सदगोपन रमेश – भारत – रिकॉर्ड

Sadagopan Ramesh Records in Hindi

पूरा नाम – सदगोपन रमेश

जन्म – 16 अक्टूबर 1975, मद्रास (अब चेन्नई), तमिलनाडु

प्रमुख टीमें – भारत, तमिलनाडु

बल्लेबाजी शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ से ऑफ-ब्रेक

टेस्ट पदार्पण (कैप 219) – 28 जनवरी 1999 बनाम पाकिस्तान
अंतिम टेस्ट – 2 सितंबर 2001 बनाम श्रीलंका

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 122) – 30 मार्च 1999 बनाम श्रीलंका
अंतिम एकदिवसीय – 3 अक्टूबर 1999 बनाम दक्षिण अफ्रीका

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 19 1367 143 37.97 46.52 2 8 159 0 18
ODIs 24 646 82 28.08 59.15 0 6 70 1 3
First-class 116 7696 187 43.23 20 38 85
List A 82 2475 105 32.56 2 18 24
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 19 0 4.77 0 0 0
ODIs 24 1 1/23 1/23 38 6.33 36 0 0 0
First-class 116 3 1/22 94.66 3.64 155.6 0 0
List A 82 10 5/31 5/31 10.1 4.77 12.7 0 1 0

सदगोप्पन रमेश ने अपना नाम खुद के दम पर बनाया | इंडिया ए टीम के लिए लगातार अच्छा प्रदर्शन करने के साथ, जिसका अंत वेस्ट इंडीज ए के विरुद्ध एक शानदार शतक के साथ हुआ, उन्हें राष्ट्रीय सीनियर टीम का हिस्सा बना लिया गया | इंडिया ए के कोच के श्रीकांत ने उनके शामिल होने पर काफी ज़ोर दिया, और चयनकर्ता, जो कि बल्लेबाज़ों की तलाश कर रहे थे, उन्होंने इस तमिल नाडु के खब्बू-सलामी बल्लेबाज़ को ये बड़ा मौका पाकिस्तान के विरुद्ध चेन्नई में 1999 में दिया | दो गुण जो कि हर सलामी बल्लेबाज़ में होने चाहिए – साहस और बड़े मैच का स्वभाव – दिखने के कारण रमेश तत्काल ही सफल साबित हुए | उन्होंने वसीम अकरम, वक़ार यूनिस और शोएब अख्तर की पेस को खेला, वहीँ सक़लैन मुश्ताक़ और मुश्ताक़ अहमद की स्पिन को भी बराबर रूप से खेला, और लगातार अच्छे स्कोर बनाये, जिसमे कुछ शतक भी शामिल थे, और अचानक ही भारत ने एक वैश्विक स्तर का सलामी बल्लेबाज़ खड़ा कर दिया था |

वीवीएस लक्ष्मण – भारत – रिकॉर्ड

लेकिन जहां उनके पहले आधा-दर्जन टेस्ट मैचों में उनका औसत 50 से भी ऊपर रहा, निंदकों ने उनके ख़राब फुटवर्क और बेकार तकनीक की ओर इशारा किया | और फिर दूसरी ओर उनके विरोधी थे जो यह कहते थे कि उपमहाद्वीप के बाहर वे कभी रन नहीं बना पाएंगे और ऑस्ट्रेलियाई तेज़ गेंदबाज़ों के विरुद्ध तेज़ और उछाल भरी पिचों पर ढेर हो जाएंगे | यह चुनौती स्वीकार कर, रमेश ने यह साबित किया कि वे किसी भी हालात में रन बना सकते है और हालाँकि, उन्होंने ऑस्ट्रेलिया की पिचों पर आग तो नहीं लगाई, लेकिन अपने विरोधियों को गलत साबित ज़रूर कर दिया | लेकिन अपनी अच्छी शुरुआतों को अच्छे स्कोर में तब्दील करने में उन्हें मुश्किलों का सामना करना पड़ा, और श्री लंका के विरुद्ध 2001-02 में एक सामान्य श्रृंखला, जिसमे उन्होंने 6 में से 5 पारियों में 30 से ऊपर रन तो बनाये लेकिन 50 से ऊपर एक बार ही गए, उन्हें दरकिनार कर दिया गया |

Summary
Review Date
Reviewed Item
Sadagopan Ramesh Records | India | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: