अमित मिश्रा – भारत – रिकॉर्ड

Amit Mishra Records

पूरा नाम – अमित मिश्रा

जन्म – नवंबर 24, 1982, दिल्ली

प्रमुख टीमें – भारत, डेक्कन चार्जर्स, दिल्ली डेयरडेविल्स, हरियाणा, इंडिया ब्लू, हैदराबाद

भूमिका – गेंदबाज

बल्लेबाजी की शैली – राइट-हैंड बैट

गेंदबाजी की शैली – लेग-ब्रेक

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 22 648 84 21.6 58.74 0 4 79 3 8
ODIs 36 43 14 5.37 52.43 0 0 4 0 5
T20Is 10 0 0 0 0 0 0 0 1
First-class 147 4024 202* 21.86 1 17 74
List A 132 757 55 12.4 0 1 35
T20s 184 698 49 13.96 96.27 0 0 64 7 33
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 22 76 5/71 7/72 35.72 3.19 67.1 2 1 0
ODIs 36 64 6/48 6/48 23.6 4.72 29.9 2 2 0
T20Is 10 16 3/24 3/24 15 6.31 14.2 0 0 0
First-class 147 521 6/66 29.22 3.03 57.7 21 1
List A 132 222 6/25 6/25 23.63 4.6 30.7 7 5 0
T20s 184 211 5/17 5/17 21.67 7.12 18.2 4 2 0

2000 के दशक की शुरुआत में जब अमित मिश्रा पहली बार नज़र आए थे तब उन्होने अपनी शास्त्रीय और आक्रामक लेग स्पिन गेंदबाज़ी से जो की अक्सर हवा और पिच से मिले तेज़ टर्न पर आश्रित थी, से सबको प्रभावित किया. लेकिन उस समय भारत के पास दो दिग्गज स्पिन्नर अनिल कुंबले और हरभजन सिंह मौजूद थे और ऐसे में अमित मिश्रा के लिए कोई स्थान नही बन पाया.



मिश्रा ने अपना पदार्पण 2003 में बांग्लादेश में चल रही त्रिकोणीय एकदिवसीय श्रंखला में किया लेकिन टेस्ट मैचों के लिए उन्हें 2008 तक इंतज़ार करना पड़ा. ये मौका तब आया जब चोट के कारण अनिल कुंबले को ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ मोहाली टेस्ट से बाहर होना पड़ा. मिश्रा की टेस्ट में शुरुआत एक सपने की तरह हुई और वे अपने पहले टेस्ट में 5 विकट एक पारी में लेने वाले छटवें भारतीय गेंदबाज़ बने. ऑस्ट्रेलिया के बल्लेबाज़ों को खूब छकाते हुए उन्होने सीरीज़ में तीन मैचों में 14 विकट झटके. संयोग से मिश्रा की पहले टेस्ट सीरीज़ कुंबले की आख़िरी साबित हुई और उन्हे खुद को भारत का प्रमुख स्पिन गेंदबाज़ बनाने का मौका मिला. लेकिन उनकी सौम्य पिचों पर स्पिन ना करा पाने की कमी और सट्टेकता की कमी के चलते अन्य स्पिन्नर उनसे आगे निकल गए.

अगर अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में मिश्रा का सफ़र संघर्ष भरा था तो वहीं रणजी मैचों में हरयाणा की गेंदबाज़ी की कमान संभालते हुए मिश्रा ने सालों तक विकटों की कतार लगा दी. लेकिन मिश्रा को हमेशा सुर्ख़ियों में रखने वाला था उनका आईपीएल का प्रदर्शन , जिसमें वे सबसे अच्छे स्पीन्नेरॉं में गिने जाते रहे हैं और तीन हैट-ट्रिक लेने वाले इकलौते गेंदबाज़ हैं. तीनों हैट-ट्रिक अलग अलग टीमों के लिए आई – दिल्ली डेयरडेविल्स (2008), डेक्कन चार्जेरस (2011) और सनराइज़ेर्स हैदराबाद (2013). 2015 में मिश्रा अपनी आईपीएल की पहले टीम दिल्ली डरेदेविल्स में 3.5 करोड़ में खरीदे गए.

2013 के आईपीएल में अपने शानदार प्रदर्शन, जिसमें उन्होने बल्लेबाज़ों को अपनी गति और उछाल से हमेशा संदेह में रखा, के दम पर उन्हें इंग्लैंड में होने वाली चॅंपियन्स ट्रोफी और ज़िंबाब्वे दौरे के लिए टीम में चुना गया – ये उनकी आख़िरी अंतरराष्ट्रीय स्तर पर प्रदर्शनी के दो साल बाद था. उन्होने निराश ना करते हुए ज़िंबाब्वे के खिलाफ 11.61 की औसत से पाँच मैचों में 18 विकेट लेकर जवागल श्रीनाथ के रिकौर्ड़ की बराबरी की. मिश्रा का अच्छा प्रदर्शन अगले साल हुए बांग्लादेश में विश्व टी२० में भी जारी रहा और उन्होने 14.7 की औसत से और 6.68 रन प्रति ओवर की दर से 10 विकट लिए, और भारत टूर्नामेंट में तीन स्पिन्नर खिलाने की रणनीति से दूसरे नंबर पर रहा, जब श्रीलंका ने फाइनल में शिकस्त दी.



युवा स्पिन गेंदबाज़ों की कमी के चलते मिश्रा को 2015 के श्रीलंका दौरे के लिए टेस्ट टीम में बुलाया गया. चार साल बाद अपने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर वापसी करते हुए उन्होने अश्विन का बखूबी साथ निभाया और 15 की औसत से तीन टेस्ट मैचों में 15 विकट लिए. रवीन्द्र जडेजा की 2015-16 में दक्षिण आफ्रिका के खिलाफ घरेलू सीरीज़ में शानदार वापसी के चलते मिश्रा को चार में से केवल दो टेस्ट मैचों में खिलाया गया और उन मे भी मिश्रा ने बढ़िया प्रदर्शन करते हुए 17.28 की औसत से 7 विकट लिए जिसमें ए बी डिविलियर्स (दो बार), हाशिम अमला, फाफ डू प्लेसिस और जे पी ड्यूमिनी के विकेट शामिल थे.

आई पी एल कैरियर

प्रतियोगिता के पांच संस्करणों में अमित मिश्रा एक निरंतर विकेट लेने वाले गेंदबाज़ रहे हैं। निचले क्रम में उन्होंने कुछ मौकों पर बल्लेबाज़ी में भी महत्वपूर्ण योगदान दिया है।

17 अप्रैल 2013 को आई पी एल के छठवें संस्करण में सनराइज़र्स हैदराबाद की ओर से उन्होंने पुणे वारियर्स इंडिया के खिलाफ हैट्रिक ली। इस हैट्रिक के साथ आई पी एल में तीन बार हैट्रिक लेने वाले वह पहले गेंदबाज़ बने। इसके पूर्व आई पी एल 2008 में डेल्ही डेयरडेविल्स की ओर से डेक्कन चार्जर्स के खिलाफ और आई पी एल 2011 में डेक्कन चार्जर्स की ओर से किंग्स XI पंजाब के खिलाफ उन्होंने हैट्रिक ली थी।

आई पी एल 2015, 2016 तथा 2017 में वह दिल्ली डेयरडेविल्स की ओर से खेले।

Leave a Response

share on: