जैकब मार्टिन – भारत – रिकॉर्ड

जैकब मार्टिन - भारत - रिकॉर्ड

पूरा नाम – जैकब यूसुफ मार्टिन

जन्म – 11 मई, 1972, बड़ौदा, गुजरात

प्रमुख टीमें – भारत, बड़ौदा, रेलवे

बल्लेबाजी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाज़ी शैली – लेगब्रेक गुगली

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
ODIs 10 158 39 22.57 47.73 0 0 15 0 6
First-class 138 9192 271 46.65 23 47 118
List A 101 2948 133 39.3 3 20 37
T20s 2 14 10 7 77.77 0 0 2 0 1
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
ODIs 10
First-class 138 10 5/51 45.9 4.45 61.8 1 0
List A 101 9 2/15 2/15 31.44 4.55 41.4 0 0 0
T20s 2

लगभग 18 वर्षों तक जैकब मार्टिन घरेलू क्रिकेट में लगातार अच्छा प्रदर्शन करने वाले खिलाड़ी बने रहे। वह मुख्य रूप से बड़ौदा की टीम के लिए खेलते थे और 2000-01 के सत्र में रणजी ट्रॉफी में बड़ौदा की टीम की कप्तानी करते हुए वह अपनी टीम को उस प्रतियोगिता में खिताब जीतने की ओर ले गए थे। मार्टिन ने कुछ एकदिवसीय मुकाबलों में भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व भी किया, लेकिन उन्होंने अपनी विशेष पहचान बनाने के लिए संघर्ष किया।

ऋषिकेश कानिटकर – भारत – रिकॉर्ड

मार्टिन, जो बड़ी पारियां खेलने वाले एक खिलाड़ी के तौर पर जाने जाते थे, उस समय प्रसिद्ध हुए थे जब उन्होंने 1998-99 के सत्र में रणजी ट्रॉफी में 1,000 से ज्यादा रन बनाए थे। उन्होंने वर्ष 1999 में टोरंटो में वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध खेले गए एक एकदिवसीय मुकाबले में अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में अपना पदार्पण किया। उन्हें 1999-00 में ऑस्ट्रेलिया के दौरे पर जाने वाली भारतीय टीम में भी चुना गया था।



भारतीय टीम के लिए वह दौरा कठिन साबित होने के बावज़ूद, मार्टिन ने उसी दौरे पर अपनी क्षमता की झलकियां दिखाई। उस त्रिकोणीय श्रृंखला में, मार्टिन ने पाकिस्तान के विरुद्ध खेले गए मुकाबले में वेस्टर्न ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट एसोसिएशन के मैदान की उछालभरी पिच पर अपनी क्षमता का अच्छा प्रदर्शन किया। पाकिस्तान की टीम के शक्तिशाली गेंदबाज़ी आक्रमण का सामना करते हुए उन्होंने अपने संयम और बल्लेबाज़ी की रक्षात्मक पद्धति का प्रदर्शन किया। दुर्भाग्यवश, उस श्रृंखला के दौरान वह कई बार रन आउट हुए थे। उस दौरे के बाद से मार्टिन टीम से बाहर ही रहे।

अमय खुरसिया – भारत – रिकॉर्ड

हालांकि इसके बाद भी मार्टिन ने अपना साहस नहीं खोया था क्योंकि उनके लिए 2000-01 का सत्र शानदार रहा था, जब उन्होंने दोबारा प्रथम श्रेणी क्रिकेट में 1,000 से अधिक रन बनाए थे। वर्ष 2001 में उन्हें दक्षिण अफ्रीका में खेली जाने वाली त्रिकोणीय श्रृंखला के लिए भारतीय टीम में चुना गया था। दुर्भाग्यवश, वह केवल केन्या की टीम के विरुद्ध ही कुछ मुकाबले खेल सके थे। उसके बाद उन्हें भारतीय टीम के लिए दोबारा खेलने का मौका नहीं मिला।

हालांकि मार्टिन ने घरेलू क्रिकेट में अच्छा प्रदर्शन करना जारी रखा। 2008-09 के सत्र के बाद उन्होंने प्रथम श्रेणी क्रिकेट से भी संन्यास ले लिया।

हेमंग बदानी – भारत – रिकॉर्ड



Summary
Review Date
Reviewed Item
Jacob Martin Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: