पार्थिव पटेल – भारत – रिकॉर्ड

Parthiv Patel Records in Hindi

पूरा नाम – पार्थिव अजय पटेल

जन्म – 9 मार्च, 1985, अहमदाबाद, गुजरात

प्रमुख टीमें – भारत, चेन्नई सुपर किंग्स, डेक्कन चार्जर्स, गुजरात, इंडिया ग्रीन, कोच्चि टस्कर्स केरल, मुंबई इंडियंस, राजस्थान क्रिकेट एसोसिएशन के अध्यक्ष इलेवन, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सनराइजर्स हैदराबाद

भूमिका – विकेटकीपर बल्लेबाज

बल्लेबाजी शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज

क्षेत्ररक्षण की स्थिति – विकेटकीपर

टेस्ट पदार्पण (कैप 244) – 8 अगस्त 2002 बनाम इंग्लैंड
अंतिम टेस्ट – 20 दिसंबर 2016 बनाम इंग्लैंड

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 148) – 4 जनवरी 2003 बनाम न्यूजीलैंड
अंतिम एकदिवसीय – 23 अक्टूबर 2011 बनाम इंग्लैंड

टी 20 पदार्पण (कैप 200) – 4 जून 2011 बनाम वेस्ट इंडीज
अंतिम टी २०- 21 फरवरी 2012 बनाम श्रीलंका

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct St
Tests 24 916 71 32.71 48.46 0 6 123 1 57 10
ODIs 38 736 95 23.74 76.5 0 4 79 7 30 9
T20Is 2 36 26 18 112.5 0 0 4 1 1 0
First-class 180 10501 206 43.93 26 57 452 73
List A 169 4486 119 29.7 83.85 3 30 165 60
T20s 176 3667 82 22.63 121.78 0 20 473 63 100 25

यह कहावत रही है की बड़ी चीजें छोटी-छोटी पैकेज में आती है | सदी की शुरुआत में गांगुली की अगुवाई वाली टीम में छोटे और मासूम सी शक्ल वाले पार्थिव पटेल का स्वागत किया गया | पार्थिव पटेल ट्रेंट ब्रिज में इंग्लैंड के खिलाफ अपने पहले टेस्ट में 17 वर्ष की उम्र में टेस्ट क्रिकेट के सबसे युवा विकेटकीपर बने | कुछ लोगो का कहना था की पार्थिव बड़े स्तर पर खेलने के लिए तैयार नहीं है और उनको स्कूल में होना चाहिये |

महेंद्र सिंह धोनी – भारत – रिकॉर्ड

लेकिन पार्थिव ने अपना काम पेशेवर तरीके से किया | उन्होंने पहले टेस्ट में विकेट के पीछे काफी अच्छा प्रदर्शन किया, लेकिन उससे ज्यादा महत्वपूर्ण उनकी नाबाद 19 रनो की पारी रही, जिसकी सहायता से भारत एक पारी से हारने से बचा | पार्थिव एडम गिलक्रिस्ट को अपना आदर्श मानते है, लेकिन पार्थिव को टेस्ट क्रिकेट की कठिन परीक्षा से गुजरना पड़ा | उन्होंने स्पिनरों के सामने संघर्ष किया और उनके विकेट के पीछे ख़राब प्रदर्शन को देख कर काफी लोग बेचैन होने लगे |

पार्थिव ने अपनी बल्लेबाजी के दम पर टीम में अपनी जगह सुरक्षित रखी | 2004 का साल पार्थिव के लिये काफी अच्छा रहा | उन्होंने सिडनी में चौथे टेस्ट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ली, गिलेस्पी और ब्रैकन जैसे गेंदबाजों का सामना करते हुए आक्रामक 62 रन बनाये | उन्होंने उसी वर्ष बाद में रावलपिंडी में पाकिस्तान के खिलाफ तीसरे टेस्ट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया |

रिद्धिमान साहा – भारत – रिकॉर्ड

लाहौर में पार्थिव ने एक साहसी अर्धशतक बनाया, लेकिन भारत वह मैच हार गयी | पार्थिव को अंतिम मैच में पारी की शुरुआत करने के लिए भेजा गया | उस मैच में सहवाग पहली ही गेंद पर आउट हो गये | पार्थिव ने काफी साहस के साथ द्रविड़ के साथ साझेदारी बनायी और पाकिस्तान में पहली बार शृंखला जीतने में भारत की मदद की |

लेकिन वो उनके पतन की शुरुआत थी | विकेट के पीछे पार्थिव के ख़राब प्रदर्शन से चयनकर्ता ऊब चुके थे और उन्होंने पार्थिव को टीम से निकाल दिया | पार्थिव ने भारत-ए के लिए खेलते हुए ज़िम्बाब्वे और दक्षिण अफ्रीका दौरों पर अच्छा प्रदर्शन किया और 2008 में श्री लंका शृंखला के लिए टीम में वापसी की | लेकिन उनका ख़राब प्रदर्शन जारी रहा और इसी बीच धौनी ने टीम में अपनी जगह बना ली | इससे पार्थिव के लिए चीजें और कठिन हो गयी |

दिनेश कार्तिक – भारत – रिकॉर्ड

पार्थिव ने हाल ही में भारतीय टीम के लिये कुछ मैच खेले | उन्होंने 2010 में न्यूज़ीलैण्ड के खिलाफ भारत की 5-0 की जीत में अच्छा प्रदर्शन किया और दो अर्धशतक लगाये | लेकिन धोनी ने बल्ले और दस्ताने दोनों से अच्छा प्रदर्शन किया, इस वजह से पार्थिव को टीम के अंदर-बहार किया जाता रहा | उन्होंने वेस्ट इंडीज और इंग्लैंड के खिलाफ एकदिवसीय मैचों में वापसी की लेकिन लगातार अच्छा प्रदर्शन नहीं कर पाने की वजह से उनको 2012 की सीबी शृंखला के बाद टीम से निकाल दिया गया | उन्होंने सीबी शृंखला में सिर्फ एक मैच खेला | भारतीय टीम में जगह नहीं पाने के बावजूद पार्थिव ने घरेलु क्रिकेट में काफी अच्छा प्रदर्शन किया है और अपने आप को फिट रखा है |

वो आईपीएल के पहले तीन सत्र में चेन्नई सुपरकिंग्स के साथ थे, फिर वो कोच्चि टस्कर्स में चले गए | 2012 में उनको डेक्कन चार्जेर्स ने खरीद लिया | 2013 में उनको सनराइज़र्स हैदराबाद ने खरीद लिया, जहाँ उन्होंने शीर्ष क्रम पर अच्छा प्रदर्शन किया | 2014 की नीलामी में उनको रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर ने खरीद लिया |

नमन ओझा – भारत – रिकॉर्ड

धोनी के अच्छे फॉर्म में रहने के कारण पार्थिव को काफी काम मौके मिले | हालांकि वो अपने राज्य गुजरात के लिये रन बनाते रहे | 2015 में वो रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर को छोड़ कर मुंबई इंडियंस में शामिल हो गये | लेकिन जब धोनी ने दिसंबर 2014 में टेस्ट क्रिकेट संन्यास लिया तो भारतीय चयनकर्ताओं ने भविष्य की टीम के लिये रिद्धिमान साहा को चुना, और पार्थिव किनारे हो गये |

आठ साल के अंतराल के बाद, जब रिद्धिमान साहा चोटिल हो गये तो पार्थिव को अचानक से मोहाली में इंग्लैंड के खिलाफ तीसरे टेस्ट के लिये टीम में शामिल कर लिया गया | उन्होंने उस मौके का स्वागत किया और एक अर्धशतक की सहायता से अपने करियर का सबसे बड़ा स्कोर (71 रन) बनाया | उस मैच में उनको मुरली विजय की जगह सलामी बल्लेबाज के तौर पर भेजा गया था | पार्थिव ने वो सब कुछ किया जो वो कर सकते थे | क्या उनकी मेहनत रंग लायेगी और उनको फिर से भारतीय टीम में शामिल होने का मौका मिलेगा ?

Summary
Review Date
Reviewed Item
Parthiv Patel Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: