परवेज़ रसूल – भारत – रिकॉर्ड

Parvez Rasool Records

पूरा नाम – परवेज रसूल जरगर गुलाम

जन्म – फरवरी 13, 1989, बिजबेहरा, जम्मू और कश्मीर

प्रमुख टीमें – भारत, भारत ए, जम्मू-कश्मीर, पुणे वॉरियर्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, हैदराबाद

खेलने की भूमिका – बॉलिंग ऑलराउंडर

बल्लेबाजी की शैली – राइट-हैंड बैट

गेंदबाजी की शैली – राइट-आर्म ऑफ ब्रेक

Parvez Rasool Batting and Fielding Records
Parvez Rasool Batting and Fielding Records
Parvez Rasool Bowling Records
Parvez Rasool Bowling Records

ऑफ स्पिन करने वाले ऑल-राउंडर परवेज़ रसूल अपने जीवन में कई प्रथम हासिल कर चुके हैं, और ये सिर्फ़ इसलिए ही नही क्योंकि वे राजनैतिक समस्याओं से त्रस्त कश्मीर घाटी से संबंध रखते हैं.

रसूल ने जम्मू कश्मीर के लिए रणजी 2012-13 के सत्र में बेमिसाल प्रदर्शन करते हुए टीम के लिए सबसे ज़्यादा रन बनाए और विकट लिए. अपने खेले 7 रणजी मैचों में रसूल ने 54 की औसत से दो शतक लगाते हुए 594 रन बनाए और 18.07 की औसत से 33 विकट लिए, और इसी की साथ टूर्नामेंट के तीसरे नंबर के सबसे ज़्यादा विकट लेने वाले गेंदबाज़ रहे.

रसूल एक पारंपरिक ऑफ स्पिन गेंदबाज़ हैं जो गेंद को हवा देना और लूप में रखने में विश्वास करते हैं, और अपने जम्मू कश्मीर के कोच बिशन बेदी से मिले प्रोत्साहन से उन्होने अविश्वसनीय रणजी टूर्नामेंट खेला और इसके बाद राष्ट्रीय चयनकर्ताओं की दृष्टि में आकर अपने लिए अनेकों द्वार खोल दिए. उन्हें इंग्लैंड के खिलाफ अभ्यास मैच के लिए भारत ए टीम में चुना गया, और फ़रवरी 2013 में बोर्ड प्रेसीडेंट ग्यारह टीम के लिए खेलते हुए उन्होने ऑस्ट्रेलिया टीम के खिलाफ 45 रन देकर 7 विकट लिए चेन्नई के मैदान पर. इसके बाद आईपीएल में उन्हे पुणे वॉरीयर्स टीम ने चुना और चॅंपियन्स ट्रोफी के चयन के लिए वे एक उम्मीदवार बने.

रसूल दक्षिणी कश्मीर घाटी के शहर अनंतनाग के बीज बहरा से हैं, और क्रिकेटरों के खानदान से संबंध रखते हैं. जम्मू कश्मीर के लिए वे अंडर-14 के समय से क्रिकेट खेलते आ रहें हैं. उनके बड़े भाई आसिफ़ ने जम्मू-कश्मीर के लिए दो टी२० मैच खेले और उनके पिता अनंतनाग के लिए ओपनिंग करते थे.

जब रसूल को भारत ए टीम के लिए इंग्लैंड के खिलाफ अभ्यास मैच में चुना गया तो वो जम्मू कश्मीर से पहले खिलाड़ी बने जिसे राष्ट्रीय टीम में किसी अंतरराष्ट्रीय टीम के खिलाफ खेलने के लिए चुना गया था. और आबिद नबी, सुरेंद्र सिंह और अब्दुल काईं के बाद राष्टिरी स्तर पर चुने जाने वाले जम्मू-कश्मीर के चौथे क्रिकेटर बने. जब उन्होने पुणे वॉरीयर्स के साथ करार किया, तो जम्मू कश्मीर से आईपीएल में खेलने वाले पहले खिलाड़ी बने. जुलाइ 2013 में रसूल को पहले बार राष्ट्रीय टीम में ज़िंबाब्वे एकदिवसीय दौरे के लिए टीम में चुना गया. उन्हें इस दौरे पर मैच खेलने को तो नही मिला लेकिन इसके एक साल बाद ही उन्हें बांग्लादेश के छोटे दौरे के लिए एकदिवसीय टीम में चुना गया और उनका पदार्पण भी हुआ.

Leave a Response

share on: