग्लैंड – रिकॉर्ड

यह एक दिल को छू लेने वाली कहानी थी। ऐसा सच में है। यह एक अनुभवहीन और अनियंत्रित गेंदबाज़ से सर्वाधिक धनी खेल लीग़ों (संघों) में से एक के साथ अनुबंध हासिल करने तक की यात्रा है। टायमल मिल्स ने क्रिकेट को नहीं चुना था। उनकी कहानी कुछ अलग ही है। जब उनकी आयु 13 वर्ष थी, तब अपने एक पारिवारिक मित्र के माध्यम से उनका इस खेल से परिचय हुआ और शीघ्र ही उन्हें गेंदबाज़ी करना अच्छा लगने लगा। बेशक, वह अपनी श्रेणी के क्रिकेट में अपनी घातक गति के द्वारा डराने वाले गेंदबाज़ थे। कई लड़के तो उनके विरुद्ध बल्लेबाज़ी करने से मना कर देते थे। इसमें मिल्स की क्या ग़लती थी? वह ग़लती थी पूरे ज़ोर से तेज़ गेंदबाज़ी करना।



मिल्स टड्डनहैम में रिचर्ड क्रॉस की कप्तानी में खेलते थे । द टैलीग्राफ़ के साथ एक साक्षात्कार में क्रॉस ने मिल्स के आरंभिक दिनों को उनकी प्रकृति कहकर वर्णित किया। मिल्स की गति के बारे में उचित साक्ष्य देते हुए क्रॉस ने कहा, ” मेरे पिता मुझसे कहा करते थे कि दो तिहाई बल्लेबाज़ों के विरुद्ध टायमल की गेंदबाज़ी के लिए तुम्हें सभी 10 क्षेत्ररक्षक विकेट के पीछे रखने चाहिए क्योंकि वे लोग उनकी गेंदों को उनकी अत्यधिक तेज़ गति के कारण सामने की ओर नहीं मार सकते थे । ”

क्रिस जॉर्डन – इंग्लैंड/सनराइज़र्स हैदराबाद – रिकॉर्ड

कई दूसरी युवा प्रतिभाओं की भांति ही मिल्स ने भी अपनी प्रसिद्धि का औचित्य साबित करने में कुछ समय लिया । अपने प्रारंभिक दिनों में विभिन्न उतार-चढ़ावों के बाद, 19 वर्ष की आयु में मिल्स ने एसेक्स की ओर से अपना क्रिकेट करियर बनाने के लिए पत्रकारिता को छोड़ दिया था। उन्होंने अकादमी में लगातार प्रगति की, जिसने वर्ष 2011 में उनके चैम्पियनशिप पदार्पण से पहले उन्हें इंग्लैंड की अंडर-19 टीम का प्रतिनिधित्व करने में सहायता की।

2013-14 की एशेज़ श्रृंखला के दौरान, जब मिचेल जॉनसन इंग्लैंड की टीम को परेशान कर रहे थे, तब कुछ लोगों ने टीम में टायमल मिल्स को शामिल करने का सुझाव दिया, ताकि आग का प्रत्युत्तर आग से दिया जा सके अर्थात् कड़ा मुकाबला किया जा सके। मिल्स को ऑस्ट्रेलिया ले जाया गया ताकि वह बाएं हाथ के तेज़ गेंदबाज़ मिचेल जॉनसन की अत्यधिक गति को खेलने की आदत बनाने में अपनी टीम की मदद कर सकें। इसी श्रृंखला के दौरान यह कानाफूसी भी हुई कि उन्होंने नेट्स में गेंदबाज़ी करते हुए ग्रीम स्वॉन की बांह को लगभग तोड़ दिया था।

वर्ष 2014 में एसेक्स की टीम के साथ एक खराब चैम्पियनशिप सत्र के बाद, मिल्स अपने करियर को तेज़ी प्रदान करने के लिए ससेक्स की टीम में शामिल हो गए। हालांकि वह इंग्लैंड लॉयंस की टीम के किनारे पर बने रहे, वर्ष 2015 में मिल्स को पीठ की एक जन्मजात समस्या का सामना करना पड़ा जिसने उनके खेल के लंबे प्रारूप में खेलने में बाधा उत्पन्न कर दी। जैसा कि अधिकतर महान लोग करते हैं, मिल्स ने भी एक आशा की किरण को तलाश ही लिया, उन्होंने हिम्मत जुटाई और टी-20 क्रिकेट के लिए अपनी गेंदबाज़ी में सभी प्रकार की विविधताओं को प्राप्त करने के लिए कड़ी मेहनत की।



उन्होंने अपना पदार्पण 5 जुलाई 2016 को श्रीलंका के विरुद्ध साउथेम्प्टन में किया और वह जल्दी ही विश्व में कई टी-20 प्रतियोगिताओं में अपनी गेंदबाज़ी का जलवा दिखाते हुए टेलीविज़न पर एक जाना-पहचाना चेहरा बन गए। वर्ष 2017 की आईपीएल की नीलामियों से ठीक पहले उन्हें अपनी दावेदारी को साबित करने का एक बड़ा मौका भी मिला। मिल्स ने भारत के विरुद्ध तीनों टी-20 अंतरराष्ट्रीय मुकाबलों में भाग लिया और वह एक स्वीकार करने योग्य दर से रन देकर 3 विकेट हासिल करने में सफल रहे।

इयान मॉर्गन – इंग्लैंड – रिकॉर्ड

मिल्स को 20 फरवरी 2016 के दिन अपने ऊपर अचानक आए सबके ध्यान का विश्वास स्वयं को दिलाने के लिए चुटकी काटनी पड़ी थी, यह एक ऐसा दिन था जिसे वह कभी गलती से भी भूल नहीं सकते क्योंकि इस दिन उन्हें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के लिए खेलने के लिए 1.4 मिलियन अमेरिकी डॉलर के एक अनुबंध की पेशकश की गई थी। ज़िंदगी के द्वारा शरीर के लिए तय की गई सीमाओं के बावज़ूद एक व्यक्ति क्या कुछ हासिल कर सकता है, टायमल मिल्स लगभग पूरी तरह से इसके एक सशक्त उदाहरण हैं। आख़िरकार क्रिकेट एक मानसिक खेल है अर्थात् इस खेल में मानसिक शक्ति का भी योगदान होता है। हाँ मिल्स धीमी गेंदें भी फेंक सकते हैं।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Tymal Mills Records | England | RCB | CricketinHindi,com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: