जोगिन्दर शर्मा – भारत – रिकॉर्ड

Joginder Sharma Records in Hindi

पूरा नाम – जोगिंदर शर्मा

जन्म – 23 अक्टूबर, 1983, रोहतक

प्रमुख टीमें – भारत, चेन्नई सुपर किंग्स, हरियाणा, इंडिया ब्लू

भूमिका – ऑलराउंडर

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के तेज-मध्यम

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 158) – 23 दिसंबर 2004 बनाम बांग्लादेश
अंतिम एकदिवसीय – 24 जनवरी 2007 बनाम वेस्टइंडीज

टी 20 पदार्पण (कैप 16) – 19 सितम्बर 2007 बनाम इंग्लैंड
अंतिम टी 20 – 24 सितम्बर 2007 बनाम पाकिस्तान

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
ODIs 4 35 29* 35 116.66 0 0 5 0 3
T20Is 4 2
First-class 77 2804 139 24.81 60.19 5 10 15
List A 80 1040 87 18.24 86.95 0 2 14
T20s 63 425 75* 15.17 126.11 0 1 34 20 18
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
ODIs 4 1 1/28 1/28 115 4.6 150 0 0 0
T20Is 4 4 2/20 2/20 34.5 9.51 21.7 0 0 0
First-class 77 297 8/24 21.09 2.65 47.6 6 20 5
List A 80 115 6/40 6/40 23.22 4.48 31.1 4 2 0
T20s 63 61 4/14 4/14 23.73 7.06 20.1 1 0 0



पाकिस्तान के खिलाफ 2007 विश्व टी-20 के फाइनल में उन्हें उस आखिरी ओवर के लिए याद किया जाता है जिसकी वजह से भारत को 5 रनों से कप जीतने में मदद मिली। उस वर्ष ट्वेंटी-20 वर्ल्ड कप से पहले जोगिंदर शर्मा को बहुत लोग नहीं जानते थे। जीत ने सिर्फ भारत को खिताब जीतने में ही मदद नहीं की, बल्कि यह महेंद्र सिंह धोनी के लिए एक महान कप्तानी कैरियर की शुरुआत भी थी, जिन्हें बाद में भारत के बेहतरीन कप्तानों में से एक के रूप में याद किया जाता रहा है।

आखिरी ओवर में 12 रनों की जरूरत थी और मिस्बाह उल हक स्ट्राइक पर थे। धोनी को एक बड़ा फैसला करना था कि आखिरी ओवर में गेंद किसको दी जानी चाहिए। उन्होंने हरभजन सिंह के बजाय शर्मा को चुना और यह वास्तव में धोनी का एक मास्टर-स्ट्रोक निर्णय साबित हुआ क्योंकि भारत अब चैंपियन बन चुका था।

मुनाफ़ पटेल – भारत – रिकॉर्ड

शर्मा ने आईपीएल में चेन्नई सुपर किंग्स का प्रतिनिधित्व किया जिसका धोनी नेतृत्व करते थे। हालांकि वह टीम में नियमित नहीं थे और उन्होंने कुछ मैच ही खेले और 2011 तक फ्रैंचाइज़ी के साथ बने रहे।

शर्मा ने 2001-02 के सीज़न के दौरान अपने प्रथम श्रेणी करियर की शुरुआत की और एक ऑलराउंडर के रूप में काफी उपयोगी साबित हुए। एक फलदायी घरेलू सत्र की वजह से उन्हें 2004 में बांग्लादेश दौरे के लिए भारत की एकदिवसीय टीम में जगह मिली। उन्होंने तीन वनडे मैच खेले और 2007 में वेस्टइंडीज के खिलाफ सिर्फ एक और मैच खेला, क्योंकि वह अप्रभावी साबित हो रहे थे।

नवंबर 2011 में, वह दुर्भाग्यपूर्ण रूप से एक कार दुर्घटना में शामिल थे जहां उन्हें गंभीर सिर की चोटों का सामना करना पड़ा। हालांकि शर्मा अच्छी तरह से ठीक हो गए और 2012-13 के घरेलू सत्र में वापस लौट आए। उन्होंने तेजी से स्वास्थ्य में सुधार के लिए हरियाणा के फिजियो अमित त्यागी को धन्यवाद दिया। हालांकि इस समय श्री शर्मा के लिए राष्ट्रीय टीम में वापसी की संभावना निराशाजनक ही है, लेकिन वह घरेलू सर्किट में हरियाणा की टीम का एक अभिन्न अंग बने हुए हैं।

प्रवीण कुमार – भारत – रिकॉर्ड

प्रथम श्रेणी

शर्मा ने 2002-03 की रणजी ट्राफी में मध्य प्रदेश के खिलाफ हरियाणा के लिए अपने प्रथम श्रेणी करियर की शुरुआत की। उन्होंने 81 रन बनाये और 11/84 के आंकड़ों के साथ हरियाणा को 103 रनों से जीत दिलाई। उन्होंने सीमित ओवरों के क्रिकेट में पिछले ही साल शुरुआत की थी। शर्मा ने अपने पहले सीजन में 17.41 की औसत से 24 विकेट लिए और 46.66 की औसत से 280 रन भी बनाये। उन्होंने 2003/04 के रणजी सीज़न में 23.39 की औसत से 23 विकेट लिए और 68.51 की औसत से 148 रन भी बनाए। उन्हें उत्तर क्षेत्र की टीम के लिए दिलीप ट्रॉफी के लिए भी चुन लिया गया और विजयी अभियान के दौरान वेस्ट जोन के खिलाफ एक मैच में उन्होंने 59 रन देकर 6 विकेट भी लिये।



जब वह सबकी नज़रों में आये

शर्मा बैंगलोर में राष्ट्रीय टीम के खिलाफ भारत ए के लिए एक मैच में सबकी नज़रों में आये जब उन्होंने राहुल द्रविड़, वी वी एस लक्ष्मण और युवराज सिंह को आउट कर दिया। वह शेष भारत की ओर से उस टीम में भी खेले, जिसने ईरानी ट्रॉफी में मुंबई को हराया।

दो लगातार शतक बनाने और विदर्भ के खिलाफ 2004/05 की रणजी ट्रॉफी में 116 रन पर 14 विकेट हासिल करने के बाद शर्मा को बांग्लादेश दौरे के लिए भारतीय टीम में जगह मिल गयी। बल्लेबाज़ी में उन्हें कम मौके मिले और दो परियों में उन्होंने 39 रन बनाए। लेकिन उनकी गेंदबाजी अप्रभावी रही और वो 99 रन देकर एक विकेट ही ले पाये। उस ओडीआई श्रृंखला में खेलने के बाद उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया। उन्होंने रणजी ट्रॉफी में 15.47 की औसत से 36 विकेट लिए और 52 की औसत से 452 रन भी बनाये। 2005/06 में, वह दिलीप ट्रॉफी में सबसे बेहतर गेंदबाजी औसत वाले गेंदबाज़ थे।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Joginder Sharma Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: