अज़हर अली – पाकिस्तान – रिकॉर्ड

Azhar-Ali-Records-in-Hindi

पूरा नाम – अजहर अली

जन्म – 19 फरवरी, 1985, लाहौर, पंजाब

प्रमुख टीमें – पाकिस्तान, खान रिसर्च लैबोरेटरीज, लाहौर, लाहौर ईगल्स, लाहौर लायंस, लाहौर क़लांदर्स पाकिस्तान

भूमिका – शीर्ष क्रम के बल्लेबाज

बल्लेबाजी की शैली – राइट-हैंड बैट

गेंदबाजी की शैली – लेग-ब्रेक

टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण (कैप 199) – 13 जुलाई 2010 बनाम ऑस्ट्रेलिया

वनडे कैरियर की शुरुआत (कैप 185) – 30 मई 2011 बनाम आयरलैंड
वनडे शर्ट नंबर 79

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	35	60	6	1898	245	35.14	4155	45.67	3	8	239	17	18	0 एकदिवसीय	244	221	34	6548	143	35.01	8053	81.31	8	38	536	93	88	0 प्रथम श्रेणी	125	195	20	6491	245	37.09			17	30			65	0 लिस्ट ए	354	312	53	10192	143	39.35			15	63			143	0 ट्वेंटी२०	257	241	67	6630	95*	38.1	5367	123.53	0	41	530	184	103	0
Azhar-Ali-Batting-anf-Fielding-Records-in-Hindi
गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	35	43	2712	1519	32	4/33	7/59	47.46	3.36	84.7	2	0	0 एकदिवसीय	244	197	7529	5852	153	4/19	4/19	38.24	4.66	49.2	1	0	0 प्रथम श्रेणी	125		15125	7423	260	7/81		28.55	2.94	58.1		9	1 लिस्ट ए	354		12955	9786	304	5/35	5/35	32.19	4.53	42.6	7	1	0 ट्वेंटी२०	257	160	2570	3011	116	5/13	5/13	25.95	7.02	22.1	1	2	0
Azhar-Ali-Bowling-records-in-Hindi

व्यापार से एक सलामी बल्लेबाज, अज़हर ने 2006 से अपने पाकिस्तान के घरेलू प्रदर्शन तेजी से सुधारे हैं। यह वही समय था जब अज़हर लगातार ख़ान रिसर्च लेबोरेटरीज़ के लिए सलामी बल्लेबाज़ी करने लगे। इस चाल ने उन्हें केवल पाँच मेचों में दो शतक और दो अर्धशतक दिलाए ।इसके बाद वह कभी पीछे नहीं मुड़े।

उनके सारे रन एक सुसंबंद्ध तकनीक से बने, जिसकी रूपरेखा है हर बाॅल की लाइन के पीछे जाना। अवलोकन करने वालो का कहना है कि छोटी बाॅलें उन्हें प्रायः उलझा देती हैं , वह धैर्य से काम लेते हैं।उन्होंने 2009 के ऑस्ट्रेलिया दौरे पर डाॅग बोलिंगर, क्लिंट मेक्कै और जेसन क्रेज़ा के हमले के खिलाफ, दो बार पाँच घंटे में 70 रन बनाए ।इस श्रंखला ने उन्हें राष्ट्रीय टीम का केंद्र बिंदु बनने की तरफ धकेला और 2009-10 के समय में उन्होंने अद्भुत नहीं तो ठोस प्रदर्शन दिया ही।टीम का युनूस ख़ान और मोहम्मद यूसुफ के आगे बल्लेबाज़ी सशक्त करने का उद्देश्य था जिसके चलते अज़हर को टेस्ट क्रिकेट में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ लाॅर्डस के मैदान पर पदार्पण करने का अवसर मिला ।

अज़हर ने अपना पहला अर्धशतक दूसरे टेस्ट में बनाया जब हेडिंगले में बल्लेबाज़ो के लिए बहुत कठिन परिस्थिति थी और चौथी पारी में 180 रन ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ बनाने थे। उन्होंने पहला शतक ,दस अर्धशतक बनाने के बाद ही बनाया, यह एक छोटा सा धब्बा था। श्रीलंका के खिलाफ हुई श्रंखला उनके लिए महत्वपूर्ण थी। इंग्लैंड के खिलाफ 2011-12 में यूएई में हुई श्रंखला में उन्होंने असाधारण धैर्य और स्वभाव बनाए रखा ,एक कम अंक वाले मैच में दूसरी पारी में दुबई में शतक लगाया । जिस श्रृंखला में गेंदबाज़ों का शासन था, उसमें दोनों टीमों से अज़हर अकेले बल्लेबाज़ थे जिनका औसत 50 रन से ज़्यादा था।

2015 के विश्वकप के बाद, मिस्बाह उल हक़ के हाथों से कप्तानी लेकर अज़हर को दी गई, यही वह मोड़ था जब वह परेशानीयों से घिर गए । पाकिस्तान ओडिआई रैंकिंग में नौवे स्थान पर फिसल गया, फिर एक रैंक आगे बढ़ा, जिससे 2017 की चैंपियन्स ट्राॅफी के लिए योग्य रहा। चैम्पियंस ट्रॉफी के अंदर शीर्ष आठ टीमें हिस्सा लेती हैं। अज़हर की कप्तानी में पाकिस्तान 12 ओडिआई जीता और 18 हारा। उन्होंने फरवरी 2017 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ हुई 4-1 की हार के बाद कप्तानी छोड़ दी।

Leave a Response

share on: