टिम साउथी – न्यूज़ीलैंड – रिकॉर्ड

Tim Southee Records in Hindi

पूरा नाम – टिमोथी ग्रांट साउथी

जन्म – 11 दिसंबर, 1988, वाइनागेरी, नॉर्थलैंड

प्रमुख टीमें – न्यूजीलैंड, चेन्नई सुपर किंग्स, एसेक्स, मुंबई इंडियंस, न्यूजीलैंड अंडर -19, उत्तरी जिले, राजस्थान रॉयल्स

भूमिका – गेंदबाज

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के मध्यम तेज

टेस्ट पदार्पण (कैप 237) – 22 मार्च 2008 बनाम इंग्लैंड

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 150) – 15 जून 2008 बनाम इंग्लैंड

टी 20 पदार्पण (कैप 30) – 5 फरवरी 2008 बनाम इंग्लैंड

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 57 1331 77* 16.63 88.26 0 3 133 61 34
ODIs 122 563 55 11.97 100 0 1 44 24 30
T20Is 41 103 23 8.58 130.37 0 0 8 6 16
First-class 93 2042 156 17.15 85.9 1 5 212 82 44
List A 136 717 66* 12.57 103.31 0 2 58 30 35
T20s 142 570 74 11.17 154.05 0 2 45 33 56
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 57 204 7/64 10/108 31.55 3.06 61.8 11 6 1
ODIs 122 166 7/33 7/33 33.22 5.41 36.8 4 2 0
T20Is 41 48 5/18 5/18 26.79 8.74 18.3 0 1 0
First-class 93 347 8/27 10/108 27.88 3.02 55.2 16 15 1
List A 136 185 7/33 7/33 33.3 5.4 36.9 4 2 0
T20s 142 158 6/16 6/16 26.43 8.22 19.2 0 2 0

एक दाए-हाथ के तेज़ गेंदबाज़ और निचले-क्रम के एक उपयोगी बल्लेबाज़, टिम साउथी को अंतर्राष्ट्रीय मंच पर उतरने से पहले ही भविष्य का एक खिलाड़ी मान लिया गया था | उन्होंने अपने करियर की शुरुआत नॉर्थर्न डिस्ट्रिक्ट्स के साथ 18 वर्ष की कच्ची आयु में की थी, और पहले ही 17 वर्ष की आयु में 2006 के अंडर-19 विश्व कप में न्यू ज़ीलैंड का प्रतिनिधित्व कर चुके थे | अपने युवा स्तर पर उन्होंने सफलता की ओर तेज़ी से कदम बढ़ाए और जब तक उन्होंने 2008 में अपना अगला और आखिरी अंडर-19 विश्व कप खेला, उन्होंने न्यू ज़ीलैंड के लिए अपना टी20 पदार्पण कर लिया था | साउथी ने न्यू ज़ीलैंड की ओर से अंडर-19 विश्व कप के पहले मैच में पांच-विकेट चटकाए थे, और टूर्नामेंट की समाप्ति तक उन्होंने 17 विकेट उखाड़ लिए थे और सर्वाधिक विकेट लेने वालों में दूसरे स्थान पर थे |

नील वैगनर – न्यूज़ीलैंड – रिकॉर्ड

साउथी जैसे ही 2008 के अंडर-19 विश्व कप से लौटकर आए, उन्होंने इंग्लैंड के विरुद्ध नेपियर में खेले गए तीसरे टेस्ट में काइल मिल्स की जगह ले ली | न्यू ज़ीलैंड की ओर से टेस्ट पदार्पण करने वाले सबसे युवा खिलाड़ियों में वे शुमार हो गए और उन्होंने इस बात का जश्न शानदार तरीके से मनाया, और पांच विकेट भी चटकाए | दूसरी पारी में, उन्होंने केवल 40 गेंदों पर 77 रनों की नाबाद पारी खेली, जो कि किसी भी कीवी बल्लेबाज़ द्वारा बनाया गया सबसे तेज़ टेस्ट अर्धशतक था | इसके अगले सीज़न में, साउथी टीम के एक नियमित सदस्य बन गए, लेकिन 11वीं जगह के लिए उन्हें अनुभवी गेंदबाज़ों जैसे कि इयान बटलर और इयान ओ ब्रायन के साथ जूझना पड़ता था |

ऑस्ट्रेलिया में कंगारूओं के विरुद्ध चैपल-हेडली श्रृंखला और दौरे पर आयी भारतीय टीम के विरुद्ध साधारण प्रदर्शन करने के कारण साउथी के अवसर कम होते चले गए | मार्च 8, 2009 को साउथी की भारत के हाथों श्रृंखला के तीसरे एकदिवसीय में जमकर पिटाई हुई थी और उन्होंने 10 ओवरों में 105 रन लुटा दिए थे | इसके बाद साउथी को टीम से बाहर का रास्ता दिखा दिया गया था और उन्हें पूरा सीज़न छोड़ना पड़ा था जिसमें 2009 की आईसीसी चैंपियंस ट्रॉफी और टी20 विश्व कप शामिल था | साउथी घरेलु सर्किट पर वापस आये थे और भारत में इमर्जिंग प्लेयर्स टूर्नामेंट में प्रभावशाली प्रदर्शन किया था | 2010 के सीज़न के दौरान उन्होंने राष्ट्रीय टीम में वापसी की और विनीत प्रदर्शन कर विश्व कप स्क्वाड का हिस्सा बन गए |

ये विश्व कप साउथी के लिए एक यादगार विश्व कप था | उन्होंने टूर्नामेंट की समाप्ति सर्वाधिक विकेट लेने वाले गेंदबाज़ों में तीसरे स्थान पर, 18 विकेटों के साथ की |

आईसीसी की टीम ऑफ़ द टूर्नामेंट में उन्हें 12वां खिलाड़ी बनाया गया | 2011 के आईपीएल के लिए उन्हें चेन्नई सुपर किंग्स द्वारा ख़रीदा गया था |

केन विल्यमसन – न्यूज़ीलैंड – रिकॉर्ड

साउथी ने 2012 में भारत के विरुद्ध शानदार प्रदर्शन किया, जहाँ उन्होंने बैंगलोर में खेले गए दूसरे टेस्ट में पहली पारी का अंत 7-64 के आंकड़ों के साथ किया | इस समय वे खेल के चरम पर थे, और नई और पुरानी दोनों ही गेंदों को अपने इशारों पर नचा रहे थे | इसके बाद खेली गयी एकदिवसीय श्रृंखला में श्रीलंका के विरुद्ध उन्होंने मामूली प्रदर्शन किया | हालाँकि, वे एक और बार टेस्ट क्रिकेट से फॉर्म में आये, और 14 से भी कम के औसत से 2 टेस्ट मैचों में 12 विकेट झटके |

जब न्यूज़ीलैंड ने दिसंबर 2012 में दक्षिण अफ्रीका का दौरा किया, साउथी उस श्रृंखला का हिस्सा नहीं थे क्योंकि उस समय उनके पहले बच्चे का जन्म हो रहा था और फिर उसके बाद अंगूठे की एक चोट के कारण वे दौरे से बाहर रहे | दो महीनों के अंतराल के बाद वे टीम में वापस लौटे और आते ही इंग्लैंड का दौरा करने जा रही टीम का हिस्सा बन गए | लॉर्ड्स में खेले गए पहले टेस्ट में उन्होंने अपने करियर का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन करते हुए मैच में 10 विकेट लिए, और डिओन नैश के बाद ऐसा करने वाले केवल दूसरे कीवी खिलाड़ी बन गए | साउथी ने गेंदबाज़ी आक्रमण की अगुवाई करने की अपनी प्रतिभा भी दिखाई और वेस्ट इंडीज और भारत में दिसंबर/जनवरी 2014 खेली गयी श्रृंखलाओं में महत्वपूर्ण अवसरों पर विकेट निकाले | हालाँकि, वे इस प्रदर्शन को टी20 विश्व कप में नहीं दोहरा पाए, और केवल दो मैच खेलने के बावजूद टीम के सबसे महंगे गेंदबाज़ साबित हुए | पहले दो मैचों के बाद, टीम प्रबंधन ने उन्हें निकालकर ट्रेंट बोल्ट को टीम में जगह दी | 2014 की आईपीएल नीलामी में उन्हें राजस्थान रॉयल्स ने ख़रीदा |

साउथी वेस्ट इंडीज के विरुद्ध, और कुछ हद तक यूएई में, टेस्ट मैच खेल कर वापस फॉर्म में आये, जिसके बाद उन्हें पाकिस्तान के विरुद्ध एकदिवसीय श्रृंखला के लिए आराम दिया गया | श्री लंका के विरुद्ध टेस्ट और एकदिवसीय श्रृंखला में भी वे अच्छी फॉर्म में थे |

उनके करियर का चरम 2015 के विश्व कप में, खासकर कि इंग्लैंड के विरुद्ध आया जब उन्होंने 33 रन देकर 7 विकेट चटकाए, जो कि एकदिवसीय मैचों में उनके सर्वश्रेष्ठ आंकड़े थे | साउथी ने बोल्ट के साथ मिलकर न्यू ज़ीलैंड के गेंदबाज़ी आक्रमण की खेल के तीनों प्रारूपों में अगुवाई की |

साउथी की गेंदबाज़ी में निरंतरता न आ पाने के कारण वे एकदिवसीय और टी20 की टीमों से अंदर-बाहर होते रहे | बोल्ट के फलने-फूलने और मैकलेनाघन, मैट हेनरी और एडम मिल्ने जैसे खिलाड़ियों के जुड़ने से, साउथी मुश्किल से ही टीम में अपनी जगह बना पाते थे | हालाँकि, आईसीसी की चैंपियंस ट्रॉफी में बोल्ट के साथ मिलकर इन्होंने ही न्यू ज़ीलैंड के गेंदबाज़ी आक्रमण की अगुवाई की |

Summary
Review Date
Reviewed Item
Tim Southee Records | New Zealand | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: