ऋषिकेश कानिटकर – भारत – रिकॉर्ड

Hrishikesh Kanitkar Records in Hindi

पूरा नाम – ऋषिकेश हेमंत कानिटकर

जन्म – 14 नवंबर, 1974, पुणे, महाराष्ट्र

प्रमुख टीमें – भारत, एयर इंडिया, मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र, राजस्थान

बल्लेबाजी शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के ऑफब्रेक

टेस्ट पदार्पण (कैप 224) – दिसंबर 26, 1997 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम टेस्ट – 2 जनवरी 2000 बनाम ऑस्ट्रेलिया

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 109) – 7 दिसंबर 1997 बनाम श्रीलंका
अंतिम वनडे – 30 जनवरी 2000 बनाम ऑस्ट्रेलिया

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	2	4	0	74	45	18.5	185	40	0	0	8	0	0	0 एकदिवसीय	34	27	8	339	57	17.84	512	66.21	0	1	25	1	14	0 प्रथम श्रेणी	146	222	23	10400	290	52.26			33	46			85	0 लिस्ट ए	128	116	16	3526	133	35.26			6	21			49	0 ट्वेंटी२०	2	2	0	3	2	1.5	7	42.85	0	0	0	0	1	0
Hrishikesh-Kanitkar-Batting-and-Fielding-records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	2	1	6	2	0	-	-	-	2	-	0	0	0 एकदिवसीय	34	28	1006	803	17	2/22	2/22	47.23	4.78	59.1	0	0	0 प्रथम श्रेणी	146		7753	3546	74	3/21		47.91	2.74	104.7		0	0 लिस्ट ए	128		3476	2775	70	4/35	4/35	39.64	4.78	49.6	1	0	0 ट्वेंटी२०	2	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-
Hrishikesh-Kanitkar-Bowling-records-in-Hindi

ऋषिकेश कानिटकर का नाम पीढ़ियों के लिए गूंजेगा, जिसने कि भारत को 1998 में बांग्लादेश में आयोजित त्रिकोणीय श्रृंखला के फाइनल में पाकिस्तान के खिलाफ जीतने में मदद करने के लिए वो यादगार चौका लगाया था| तनाव से भरे माहौल में, कनिटकर ने पाकिस्तान के प्रसिद्ध स्पिनर सकलैन मुश्ताक की गेंद पर चौका जड़ा था, जिस वजह से भारत ने सिर्फ एक गेंद शेष रहते शानदार जीत दर्ज की थी।

दुर्भाग्य से हालांकि, कनिटकर के पास एक विचित्र अंतरराष्ट्रीय करियर था। बाएं हाथ के इस बल्लेबाज, जो ऑफ स्पिन गेंदबाजी भी करते थे, के क्रम को ऊपर और नीचे किया जाता रहता था, और इस बात ने उनकी मदद नहीं की। वास्तव में, वह अपने एकदिवसीय करियर में केवल एक ही अर्धशतक जमा पाए और वह भी 1998 में कोच्चि में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ आया था| वह 2000 के अंत में ऑस्ट्रेलिया में दो टेस्ट मुकाबलों में भी खेले।

हालांकि, उनके लिए ऑस्ट्रेलिया की तेज गेंदबाजी से निपटना मुश्किल रहा।

कानिटकर महाराष्ट्र के लिए एक विपुल रन स्कोरर थे और बाद में अपने करियर में, उन्होंने रणजी ट्रॉफी की दो जीतों में राजस्थान की कप्तानी भी की। कानिटकर ने खेल से वर्ष 2012-13 के अंत में सन्यास लिया और प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 10,000 से अधिक रन और 74 विकेट लिए।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Hrishikesh Kanitkar Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: