रॉस टेलर – न्यूज़ीलैंड – रिकॉर्ड

Ross Taylor Records in Hindi

पूरा नाम – लुतेरू रॉस टेलर पौटोआ लोटे

जन्म – 8 मार्च, 1984, लोअर हट, वेलिंगटन

प्रमुख टीमें – न्यूजीलैंड, ऑस्ट्रेलियाई राजधानी क्षेत्र, सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट, सेंट्रल डिस्ट्रिक्ट अंडर 19स, दिल्ली डेयरडेविल्स, डरहम, न्यूजीलैंड अंडर 19स, पुणे वॉरियर्स, राजस्थान रॉयल्स, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, सेंट लूसिया ज़ौक्स, ससेक्स, त्रिनिदाद एवं टोबैगो रेड स्टील, विक्टोरिया

भूमिका – मध्यक्रम के बल्लेबाज

बल्लेबाजी की शैली – राइट-हैंड बैट

गेंदबाजी की शैली – राइट-आर्म ऑफ-ब्रेक

टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण (कैप 234) – 8 नवंबर 2007 बनाम दक्षिण अफ्रीका

वनडे कैरियर की शुरुआत (कैप 144) – 1 मार्च 2006 बनाम वेस्टइंडीज
वनडे शर्ट नंबर 3

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	80	145	17	6015	290	46.99	10096	59.57	16	27	748	43	122	0 एकदिवसीय	180	166	28	6052	131*	43.85	7338	82.47	17	32	497	120	115	0 टी२०	73	65	13	1256	63	24.15	1046	120.07	0	5	83	48	42	0 प्रथम श्रेणी	145	245	20	9797	290	43.54			23	50			183	0 लिस्ट ए	232	218	32	8031	132*	43.17			21	48			146	0 ट्वेंटी२०	224	209	47	5090	111*	31.41	3785	134.47	1	27	358	252	108	0
Ross-Taylor-Batting-and-Fielding-Records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	80	7	96	48	2	2/4	2/4	24	3	48	0	0	0 एकदिवसीय	180	4	42	35	0	-	-	-	5	-	0	0	0 टी२०	73	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- प्रथम श्रेणी	145		684	378	6	2/4	2/4	63	3.31	114	0	0	0 लिस्ट ए	232		318	242	3	1/13	1/13	80.66	4.56	106	0	0	0 ट्वेंटी२०	224	15	186	280	8	3/28	3/28	35	9.03	23.2	0	0	0
Ross-Taylor-Bowling-Records-in-Hindi

न्यूज़ीलैंड क्रिकेट के दिग्गज बल्लेबाज़ों के एक छोटे अंतराल में लगातार सन्यास लेने के बाद सबको रॉस टेलर से बड़ी उम्मीदें थी. टेलर एक आक्रामक छवि छवि के बल्लेबाज़ हैं जो विश्व-स्तरीय गेंदबाज़ी से लोहा लेने की प्रतिभा रखते हैं. उन्होने 2005-06 के घरेलू सीज़न में धमाकेदार शुरुआत करते हुए तीन शतक बनाए और जल्द ही न्यूज़ीलैंड की एकदिवसीय राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह बनाई. अपने तीसरे ही मैच में नॅपीयर में टेलर ने श्रीलंका के विरुद्ध 128 रन की पारी खेली और जनवरी 2007 में न्यूज़ीलैंड के बाहर अपना पहला मैच ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ होबर्ट में खेलते हुए 100 से ज़्यादा के स्ट्राइक रेट 84 रन बनाए. लेकिन इन दोनो पारियों में रॉस टेलर को मांसपेशियों में खिचाव महसूस हुआ और ये समस्या उनके बढ़ते करियर में कई बार अवरोधक बनी. टेलर तेज़ गेंदबाज़ों के खिलाफ पुल और स्पिन्नरों के खिलाफ स्लॉग स्वीप खेल कर बहुत रन बनाते हैं और अकसर दर्शकों के पसंदीदा बने रहते हैं. इसका उदाहरण आईपीएल और चॅंपियन्स लीग में देखने को मिला जब बंगलोर के दर्शकों ने टेलर को लोकल खिलाड़ी की तरह सराहा.

न्यूज़ीलैंड टीम के कम टेस्ट मैच खेलने के कारण टेलर को 2007-08 में दक्षिण अफ्रीका दौरे पर टेस्ट क्रिकेट खेलने का मौका मिला और अतिरिक्त उछाल के सामने वे संघर्ष करते नज़र आए. इसके बाद घर में बांग्लादेश के खिलाफ सीरीज़ के लिए उन्हें टीम से निकाल दिया गया लेकिन टेलर ने इंग्लैंड के विरुद्ध टेस्ट में अपना पहला शतक (120) रन बनाकर शानदार वापसी की. और इसके बाद ओल्ड ट्रॅफर्ड के मैदान पर 154 रन की यादगार पारी खेल कर साबित किया की वे न्यूज़ीलैंड क्रिकेट के भविष्य की सबसे बड़ी आशा हैं. कप्तानी भी इसके बाद ज़्यादा दूर नही थी और 2010 में श्रीलंका में त्रिकोणीय श्रंखला के लिए टेलर को कप्तान बनाया गया क्योंकि डॅनियल वेट्टोरी और मैकुलम ने माना कर दिया था.

लेकिन टेलर की 2 साल की कप्तानी विवादास्पद तरीके से समाप्त हुई क्योंकि उनके और कोच माइक हेसन (जिन्होने जॉन राइट के बाद कोच पद संभाला था) के बीच रिश्ते कटु थे. टेलर की 13 टेस्ट मैचों की कप्तानी में न्यूज़ीलैंड ने ऑस्ट्रेलिया और श्रीलंका की धरती पर आश्चर्यचकित जीत दर्ज करी लेकिन श्रीलंका दौरे के तुरंत बाद ही विवास्पद हालातों में टेलर ने कप्तानी छोड़ दी और ब्रेंडन मैकुलम को कप्तान घोषित कर दिया गया. इसके बाद दक्षिण अफ्रीका दौरे में ना जा कर टेलर ने इंग्लैंड के खिलाफ घर में वापसी की और कोच हेसन के साथ अपने संबंधों को उन्होने “कार्य प्रगती पर है” कहा.

Leave a Response

share on: