आकाश चोपड़ा – भारत – रिकॉर्ड

Aakash Chopra Records

पूरा नाम – आकाश चोपड़ा

जन्म – 19 सितंबर, 1977, आगरा, उत्तर प्रदेश

प्रमुख टीमें – भारत, दिल्ली, हिमाचल प्रदेश, कोलकाता नाइट राइडर्स, मैरीलेबोन क्रिकेट क्लब, राजस्थान, राजस्थान रॉयल्स

भूमिका – बल्लेबाज़

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ से मध्यम, दाएं हाथ से ऑफ़ब्रेक

टेस्ट पदार्पण (कैप 246) – 8-12 अक्टूबर 2003 बनाम न्यूजीलैंड
अंतिम टेस्ट – 26-29 अक्टूबर 2004 बनाम ऑस्ट्रेलिया

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	10	19	0	437	60	23	1263	34.6	0	2	49	0	15	0 प्रथम श्रेणी	162	266	27	10839	301*	45.35			29	53			189	0 लिस्ट ए	65	61	7	2415	130*	44.72			7	17			29	0 ट्वेंटी२०	21	19	1	334	72*	18.55	366	91.25	0	1	28	1	4	0
Aakash-Chopra-Batting-and-Fielding-Records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	10	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- प्रथम श्रेणी	162		546	320	6	2/5		53.33	3.51	91		0	0 लिस्ट ए	65		84	58	1	1/17	1/17	58	4.14	84	0	0	0 ट्वेंटी२०	21	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-
Aakash-Chopra-Bowling-Records-in-Hindi

कलात्मक सलामी बल्लेबाज आकाश चोपड़ा के पास ऐसी तकनीक और मानसिक क्षमता है जो क्रीज पर टिके रहने और गेंद की दिशा और गति को पहचानने के लिए उपयुक्त है। उनकी ये विशेषताएँ उनके लिए और भारत के लिए तब बहुत उपयोगी साबित हुईं जब टीम को सलामी बल्लेबाजों की एक कामयाब जोड़ी की सख्त आवश्यकता थी। 2002-03 के अंत में दाएं घुटने की चोट से जूझने के बाद चोपड़ा ने न्यूजीलैंड के खिलाफ घर में दो टेस्ट मैचों की सीरीज में शानदार बल्लेबाजी प्रदर्शन के साथ नए सीज़न की सफल शुरुआत की। इससे उन्हें ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिए टिकट मिल गया जहां उन्होंने वीरेंद्र सहवाग के साथ साझेदारी कर टीम को ठोस शुरूआत दिलाने में मदद की और अपनी प्रतिष्ठा को बढ़ाया।

हालांकि वह ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ चार टेस्ट मैचों में 50 का आंकड़ा पार करने में नाकाम रहे, लेकिन उन्होंने पिच पर पारी की शुरुआत में महत्वपूर्ण समय बिताने के लिए पर्याप्त धैर्य दिखाया और नई गेंद के साथ टीम को एक ठोस शुरुआत दिलायी जिससे मजबूत मध्य क्रम को बड़ा स्कोर बनाने में काफी मदद मिली। वह एक उत्कृष्ट क्षेत्ररक्षक भी साबित हुए। उनकी महान एकनाथ सोलकर के साथ भी तुलना हुई।

दुर्भाग्यवश, 2004 में पाकिस्तान के दौरे पर युवराज सिंह प्रमुख बल्लेबाज के रूप में स्थापित हो गए और चोपड़ा की स्थिति टीम में असुरक्षित सी हो गयी। 2004 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घरेलू सीरीज़ में एक अप्रतिम प्रदर्शन के बाद उन्हें टीम से हटा दिया गया। तीन साल बाद, उन्हें दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ अनौपचारिक टेस्ट में भारत ए के लिए पारी की शुरुआत करने के लिए चुना गया था। दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ मैच में उन्होंने नाबाद दोहरा शतक बनाया। 2007-08 का मौसम चोपड़ा के लिए काफ समृद्ध रहा: दिल्ली के खिताबी जीत वाले रणजी ट्रॉफी अभियान में 783 रन; एकदिवसीय संस्करण में 100 से अधिक के स्ट्राइक रेट के साथ तीन शतक; दिलीप ट्रॉफी में 310 रन, उत्तर की जीत के लिए मदद। बाद में चोपड़ा ने इंडियन प्रीमियर लीग में कोलकाता नाइट राइडर्स में शामिल हो गए।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Aakash Chopra Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: