कुमार संगकारा – श्रीलंका – रिकॉर्ड

Kumar Sangakkara Records in Hindi

पूरा नाम – कुमार संगकारा चोकशनदा

जन्म – अक्टूबर 27, 1977, मतले

प्रमुख टीमें – श्रीलंका, एशिया एकादश, मध्य प्रांत, कोलम्बो क्रिकेट संघ, डेक्कन चार्जर्स, डरहम, होबार्ट हरिकेन्स, आईसीसी विश्व एकादश, जमैका टल्लावाहस, कंदुरता, कंदुरता मरूवोन्स, किंग्स इलेवन पंजाब, मेरिलबोन क्रिकेट क्लब, नोंदेस्क्रिप्टस क्रिकेट क्लब, क्वेटा ग्लेडियेटर्स , हैदराबाद, वारविकशायर

खेलने की भूमिका – विकेटकीपर बल्लेबाज

बल्लेबाजी की शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी की शैली – राइट-आर्म ऑफ-ब्रेक

क्षेत्ररक्षण स्थिति – विकेटकीपर

राष्ट्रीय टीम – श्रीलंका (2000-2015)

टेस्ट क्रिकेट में पदार्पण (कैप 84) – 20 जुलाई 2000 बनाम दक्षिण अफ्रीका
अंतिम टेस्ट – 20 अगस्त, 2015 बनाम भारत

वनडे कैरियर की शुरुआत (कैप 105) – 5 जुलाई 2000 बनाम पाकिस्तान
अंतिम वनडे – 18 मार्च, 2015 बनाम दक्षिण अफ्रीका
वनडे शर्ट नंबर 11

टी 20 कैरियर की शुरुआत (कैप 10) – 15 जून 2006 बनाम इंग्लैंड
अंतिम टी 20 – 6 अप्रैल 2014 बनाम भारत

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct St
Tests 134 12400 319 57.4 54.19 38 52 1491 51 182 20
ODIs 404 14234 169 41.98 78.86 25 93 1385 88 402 99
T20Is 56 1382 78 31.4 119.55 0 8 139 20 25 20
First-class 260 20911 319 52.4 64 86 371 33
List A 528 19453 169 43.61 39 120 518 124
T20s 254 6581 94 29.11 126.5 0 39 705 126 155 59
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 134 0 3.5 0 0 0
ODIs 404
T20Is 56
First-class 260 1 1/13 150 3.65 246 0 0
List A 528
T20s 254

तिलकरत्ने दिलशान – श्रीलंका – रिकॉर्ड

22 साल की उम्र में जब एक लॉ के छात्र कुमार संगकारा ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में पदार्पण किया तो ये स्पष्ट था कि वे बल्लेबाज़ी के सर्वोच्च स्तर से ज़्यादा के लिए बने हैं. उनसे पहले आए श्रीलंकाई बायें हाथ के बल्लेबाज़ – अर्जुन रणतुंगा और असंका गुरुसिँहा – झुँझारू खिलाड़ी थे लेकिन संगकारा जितनी आसानी से ऐसे खूबसूरत शॉट खेलते थे , जो की अकसर दाहिने हाथ के बल्लेबाज़ों द्वारा खेले जाते हैं, वो देखते ही बनता था. कट और पुल शॉट संगकारा के पास प्रारंभ से ही थे, और बढ़ते आत्मविश्वास के साथ वे फ्रंट-फुट पर भी आश्वस्त होते गए.

रणतुंगा पहले ही अंतरराष्ट्रीय स्तर पर इस भ्रम को तोड़ चुके थे की श्रीलंका के खिलाड़ी नम्र स्वाभाव के होते हैं और उन्हे कोई भी डरा धमका सकता है, लेकिन संगकारा ने आक्रामकता का एक नया स्तर बनाया और स्टंप के पीछे से बल्लेबाज़ों पर कटु कटाक्ष करते हुए दबाव बनाने लगे. शुरू में उनकी विकेटकीपिंग में काफ़ी खामियाँ थी, लेकिन बल्लेबाज़ी इतनी परिपूर्ण थी की अंतिम 11 में से उन्हें हटाने का सवाल ही नही उठता था.

महेला जयवर्धने – श्रीलंका – रिकॉर्ड

एक बल्लेबाज़ के तौर पर संगकारा तेज़ी से परिपक्व होते चले गए और रन बनाने की उनकी भूख का सबसे बड़ा अनुमान तब लगा जब 2006 में कोलंबो के सिनलीज़ स्पोर्ट्स क्लब मैदान पर दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ महेला जयवर्धंने (कप्तान और उनके करीबी मित्र) के साथ मिलकर उन्होने विश्व रिकौर्ड़ 624 रन की साझेदारी एक ऐसे गेंदबाज़ी आक्रमण के खिलाफ करी जिसमें डेल स्टेन और मखाया एंटिनी जैसे ख़तरनाक गेंदबाज़ थे. संगकारा ने 287 रन की पारी खेली और अपनी प्रतिष्ठा को बरकरार रखते हुए इसके अगले साल ऑस्ट्रेलिया में होबर्ट के मैदान पर 192 रन की महान पारी खेली, जहाँ श्रीलंका एक करीबी मुक़ाबले में हार गया. इस समय तक वो एकदिवसीय विश्व कप के फाइनल में अर्धशतक बनाने का सम्मान भी हासिल कर चुके थे, और जयवर्धने के कप्तानी त्यागने से बहुत पहले ये सॉफ हो चुका था की संगकारा ही भविष्य में कप्तान बनेंगे.

एंजेलो मैथ्यूज़ – श्रीलंका – रिकॉर्ड

एकदिवसीय क्रिकेट में हालाँकि संगकारा को कई बार क्रीज़ पर जमने के बाद अपना विकेट फेंकते देखा गया है लेकिन उनकी नेत्रत्व की क्षमता को देखते हुए आईपीएल में वे काफ़ी चर्चित खिलाड़ियों में से रहे हैं. श्रीलंका की कप्तानी संभालते हुए संगकारा ने विकेटकीपिंग छोड़ दी, लेकिन विकेट के पीछे से उनके कमेंट बरकरार रहे. कप्तानी ने संगकारा की बल्लेबाज़ी को और भी ज़्यादा निखारा लेकिन फिर भी 2011 के बाद उन्होने कप्तानी त्याग दी, और विश्व क्रिकेट में नंबर 3 पर सबसे बड़े बल्लेबाज़ सालों तक बने रहे. 2012 के आईसीसी अवॉर्ड्स में संगकारा की धूम रही और वे टेस्ट क्रिकेटर ऑफ द ईयर बने. इसी साल के अंत में उन्होने अपनी महानता एक बार फिर साबित करते हुए श्रीलंका क्रिकेट के इतिहास में घर से बाहर सबसे ज़्यादा दर्शकों के सामने (मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड), टेस्ट क्रिकेट में संयुक्त रूप से सबसे तेज़ 10000 रन (सचिन तेंदुलकर और ब्राइयन लारा सहित) बनाने का कीर्तिमान स्थापित किया.

2014 में टी२० विश्व कप जीतने के बाद उन्होने इस प्रारूप से सन्यास ले लिया और 2015 में संगकारा ने अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट को अलविदा कह दिया.

सनथ जयसूर्या – श्रीलंका – रिकॉर्ड

Leave a Response

share on: