मर्वन अटापट्टू – श्रीलंका – रिकॉर्ड

Marvan Atapattu Records in Hindi

पूरा नाम – मार्वन सेमसन अटापट्टू

जन्म – 22 नवंबर, 1970, कलुतारा

प्रमुख टीमें – श्रीलंका, एशिया इलेवन, दिल्ली जायंट, आईसीएल वर्ल्ड इलेवन, सिंहली स्पोर्ट्स क्लब

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – लेगब्रेक

अन्य – कोच

टेस्ट पदार्पण (कैप 46) – 23 नवंबर 1990 बनाम भारत
अंतिम टेस्ट – 16 नवंबर 2007 बनाम ऑस्ट्रेलिया

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 59) – 1 दिसंबर 1990 बनाम भारत
अंतिम एकदिवसीय – 17 फरवरी 2007 बनाम भारत

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत
मॅच रन सर्वाधिक स्कोर औसत स्ट्राइक रेट शतक अर्धशतक चौके छ्क्के कॅच
टेस्ट 90 5502 249 39.02 16 17 685 4 58
एकदिवसीय 268 8529 132* 37.57 67.72 11 59 734 15 70
टी२० 2 5 5 5 62.5 0 0 0 0 0
प्रथम श्रेणी 228 14591 253* 48.79 47 53 149
लिस्ट ए 329 10802 132* 39.42 18 71 91
ट्वेंटी२० 3 5 5 5 62.5 0 0 0 0 1
गेंदबाज़ी औसत
मॅच विकेट बेस्ट/पारी बेस्ट/मॅच औसत रन प्रति ओवर स्ट्राइक रेट 4 विकेट 5 विकेट 10 विकेट
टेस्ट 90 1 1/9 1/9 24 3 48 0 0 0
एकदिवसीय 268 0 4.82 0 0 0
टी२० 2
प्रथम श्रेणी 228 19 3/19 36.42 3.18 68.5 0 0
लिस्ट ए 329 1 1/12 1/12 64 4.74 81 0 0 0
ट्वेंटी२० 3



मरवन अटापटू ने अपने करियर की ख़राब शुरुआत पर विजय पाकर खुद को श्रीलंका के बल्लेबाज़ी क्रम के सबसे महत्वपूर्ण खिलाड़ियों में शामिल किया | उनके करियर की शुरुआत बहुत ही खराब थी, और अपने पहले तीन टेस्ट मैचों में 5 बार वे शून्य पर आउट हो गए थे | दिलचस्प बात तो यह है कि ये आंकड़ा शायद 6 शून्य के स्कोरों का होता, यदि स्टीवन लिंच द्वारा अनदेखी लेग बाई के कारण 1992 में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध कोलम्बो में खेले गए टेस्ट के दौरान उनके खाते में एक रन न जुड़ता | हालाँकि इस मनोहर बल्लेबाज़ ने एक धमाकेदार वापसी की और आगे जाकर 6 दोहरे शतक जमाये |

सनथ जयसूर्या – श्रीलंका – रिकॉर्ड

यह 1997 के अंत की बात थी, उनके टेस्ट पदार्पण के 7 साल बाद, जब अटापटू ने अपने उलटफेर की गाथा शुरू की और मोहाली में भारत के विरुद्ध शतक बनाया | यह वो पारी थी जिससे मरवन को एक नया जीवन मिला | उस दशक के अंत तक, अटापटू अपनी टीम के सबसे मंझे हुए खिलाड़ियों में शुमार हो गए थे |

लोगों की ऐसी सोच थी कि अटापटू कमज़ोर आक्रमणों के विरुद्ध ही भारी रन बनाते थे, और सबूत के तौर पर, उनके दो दोहरे शतक ज़िम्बाब्वे के विरुद्ध आये थे | हालाँकि, इन ख्यालों को उन्होंने जल्द ही दूर कर दिया जब उन्होंने पाकिस्तान और इंग्लैंड के विरुद्ध दोहरे शतक जमाये | खासतौर पर, गाले में इंग्लैंड के विरुद्ध 2000-01 में लगाए अपने दोहरे शतक से वे काफी खुश हुए होंगे, क्योंकि उस मैच में श्री लंका की जीत हुई थी |

अरविंद डि सिल्वा – श्रीलंका – रिकॉर्ड

लॉर्ड्स के मैदान पर 2002 में इंग्लैंड के विरुद्ध अटापटू के 185 रनों के कारण ही आगंतुक श्री लंका ने बहुत बड़ा स्कोर बनाया था | हालाँकि, मेज़बान ने पहली पारी में सस्ते में निपटने के बाद भी बेहतरीन तरीके से मैच को ड्रॉ कराया था |



2004 में अटापटू ने गिलेस्पी, कास्प्रोविक्ज़ और वॉर्न जैसे गेंदबाज़ों के विरुद्ध कोलम्बो में एक सधा हुआ शतक जमाया था, फिर भी उनकी टीम दूसरी पारी में सस्ते में निपट गयी थी और मैच हार गयी थी |

चमिंडा वास – श्रीलंका – रिकॉर्ड

2005 में अपने टेस्ट करियर के अंतिम समय में भी न्यूज़ीलैंड के विरुद्ध नेपियर में शतक जमाकर अटापटू ने अपनी योग्यता सिद्ध की थी | अटापटू और महेला जयवर्दने के सैंकड़ो के दम पर श्री लंका ने मैच ड्रॉ कराया था | अटापटू ने अपना आखिरी मैच 2007 में ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध होबार्ट में खेला था | जब एक बार अटापटू अपने अंदर के डर से उबर गए, तब वे एकदिवसीय क्रिकेट में भी एक निपुण खिलाड़ी बन गए | इंग्लैंड के विरुद्ध 1998 में लॉर्ड्स के मैदान पर खेले गए त्रिकोणीय श्रृंखला के फाइनल में उनकी 132 रनों की नाबाद पारी बहुत ही बेहतरीन थी | वे उस समय बल्लेबाज़ी करने आये जब सनथ जयसूर्या पहले ही ओवर में चलते बने थे और श्रीलंकाई टीम का लक्ष्य का पीछा करने में पूरा साथ दिया | अंत में वे मैच 5 विकेट से जीत गए |

1999 के विश्व कप में भी उन्होंने कुछ अर्धशतक जमाये, लेकिन अपने सबसे अच्छे फॉर्म में नहीं दिखे | हालाँकि, अटापटू ने अपना दम 2003 के विश्व कप में दिखाया | उन्होंने आक्रामकता और रक्षात्मक रवैये का अच्छा मिश्रण बिठाया और डरबन में दक्षिण अफ्रीकी पेस आक्रमण के विरुद्ध सैंकड़ा जमाया |

विवादस्पद रूप से उन्हें 2007 के विश्व कप दस्ते से बाहर रखा गया था और चयनकर्ताओं के साथ कुछ मन-मुटाव के बाद, उन्होंने खेल से संन्यास ले लिया | 2013 में उन्हें पॉल फरबेस के अधीन सहायक कोच नियुक्त किया गया था | फरबेस, हालाँकि, कुछ समय बाद ही इंग्लैंड चले गए थे और नतीजतन अटापटू को कोच की ज़िम्मेदारी सौपी गयी थी |



अर्जुन रणतुंगा – श्रीलंका – रिकॉर्ड

अटापटू ने टेस्ट और एकदिवसीय मैचों में टीम की कप्तानी भी की है | 2004 में, उनकी कप्तानी के अधीन, श्रीलंका ने दक्षिण अफ्रीका को अपने घर में मात दी थी |

एकदिवसीय मैचों में, अटापटू ने अपनी टीम को 2004 में एशिया कप का खिताब जितवाया था | इस समय के दौरान, श्रीलंका को अपने घर में सीमित ओवरों के क्रिकेट में काफी सफलता हाथ लगी थी |

स्कूल का समय –

मार्वन अटापट्टू ने महिंदा कॉलेज, गॉल में एक किशोर के रूप में अपना क्रिकेट करियर शुरू किया। मेजर जी डब्लू एस सिल्वा उनके पहले क्रिकेट कोच थे। फिर उन्होंने कोलंबो के आनंद कॉलेज में दाखिला लिया, जहाँ उन्हें पी डब्लू पेरेरा द्वारा प्रशिक्षित किया गया।

कोचिंग करियर –

अटापट्टू ने 2009 के शुरुआती दौर में कनाडा के बल्लेबाजी कोच के रूप में संखिप्त अवधि के लिए काम किया और बाद में उन्हें 2011 के विश्व कप के लिए अर्हता प्राप्त करने में मदद भी मिली। 2010 में, उन्हें एक साल की अवधि के लिए सिंगापुर क्रिकेट टीम के मुख्य कोच के रूप में नामित किया गया था, जो एक राष्ट्रीय टीम के कोच के रूप में उनका पहला पूर्णकालिक काम था।

अप्रैल 2011 में, विश्व कप के बाद अटापट्टू को श्रीलंका की राष्ट्रीय टीम के बल्लेबाजी कोच के रूप में नामित किया गया था। इंग्लैंड दौरे के लिए अंतरिम कोच स्टुअर्ट लॉ, चंपक रमानयाके और काल्पगे के साथ वह भी शामिल हुए थे। इस बीच, उन्हें टीम के मुख्य कोच की नौकरी के लिए उपयुक्त माना जाता था, लेकिन अंततः 2013 में पॉल फ़ार्ब्रेस ने यह जिम्मेदारी संभाली।। अटापट्टू को एक सहायक कोच के पद पर पदोन्नत किया गया था। 2014 में फ़ार्ब्रेस के अप्रत्याशित निकास के बाद, उन्हें टीम के अंतरिम मुख्य कोच के रूप में नियुक्त किया गया था। इस अवधि के दौरान, श्रीलंका ने 16 वर्षों में इंग्लैंड में अपनी पहली टेस्ट सीरीज जीती, हालांकि 2014 के दौरे में भी उन्होंने 1-0 की जीत थी। सितंबर 2014 में उन्होंने आधिकारिक तौर पर प्रमुख कोच के रूप में पदभार ग्रहण किया, और 15 वर्षों में टीम के पहले स्थानीय कोच भी बने । इंग्लैंड के 2014 के श्रीलंका दौरे के दौरान 5-2 की एकदिवसीय श्रृंखला जीत उनके कार्यकाल के दौरान श्रीलंका के लिए एकमात्र श्रृंखला जीत रही थी। पाकिस्तान और भारत के खिलाफ लगातार टेस्ट श्रृंखला हार जाने के बाद उन्होंने सितंबर 2015 में इस्तीफा दे दिया।



व्यक्तिगत जीवन

अटापट्टू की शिक्षा महिन्दा कॉलेज, गॉल और आनंद कॉलेज, कोलंबो में हुई है। पेशे से अकाउंटेंट नीलनी अटापट्टू से उनकी शादी हुई है। मारवन और नीलनी की दो बेटियां हैं।

मर्वन अटापटु के एकदिवसीय क्रिकेट में मैन ऑफ़ द मैच अवार्ड:

No Opponent Venue Date Match Performance Result
1 Pakistan R Premadasa Stadium, Colombo 14-Jul-97 80 (113 balls: 3×4)
 Sri Lanka won by 15 runs
2 India R Premadasa Stadium, Colombo 26-Jul-97 84* (101 balls: 6×4, 1×6)
 Sri Lanka won by 8 wickets
3 Pakistan Willowmoore Park, Benoni 15-Apr-98 94 (123 balls: 7×4, 1×6)
 Sri Lanka won by 115 runs
4 New Zealand R Premadasa Stadium, Colombo 21-Jun-98 1 Ct. ; 83* (118 balls: 9×4)
 Sri Lanka won by 7 wickets
5 Australia Bellerive Oval, Hobart 21-Jan-99 82 (121 balls: 6×4)
 Sri Lanka won by 3 wickets
6 Zimbabwe New Road, Worcester 22-May-99 1 Ct. ; 54 (90 balls: 4×4)
 Sri Lanka won by 4 wickets
7 India R Premadasa Stadium, Colombo 25-Aug-99 71* (126 balls: 6×4)
 Sri Lanka won by 7 wickets
8 Pakistan National Stadium, Karachi 13-Feb-00 119* (135 balls: 7×4) ; 1 Ct.
 Sri Lanka won by 29 runs
9 Pakistan Gaddafi Stadium, Lahore 19-Feb-00 77 (91 balls: 4×4)
 Sri Lanka won by 104 runs
10 Pakistan Sharjah Cricket Stadium, Sharjah 20-Apr-01 89 (119 balls: 5×4, 1×6)
 Sri Lanka won by 77 runs
11 Pakistan Sharjah Cricket Stadium, Sharjah 12-Apr-02 77* (109 balls: 5×4)
 Sri Lanka won by 9 runs
12 Pakistan Sharjah Cricket Stadium, Sharjah 14-Apr-02 82 (94 balls: 12×4) ; 1 ct.
 Sri Lanka won by 46 runs
13 Bangladesh Sinhalese Sports Club Ground, Colombo 04-Aug-02 83 (101 balls: 8×4, 1×6)
 Sri Lanka won by 5 wickets
14 Netherlands R Premadasa Stadium, Colombo 16-Sep-02 101 (118 balls: 8×4)
 Sri Lanka won by 206 runs
15 South Africa Willowmoore Park, Benoni 01-Dec-02 123* (121 balls: 15×4, 1×6)
 Sri Lanka won by 7 wickets
16 South Africa Kingsmead Cricket Ground, Durban 03-Mar-03 124 (129 balls: 18×4) Match tied
17 Zimbabwe Buffalo Park, East London 15-Mar-03 103* (127 balls: 7×4) ; 1 ct.
 Sri Lanka won by 74 runs
18 India R Premadasa Stadium, Colombo 01-Aug-04 65 (87 balls: 8×4)
 Sri Lanka won by 25 runs
19 South Africa Rangiri Dambulla International Stadium, Dambulla 25-Aug-04 97* (140 balls: 8×4)
 Sri Lanka won by 4 wickets
Summary
Review Date
Reviewed Item
Marvan Atapattu Records | Sri Lanka | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: