लोनवाबो त्सोत्सोबे – दक्षिण अफ्रीका – रिकॉर्ड

Lonwabo Tsotsobe Records in Hindi

पूरा नाम – लोनवाबो लोपसी त्सोत्सोबे

जन्म – 7 मार्च 1984, पोर्ट एलिजाबेथ

प्रमुख टीमें – दक्षिण अफ्रीका, डॉल्फ़िन, पूर्वी प्रांत, एसेक्स, गौटेंग, लायंस, ससेक्स, दूसरा, वारियर्स

भूमिका – गेंदबाज

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – बाएं हाथ के तेज-मध्यम

टेस्ट पदार्पण (कैप 309) – 10 जून 2010 बनाम वेस्टइंडीज
अंतिम टेस्ट – 2-6 जनवरी 2011 बनाम भारत

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 95) – 30 जनवरी 2009 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम एकदिवसीय – 11 दिसंबर 2013 बनाम भारत

टी 20 पदार्पण (कैप 20) – 11 जनवरी 2009 बनाम ऑस्ट्रेलिया
अंतिम टी 20 – 27 मार्च 2014 बनाम नीदरलैंड्स

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 5 19 8* 6.33 35.84 0 0 2 0 1
ODIs 61 56 16* 7 51.37 0 0 7 1 9
T20Is 23 2 1* 2 20 0 0 0 0 1
First-class 61 286 27* 5.72 28.65 0 0 36 3 14
List A 144 114 16* 5.7 46.34 0 0 22
T20s 77 7 3* 3.5 43.75 0 0 0 0 20
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 5 9 3/43 5/83 49.77 3.08 96.6 0 0 0
ODIs 61 94 4/22 4/22 24.96 4.75 31.5 7 0 0
T20Is 23 18 3/16 3/16 30.05 6.93 26 0 0 0
First-class 61 201 7/39 26.85 3.17 50.8 8 6 1
List A 144 204 5/28 5/28 27.25 4.94 33 11 2 0
T20s 77 71 4/18 4/18 27.53 7.23 22.8 1 0 0

7 मार्च 1984 को पोर्ट एलिजाबेथ में जन्मे लोनवाबो लोपसी त्सोत्सोबे को वेन पार्नेल और मॉर्न मोर्कल के साथ दक्षिण अफ्रीका की नयी पीढ़ी की तेज गेंदबाजी आक्रमण का अंग माना जाता है | वो बाएं हाथ के लम्बे गेंदबाज है और अपने तेज गेंदबाजी एक्शन की वजह से एक अच्छे गेंदबाज बन सकते है जो अपनी गति और धीमी चाल से बल्लेबाजो को धोखा दे सकता है |

मोर्ने मोरकेल – दक्षिण अफ्रीका – रिकॉर्ड

उन्होंने घरेलु क्रिकेट में अपने पहले ही सत्र 2004-05 में 17.75 की औसत से 16 विकेट लेकर प्रभावित किया | घरेलु क्रिकेट के अगले सीजन में वो वारियर्स के साथ खेले और उस सीजन में उन्होंने अपने हुनर को दिखाया | उन्होंने 49 विकेट लिये (जिसमे उन्होंने मैच में 3 बार 5 विकेट लिये और 1 बार मैच में 10 विकेट लिये) |

उनके निरंतर अच्छे प्रदर्शनों के कारण उनको दिसंबर 2008 में ऑस्ट्रेलिया दौरे के लिये राष्ट्रीय एकदिवसीय और टी-20 टीम में शामिल किया गया | उन्होंने अपने पहले ही मैच में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 50 रन देकर 4 विकेट लिये और यह उनको राष्ट्रीय अनुबंध में शामिल करने लिए पर्याप्त था |

चयनकर्ताओं ने फरवरी 2010 की भारत शृंखला के लिये मखाया एनटिनी के अनुभव की जगह त्सोत्सोबे को तवज्जो दी | मखाया एनटिनी जैसे अनुभवी खिलाड़ी की जगह लेना त्सोत्सोबे की क्षमताओं को दिखाता है |
डेल स्टेन – दक्षिण अफ्रीका – रिकॉर्ड

शॉन पोलक जिन्होंने 2008 में क्रिकेट से संन्यास ले लिया था, त्सोत्सोबे के गुरु की भूमिका निभा रहे है | त्सोत्सोबे की प्रतिभा को निखारने और उनको एक पूर्ण तेज गेंदबाज के रूप में तैयार करने का श्रेय पोलक को जाता है | त्सोत्सोबे जरूर क्रिकेट में अपने देश के लिये अच्छा करेंगे | त्सोत्सोबे का अंतरराष्ट्रीय करियर उतार-चढ़ाव से भरा रहा | वो दक्षिण अफ्रीका के एकदिवसीय और टी-20 टीम के स्थायी सदस्य है, लेकिन टेस्ट टीम का हिस्सा नहीं है | उन्होंने खेल के छोटे प्रारूपों में अच्छा प्रदर्शन किया है और आईसीसी रेटिंग्स में एकदिवसीय और टी-20 दोनों में शीर्ष गेंदबाजों में शामिल रहे है |

फिलैंडर के आगमन के बाद त्सोत्सोबे को टेस्ट टीम से निकाल दिया गया | लेकिन खेल के छोटे प्रारूपों में नियमित रूप से अच्छा प्रदर्शन करने के कारण टेस्ट टीम के लिये उनका नाम विचाराधीन रहता है | त्सोत्सोबे उस दक्षिण अफ्रीकी टीम का हिस्सा थे जो 2014 टी-20 विश्व कप में सेमी-फाइनल तक पहुंची थी | उन्होंने उस विश्व कप में 3 मैच खेले और उन मैचों में उनका प्रदर्शन अच्छा नहीं रहा | एक भी विकेट लेने में सक्षम नहीं होने की वजह से उनकी जगह वेन पार्नेल को टीम में शामिल किया गया |

Summary
Review Date
Reviewed Item
Lonwabo Tsotsobe Records | South Africa | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: