प्रज्ञान ओझा – भारत – रिकॉर्ड

Pragyan Ojha Records

पूरा नाम – प्रज्ञान प्रार्थना ओझा

जन्म – 5 सितंबर 1986, भुवनेश्वर, उड़ीसा

प्रमुख टीमें – भारत, डेक्कन चार्जर्स, हैदराबाद (भारत), इंडिया ए, इंडिया रेड, इंडिया अंडर -19 एस, मुंबई इंडियंस, दक्षिण जोन, सरे

भूमिका – गेंदबाज

बल्लेबाजी शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – धीमी बाएं हाथ से रूढ़िवादी

टेस्ट पदार्पण (कैप 261) – 24 नवंबर 2009 बनाम श्रीलंका
अंतिम टेस्ट – 18 नवंबर 2013 बनाम वेस्टइंडीज

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 174) – 28 जून 2008 बनाम बांग्लादेश
अंतिम एकदिवसीय – 24 जुलाई 2012 बनाम श्रीलंका

टी20 पदार्पण (कैप 23) – 6 जून 2009 बांग्लादेश
अंतिम टी20 – 13 जून 2010 बनाम ज़िम्बाब्वे

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	24	27	17	89	18*	8.9	492	18.08	0	0	6	0	10	0 एकदिवसीय	18	10	8	46	16*	23	112	41.07	0	0	3	0	7	0 टी२०	6	1	1	10	10*	-	6	166.66	0	0	0	1	1	0 प्रथम श्रेणी	104	132	44	822	51	9.34	2754	29.84	0	1	79	7	35	0 लिस्ट ए	100	63	29	281	20	8.26			0	0			31	0 ट्वेंटी२०	139	37	20	72	11*	4.23	105	68.57	0	0	0	3	21	0
Pragyan-Ojha-Batting-and-Fielding-Records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	24	48	7633	3420	113	6/47	10/89	30.26	2.68	67.5	5	7	1 एकदिवसीय	18	17	876	652	21	4/38	4/38	31.04	4.46	41.7	1	0	0 टी२०	6	6	126	132	10	4/21	4/21	13.2	6.28	12.6	1	0	0 प्रथम श्रेणी	104		24848	11814	419	7/58		28.19	2.85	59.3	19	23	3 लिस्ट ए	100	98	5235	4113	122	5/19	5/19	33.71	4.71	42.9	3	3	0 ट्वेंटी२०	139	136	2867	3437	156	4/15	4/15	22.03	7.19	18.3	3	0	0
Pragyan-Ojha-Bowling-Records-in-Hindi

प्रज्ञान ओझा बेहद प्रतिभाशाली हैं, इस बात को लेकर कभी किसी को संदेह नहीं था। यह केवल कुछ समय की बात थी कि कब वह राष्ट्रीय दल में शामिल हो जाए। ओझा, उड़ीसा में पैदा हुए थे लेकिन 13 साल की उम्र में हैदराबाद चले गए ताकि उन्हें बेहतर शिक्षा मिल सके। इसके बजाय, उनकी प्रतिभा को उनके कोच विजय पॉल ने पहचाना। लंबे समय से, वेंकटपति राजू और हैदराबाद के कोच कंवलजीत सिंह ने युवाओं का मार्गदर्शन करना शुरू किया था। कंवलजीत के अनुसार, ओझा एक बहुत ही धीमी गति के गेंदबाज है जिसकी ताकत उसकी लूप और उछाल में है।
अंडर -19 के साथ एक प्रभावशाली प्रदर्शन के बाद, उन्होंने 2004-05 में रेलवे के खिलाफ अपनी रणजी कैरियर की शुरुआत की, जिसमें उन्होंने पांच विकेट लिए। हालांकि, यह केवल 2006-07 का सीजन ही था, जो ओझा परिपक्व हो गए और भारतीय टीम में एक जगह के लिए एक दावेदार बन गए।

ओझा और अधिक जिम्मेदारी के बोझ तले दबे हुए थे जब उन्होंने महाराष्ट्र के खिलाफ 6/84 के साथ सीजन शुरू किया | इसे उनके कोच उनके कैरियर का महत्वपूर्ण मोड़ बताते हैं । उन्होंने 19.89 की औसत से लीग सीजन के अंत में 6 मैचों से 29 विकेट लिए। ओझा ने अपनी फिटनेस पर बहुत मेहनत की| अपने आपको अत्यधिक वसा से छुटकारा दिलाने के लिए उन्होंने जिम में काफी पसीना बहाया । उन्होंने नेट पर अनगिनत घंटे बिताए, एक जगह चिह्नित करके और उस पर हर गेंद उसी जगह गिराने की कोशिश की। कड़ी मेहनत रंग लाई और उन्होंने नवंबर 2007 में एक दौरे में दक्षिण अफ्रीका ए के खिलाफ 8 विकेट चटकाए, एक ऐसा दल जिसमे हाशिम अमला, बोएटा दिपेनार, एश्वेल प्रिंस और जस्टिन ओनटोंग जैसे खिलाड़ी शामिल थे।

आईपीएल 2008 में डेक्कन चार्जर्स के लिए एक अच्छे अभियान के बाद, जहां उन्होंने 13 मैचों से 11 विकेट लिए, ओझा का चयन राष्ट्रीय टीम के लिए किया गया, जहाँ उन्होंने एशिया कप में अपने कैरियर की शुरुआत की। इस टूर्नामेंट में अच्छे प्रदर्शन ने यह सुनिश्चित किया कि उन्हें श्रीलंका सीरीज के लिए 16 सदस्यीय टीम में शामिल किया गया।

उन्होंने इस दौरे में एक भी टेस्ट मैच नहीं खेला लेकिन कुछ वनडे में वह खेले, जिनमें उन्होंने सराहनीय प्रदर्शन किया। 2009 में श्रीलंका के खिलाफ घरेलू सीरीज के लिए टीम में शामिल किए जाने से पहले आईपीएल 2009 में डेक्कन चार्जर्स के साथ शानदार प्रदर्शन किया जहाँ उन्होंने 19.33 की औसत पर 18 विकेट लिए|

प्रज्ञान ओझा टेस्ट मैचों में एकदिवसीय से ज्यादा लोकप्रिय रहे। जब टीम में अपनी जगह बनाए रखने का दबाव हरभजन सिंह के ऊपर रहने लगा तो ओझा को राष्ट्रीय चयन के लिए दूसरों के ऊपर तरजीह दी जाती थी। वह खेल के लंबे प्रारूप में भारत के लिए एक बेहतरीन गेंदबाज रहे हैं और विशेष रूप से घरेलू टेस्ट में ऑफ स्पिनर आर अश्विन के साथ उन्होंने अच्छी भागीदारी की है। 2011/2012 के सीजन में उन्होंने 10 टेस्ट में पांच विकेट या उससे अधिक नौ बार ले लिए थे। वे इंग्लैंड के खिलाफ़ 1-2 श्रृंखला की हार में 20 विकेट के साथ भारत के लिए सबसे अधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज थे, लेकिन दुर्भाग्य से अगली ही श्रृंखला में जो कि ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ घर में 2013 में थी, उनके स्थान पर रवींद्र जडेजा को मौका दे दिया गया क्योंकि भारत को बल्लेबाजी विभाग को मजबूत करने की जरूरत थी । उन्हें हालांकि तीसरे और चौथे टेस्ट के लिए चुना गया और उन्होंने 7 विकेट भी लिए। भारत ने काफी आराम से दोनों मैच जीते और ओझा ने अपनी धारदार गेंदबाजी से अच्छी तरह अन्य गेंदबाजों का समर्थन किया।

जब वेस्टइंडीज ने नवंबर 2013 में 2 टेस्ट मैचों के लिए भारत का दौरा किया तब भी उनका प्रदर्शन सराहनीय था| उन्होंने मुंबई में दूसरे टेस्ट में शानदार प्रदर्शन किया| उन्हें टेस्ट मैचों में अपना पहला दस विकेट लेने का कारनामा कर दिखाने के लिए मैन ऑफ द मैच का पुरस्कार दिया गया। मुंबई इंडियंस ने 80,000 अमरीकी डालर की एक काफी बड़ी राशि के साथ आईपीएल के पांचवें संस्करण में ओझा को खरीदा। तब से वे उनके पक्ष का एक अभिन्न हिस्सा रहे हैं।

ओझा को विदेशी दौरों जहां विकेट तेज गेंदबाज के अनुकूल होते हैं, के योग्य नहीं माना गया और इसलिए दक्षिण अफ्रीका और न्यूजीलैंड के भारत के दौरे के लिए नहीं चुना गया । 2014 आईपीएल की नीलामी में मुंबई इंडियन्स ने एक कठिन प्रतियोगिता के बाद उन्हें वापस खरीद लिया था।

दिलचस्प तथ्य: ओझा मुथैया मुरालिथरन, जो टेस्ट क्रिकेट के इतिहास में सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले गेंदबाज है के 800वें और अंतिम टेस्ट शिकार थे।

Summary
Pragyan Ojha Records | India | CricketinHindi.com
Article Name
Pragyan Ojha Records | India | CricketinHindi.com
Author
Publisher Name
CricketinHindi.com
Publisher Logo

Leave a Response

share on: