केदार जाधव – भारत – रिकॉर्ड

Kedar Jadhav - India Records

पूरा नाम – केदार जाधव महादव

जन्म – 26 मार्च, 1985, पुणे, महाराष्ट्र

प्रमुख टीमें – भारत, दिल्ली डेयरडेविल्स, भारत ‘ए’, कोच्चि टस्कर्स केरल, महाराष्ट्र, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर

भूमिका – बल्लेबाज

बल्लेबाजी की शैली – राइट-हैंड बैट

गेंदबाजी की शैली – राइट-आर्म ऑफ ब्रेक

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
ODIs 40 798 120 39.9 109.01 2 3 85 15 19
T20Is 9 122 58 20.33 123.23 0 1 12 3 1
First-class 74 4945 327 46.21 69.09 13 19 673 60 53
List A 126 4220 141 47.41 107.29 9 25 435 91 57
T20s 104 1640 69 23.42 136.78 0 8 143 57 39
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
ODIs 40 16 3/29 3/29 32 5.18 37 0 0 0
T20Is 9
First-class 74 1 1/23 1/23 153 4.26 215 0 0 0
List A 126 19 3/29 3/29 35.36 5.47 38.7 0 0 0
T20s 104 4 2/23 2/23 22 8.8 15 0 0 0

 

केदार जाधव एक आक्रामक प्रवर्ती के मध्य क्रम के बल्लेबाज़ हैं जो महाराष्ट्र के लिए क्रिकेट खेलते हैं और सबसे पहले सुर्ख़ियों में आईपीएल के अपने पदार्पण मैच में दिल्ली डॅरर्डेवेल्स के लिए 29 गेंदों में 50 रन बनाकर आए थे. 2007-08 के प्रथम श्रेणी सीज़न में उन्होने 6 अर्धशतक और 1 शतक बनाया और जिन्होने उन्हे महाराष्ट्र के लिए क्रिकेट खेलते देखा है, वे मानते हैं की जाधव एक स्वाभाविक टी20 के खिलाड़ी हैं. शुरू में जाधव रॉयल चॅलेनजर्स बंगलोर के दल में थे, लेकिन उन्हे फिर दिल्ली ने खरीदा. हालाँकि पूरे सीज़न में केवल बंगलोर के खिलाफ बनाया अर्धशतक ही उनके लिए कुछ संतोषजनक साबित हुआ, और वे संघर्ष करते नज़र आए. अंततः वे बंगलोर के ही दल में सन 2016 में वापस लौट गए.

मनीष पांडेय – भारत – रिकॉर्ड

रणजी ट्रोफी में जाधव ने अपने लिए नाम कमाते हुए 2013-14 में टूर्नामेंट के सर्वाधिक स्कोरर का कीर्तिमान बनाया और 1233 रन, जिसमे 6 शतक शामिल थे, जड़ डाले. 2014 के दिल्ली के आईपीएल के निराशाजनक प्रदर्शन में जाधव एक चमकते सितारे थे जिसके दम पर उन्हे भारत की टीम में जून 2014 के बांग्लादेश दौरे के लिए चुना गया. लेकिन उनका पदार्पण उसी साल नवंबर में श्रीलंका के विरुद्ध हुआ, और नंबर 6 पर बल्लेबाज़ी मिली. इसके बाद 2015 में ज़िंबाब्वे के जुलाइ दौरे में जाधव को फिर टीम में मौका मिला और उन्होने नाबाद शतक भी बनाया. उसके बाद सीधा 2016 जून में जाधव को टीम में शामिल किया गया लेकिन तीनों मैच में उन्हे बल्लेबाज़ी का अवसर नही मिला और भारत ने सफलतापूर्वक लक्ष्य का पीछा किया. यह टीम से कभी कभार मिलने जुलने का सिलसिला 2016 की अक्तूबर सीरीज़ में टूटा जब जाधव ने न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध सभी 5 मैच खेले. नीचले क्रम में अपने अच्छे प्रदर्शन और गेंदबाज़ी हुनर के दम पर जाधव को जनवरी 2017 में इंग्लैंड के खिलाफ सीरीज़ के लिए टीम में जगह मिली और शायद उनके स्थान की कुछ सुरक्षा का अनुभव भी हुआ.

हार्दिक पांड्या – भारत – रिकॉर्ड

जाधव ने बल्लेबाज के रूप में अपनी छाप छोड़ी, लेकिन उनकी ऑफ ब्रेक गेंदबाज़ी ने उनको एक अतिरिक्त अस्त्र दिया | एक अनोखे एक्शन के साथ, बीच के ओवरों में विकेट लेने की क्षमता ने जाधव को एक उपयोगी 6ठाँ गेंदबाज़ बना दिया, जिससे टीम प्रबंधन को ज्यादा विकल्प मिले | एक भरोसेमंद मध्य-क्रम का मतलब था की जाधव को हर एक अवसर का ज्यादा से ज्यादा फायदा उठाना था | 32 साल की उम्र में, जाधव ऐसे पड़ाव पर है जहाँ हर एक पारी मायने रखती है | चैंपियंस ट्रॉफी के 2017 के संस्करण में निराशाजनक प्रदर्शन के बाद जाधव ने श्री लंका के खिलाफ 5 मैचों की एकदिवसीय शृंखला में ख़राब प्रदर्शन किया, जिसके कारण उनकों शृंखला के बीच में ही टीम से निकाल दिया गया |

अक्षर पटेल – भारत – रिकॉर्ड

प्रारंभिक जीवन

जाधव का जन्म 26 मार्च 1985 को पुणे में एक मध्यवर्गीय यादव परिवार में हुआ था, जो मूल रूप से माधा, सोलापुर जिले के जाधववाड़ी के रहने वाले थे। वह अपने माता पिता के चार बच्चों में सबसे छोटे हैं। उनकी तीन बड़ी बहनों में से एक ने अंग्रेजी साहित्य में पीएचडी, एक ने इंजीनियरिंग और एक ने वित्त में एमबीए किया है, जबकि जाधव नौवीं कक्षा के बाद से क्रिकेट खेलने लग गए। 2003 में उनकी सेवानिवृत्ति तक उनके पिता महादेव जाधव महाराष्ट्र राज्य विद्युत बोर्ड में एक क्लर्क के रूप में कार्यरत थे।

जाधव ने पश्चिमी पुणे के कोथरुड इलाके में रहकर पीवाईसी हिंदू जिमखाना में क्रिकेट खेलना शुरू कर दिया। उन्होंने 2004 में महाराष्ट्र अंडर19 टीम के लिए चयनित होने से पहले टेनिस बॉल क्रिकेट टूर्नामेंट में रेनबो क्रिकेट क्लब का प्रतिनिधित्व भी किया था।

आईपीएल कैरियर

जाधव, जो पहले रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के डेवलपमेंट स्क्वाड में थे, को दिल्ली डेयरडेविल्स ने 2010 में अपनी टीम में शामिल कर लिया। उन्होंने तत्काल प्रभाव डाला जब उन्होंने रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के खिलाफ दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए अपने पहले आईपीएल मैच में 29 गेंदों में 50 रन बनाये, जिसमें 5 चौके और 2 छक्के भी शामिल थे। उन्होंने इस पारी के लिए मैन ऑफ़ द मैच पुरस्कार भी जीता। अगले सीज़न के लिए उन्हें नई फ्रैंचाइजी कोच्चि टस्कर्स केरल ने अपनी टीम में शामिल किया, लेकिन उनके लिए वह उस वर्ष केवल 6 मैच ही खेल पाये। 2013 में, उन्हें दिल्ली डेयरडेविल्स द्वारा पुनः खरीदा गया था, लेकिन उस सीज़न में वह खासा सफल नहीं रहे थे। उन्हें 2014 की आईपीएल नीलामी में दिल्ली ने रिटेन तो नहीं किया, लेकिन बाद में 2 करोड़ की राशि देकर उन्हें फिर से खरीद लिया।

उन्होंने 2014 में एक खराब आईपीएल अभियान में दिल्ली डेयरडेविल्स के लिए 10 परियों में 149 रन बनाए थे। 2016 के आईपीएल से पहले उन्हें रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने अपनी टीम में शामिल किया। 2018 में उन्हें चेन्नई सुपर किंग्स ने 7.8 करोड़ रुपये में खरीदा।

पुरस्कार

रणजी ट्रॉफी में सर्वाधिक रन बनाने के लिए माधवराव सिंधिया अवॉर्ड: वर्ष 2013/14

Leave a Response

share on: