उपुल थरंगा – श्रीलंका – रिकॉर्ड

Upul Tharanga Records in Hindi

पूरा नाम – वारुषविठाना उपुल थरंगा

जन्म – 2 फरवरी, 1985, बालापीतिया

प्रमुख टीमें – श्रीलंका, एशिया इलेवन, कंधुरता मारुन्स, मोहम्मद स्पोर्टिंग क्लब, नोडस्क्रिप्ट्स क्रिकेट क्लब, रुहुना, सिंह खेल क्लब, श्रीलंका ए, श्रीलंका बोर्ड के अध्यक्ष इलेवन, श्रीलंका बोर्ड इलेवन

भूमिका – सलामी बल्लेबाज़

बल्लेबाजी शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज़

टेस्ट पदार्पण (कैप 103) – 18 दिसंबर 2005 बनाम भारत

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 125) – 2 अगस्त 2005 बनाम वेस्टइंडीज

टी 20 पदार्पण (कैप 11) – 15 जून 2006 बनाम इंग्लैंड

बल्लेबाजी और क्षेत्ररक्षण का औसत														 	मॅच 	पारी	नाबाद	रन	सर्वाधिक स्कोर	औसत	गेंद खेलीं	स्ट्राइक रेट	शतक	अर्धशतक	चौके	छ्क्के	कॅच	स्टमपिंग टेस्ट	29	54	3	1740	165	34.11	3161	55.04	3	8	237	9	23	0 एकदिवसीय	207	196	15	6212	174*	34.32	8244	75.35	14	34	707	43	39	0 टी२०	16	16	0	216	37	13.5	188	114.89	0	0	25	4	2	0 प्रथम श्रेणी	136	229	11	8833	265*	40.51			22	35			105	1 लिस्ट ए	332	317	21	10273	174*	34.7	13442	76.42	21	61			91	2 ट्वेंटी२०	78	77	4	1938	83*	26.54	1556	124.55	0	12	225	56	28	5
Upul-Tharanga-Batting-and-Fielding-records-in-Hindi

गेंदबाज़ी औसत													 	मॅच 	पारी	गेंदें	रन	विकेट	बेस्ट/पारी	बेस्ट/मॅच	औसत	रन प्रति ओवर	स्ट्राइक रेट	4 विकेट	5 विकेट	10 विकेट टेस्ट	29	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- एकदिवसीय	207	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- टी२०	16	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- प्रथम श्रेणी	136		18	4	0	-	-	-	1.33	-	0	0	0 लिस्ट ए	332	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	- ट्वेंटी२०	78	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-	-
Upul-Tharanga-Bowling-records-in-Hindi

उपुल थरंगा सहज रूप से एक बहुत ही प्रतिभाशाली बाएं हाथ के प्रारंभिक बल्लेबाज हैं. पूर्ण प्रवाह में थरंगा कुछ बहुत ही रमणीय स्ट्रोक लेने की क्षमता रखते हैं. वह एक सुविधाजनक विकेट कीपर भी हैं. उन्हे एक युवा खिलाड़ी के रूप में पहचान मिली और वह श्रीलंका के अंडर-15,अंडर-17 और अंडर-19 के नियमित सदस्य थे. 2004 के अंडर-19 विश्व कप में कुछ तारकीय प्रदर्शन से उन्हे ‘ए’ टीम में स्थान मिला.

    कुमार संगकारा – श्रीलंका – रिकॉर्ड

वेस्टइंडीज के विरुद्ध बेहतरीन प्रदर्शन के बाद उन्होंने बड़े संघ में अपनी जगह पक्की कर ली. वर्ष 2005 थरंगा के लिए भावभीनी रहा. एक तरफ जहां सुनामी की लहरों में अपना पारिवारिक घर खो दिया, वहीं दूसरी तरफ उन्होंने राष्ट्रीय टीम में अपनी जगह बना ली. कुमार संगकारा अपना क्रिकेट गियर बदलने के लिए काफी शालीन थे. थरंगा के कैरियर की शांत शुरुआत हुई, वह शीर्ष टीमों के खिलाफ कोई भी महत्वपूर्ण योगदान करने में नाकाम रहे. हालांकि, चयनकर्ताओं का उनकी क्षमता में विश्वास और अंत तक उनके साथ रहने का निर्णय रंग लाया जब थरंगा ने 2006 में पांच एकदिवसीय मैचो में इंग्लैंड के खिलाफ 300 से अधिक रन बनाए. उस शृंखला के दौरान उन्होंने शतक लगाए और पांचवे वनडे में जयसूर्या के साथ मिलकर एक रिकॉर्ड तोड़ साझेदारी निभायी.

भारत के खिलाफ एक खराब शृंखला और 2007 विश्व कप में कुछ साधारण प्रदर्शन के बाद थरंगा खुद को टीम से बाहर कर बैठे. दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ ‘ए’ टीम से खेलते हुए थरंगा ने पांच एकदिवसीय मैच की श्रंखला में 101 के औसत से 250 रन बनाए. उन्हे कोच ने कुछ तकनीकी खामियों में मदद की और उन्हें एक पारी के निर्माण पर काम करवाया. उन्हे ज़िम्बाब्वे के खिलाफ 5 मैचो की एक श्रंखला के लिए चुना गया पर वह एक बार फिर से प्रभावित करने में विफल रहे. जब पाकिस्तान के खिलाफ श्रंखला के लिए उन्हें चुना गया, थरंगा ने पांच एकदिवसीय मैचों में 2 अर्धशतक के साथ जवाब दिया और उसके साथ ही अपनी जगह बनाए रखी.

    महेला जयवर्धने – श्रीलंका – रिकॉर्ड

उन्होंने अच्छा काम जारी रखते हुए उपमहाद्वीप में 2011 के विश्व कप में तिलकरतने दिलशान के साथ भागीदारी करने की मंज़ूरी ले ली. थरंगा की कला दिलशान की शक्ति के लिए आदर्श पन्नी साबित हुई. पिछले विश्व कप के दुश्मनों को करारा जवाब देते हुए थरंगा अपने रूप में आए और 2 शतक सहित 56.42 की एक अद्भुत औसत से 9 मैचो में 395 रन का रिकॉर्ड बनाया. इस बांए हाथ के बल्लेबाज ने महान परिपक्वता दिखायी और श्रीलंका ने उन मुश्किल लक्ष्यों का भी पीछा किया जो कभी पहुँच से बाहर दिखायी दिया करते थे.

हालांकि विश्व कप के प्रदर्शन की खुशियां लंबे समय तक नहीं रहीं. उन्हे जल्द ही एक प्रतिबंधित पदार्थ के लिए सकारात्मक पाया गया, जिसमे दोषी पाए जाने पर उन्हे तीन महीनों के लिए खेल से बाहर रखा गया. इस बुरे समय के बाद भी केवल एक चीज़ जो इनमे संगत थी, वह थी इनकी बेजोड़ता. 2013 में भारत के खिलाफ 174 रन की अपने कैरियर की सर्वश्रेष्ठ पारी के बावजूद वह टीम में अपनी जगह पक्की नहीं कर सके, जिसके लिए उनके बुरे स्कोर को धन्यवाद दिया गया है. 2015 में जब संगकारा और जयवर्धने जैसे अनुभवी खिलाड़ी बुरा प्रदर्शन कर रहे थे तब थरंगा उभर कर आए.
ना सिर्फ टीम में एक स्थान बल्कि एंजेलो मैथ्यूज की अनुपस्थिति में ज़िम्बाब्वे दौरे के लिए उन्हे कप्तान की टोपी से सम्मानित किया गया. वह वर्तमान में वर्ल्ड वॉर द्वितीय के युग के बाद से दो टेस्ट के बीच सबसे ज्यादा दिनों तक इंतज़ार करने का रिकॉर्ड रखते हैं जो कि 10 वर्ष और 5 महीने का है.

वर्तमान में अपने अनुभव और टीम के पुनर्निर्माण के साथ, वह श्रीलंकाई बल्लेबाजी पंक्ति में एक महत्वपूर्ण हिस्सा बने हुए हैं.

    सनथ जयसूर्या – श्रीलंका – रिकॉर्ड

Summary
Review Date
Reviewed Item
Upul Tharanga Records | Sri Lanka | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: