मनोज तिवारी – भारत – रिकॉर्ड

Manoj Tiwary Records in Hindi

पूरा नाम – मनोज कुमार तिवारी

जन्म – 14 नवंबर, 1985, हावड़ा, बंगाल

प्रमुख टीमें – भारत, अबाहानी लिमिटेड, बंगाल, बंगाल अंडर -19, दिल्ली डेयरडेविल्स, इंडिया ए, इंडिया ग्रीन, अंडर -19, कोलकाता नाइट राइडर्स, राइजिंग पुणे सुपरजायंट

भूमिका – बल्लेबाज़

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाज़ी शैली – लेगब्रेक गुगली

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 171) – 3 फरवरी 2008 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम एकदिवसीय – 10 जुलाई 2015 बनाम ज़िम्बाब्वे

टी 20 पदार्पण (कैप 40) – 29 अक्टूबर 2011 बनाम इंग्लैंड
अंतिम टी 20 – 11 सितंबर 2012 बनाम न्यूजीलैंड

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग एकदिवसीय	12	12	1	287	104*	26.09	403	71.21	1	1	24	3	4	0 टी२०	3	1	0	15	15	15	17	88.23	0	0	0	0	2	0 प्रथम श्रेणी	95	148	13	7020	267	52	12636	55.55	23	27			101	0 लिस्ट ए	132	124	16	4345	151	40.23			4	31			73	0 ट्वेंटी२०	147	129	35	2875	75*	30.58	2459	116.91	0	14	240	71	76	0
Manoj-Tiwary-Batting-and-Fielding-records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट एकदिवसीय	12	6	132	150	5	4/61	4/61	30	6.81	26.4	1	0	0 टी२०	3	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- प्रथम श्रेणी	95		3037	1812	26	2/19	2/38	69.69	3.57	116.8	0	0	0 लिस्ट ए	132		1664	1641	41	5/34	5/34	40.02	5.91	40.5	1	1	0 ट्वेंटी२०	147	30	384	519	20	3/19	3/19	25.95	8.1	19.2	0	0	0
Manoj-Tiwary-Bowling-records-in-Hindi

मनोज तिवारी दाहिने हाथ के आक्रामक बल्लेबाज़ हैं जिनकी तुलना घरेलु क्रिकेट में अक्सर केविन पीटर्सन से की जाती है | वे भारतीय घरेलु क्रिकेट के सबसे ज़्यादा निरंतर रन बनाने वाले बल्लेबाज़ों में से एक हैं | बंगाल की तरफ़ से खेलते हुए मनोज ने 14 मैचों में 1000 रन बनाकर अपने इरादे जाता दिए थे | 2006-07 उनका सबसे बेहतरीन सीज़न रहा जिसमे उन्होंने महज़ 7 मैच में 99.50 की ज़बरदस्त औसत से 796 रन बनाये | इन्ही 7 मैचों के दौरान मनोज ने कर्णाटक के विरुद्ध सेमी-फाइनल खेलते हुए चौथी पारी में नाबाद 151 रन बनाये थे ,जो उनकी आज तक की शायद सबसे उम्दा पारी है|

रणजी ट्रॉफी में अपने असाधारण प्रदर्शन की वजह से उनको भारतीय टीम में जगह मिल गयी | 2007 के असफल एकदिवसीय अभियान के बाद भारतीय टीम के बांग्लादेश दौरे पर सचिन तेंदुलकर एवं सौरव गांगुली को आराम दिए जाने पर मनोज को टीम के साथ जाने का मौका मिला | उनकी किस्मत ने लेकिन उनका साथ ना दिया और नेट अभ्यास के दौरान चोटिल होने के कारण उन्हें बांग्लादेश से वापस लौटना पड़ा | उनको अगला मौका कामनवेल्थ बैंक सीरीज़ में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ़ मिला परन्तु वहाँ पर वे ब्रेट ली की रफ़्तार का डटकर सामना नहीं कर पाए और अपने हाथों में आए एकलौते मैच में मात्र 2 रन बनाकर आउट हो गए | इसके बाद फिर उन्हें भारतीय टीम के वेस्टइंडीज़ दौरे पर चोटिल युवराज सिंह की जगह बुलाया गया | वहाँ पर उन्होंने 2 मैच खेले पर प्रभावित ना कर सके |

तिवारी 2011-12 के सीज़न के बाद से भारतीय एकदिवसीय टीम के नियमित रूप से हिस्सा बने रहे लेकिन उन्हें कभी भी प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिल पाई | टीम प्रबंधन ने उनकी जगह लगातार ख़राब प्रदर्शन कर रहे रोहित शर्मा को तरज़ीह दी | उन्हें बहुत कम अवसर ही मिले जिसको उन्होंने भुनाने की कोशिश भी की ,जैसे कि वेस्टइंडीज़ के विरुद्ध उन्होंने चेन्नई में अपना पहला शतक जड़ा | इसके बाद भी उन्हें ऑस्ट्रेलिया में हुई सी.बी श्रंखला में अपने पिछले मैच में शतकीय पारी खेलने के बावज़ूद मौका नहीं मिला | मनोज को जितने भी अवसर प्रदान किये गए उसमे उन्होंने बढ़िया प्रदर्शन किया और आज भी वे टीम में शामिल होने के प्रबल दावेदार रहते हैं ,जब भी चयनकर्ता किसी का स्थानापन्न ढूंढते हैं |

बल्लेबाज़ी की काबिलियत रखने के साथ ही वे उपयोगी लेग स्पिनर भी हैं | आईपीएल के पहले दो सीज़न में उन्होंने दिल्ली डेयरडेविल्स की तरफ से शिरकत की और बाद में उन्हें फिर कोलकाता नाईट राइडर्स की टीम ने 2011 में हुई नीलामी में 475,000 में खरीद लिया | केकेआर के लिए उन्होंने बहुत अच्छा प्रदर्शन किया और इसी के साथ वे केकेआर की तरफ से चौथे सबसे ज़्यादा रन बनाने वाले खिलाड़ी हैं | उनका औसत 30 के पास का रहा |

भारत के लिए उन्होंने अपना टी-20 पदार्पण 2011 में अपने घरेलु मैदान कोलकाता के ईडन गार्डन्स में किया |

अक्सर वे छोटे प्रारूपों में भारतीय टीम का हिस्सा ज़रूर होते हैं लेकिन उन्हें प्लेइंग इलेवन में जगह नहीं मिल पाती |

उन्हें 2012 के श्रीलंका टूर में 2 मैच खेलने का मौका मिला लेकिन उसके बाद से आज तक वे भारतीय टीम का प्रतिनिधित्व नहीं कर पाए | 2014 की आईपीएल नीलामी में उन्हें दिल्ली की टीम ने वापस खरीद लिया जिनके साथ मनोज ने अपने शुरुआती दो सीज़न बिताये थे | मनोज का कहना है की वे अपने कठिन समय में प्रेरणादायक वीडियो देखकर खुद को प्रेरित रखते हैं |

Summary
Review Date
Reviewed Item
Manoj Tiwary Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: