दिनेश रामदीन – वेस्टइंडीज़ – रिकॉर्ड

Denesh Ramdin Records in Hindi

पूरा नाम – दिनेश रामदीन

जन्म – 13 मार्च 1985, कौवा, त्रिनिदाद

प्रमुख टीमें – वेस्टइंडीज, गुयाना अमेज़ॅन वॉरियर्स, सेंट लुसिया ज़ॉक्स, त्रिनिडाड, त्रिनिदाद एंड टोबेगो, वेस्टइंडीज के कुलपति, एकदिवसीय वेस्टइंडीज, वेस्ट इंडीज़ ए, वेस्टइंडीज अंडर -19

उपनाम – शॉटर

भूमिका – विकेटकीपर बल्लेबाज

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

क्षेत्ररक्षण की स्थिति – विकेटकीपर

शिक्षा – प्रेसील सरकार

टेस्ट पदार्पण (कैप 263) – 13 जुलाई 2005 बनाम श्रीलंका
अंतिम टेस्ट – 3-7 जनवरी 2016 बनाम ऑस्ट्रेलिया

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 127) – 31 जुलाई 2005 बनाम भारत
अंतिम एकदिवसीय – 5 अक्टूबर 2016 बनाम पाकिस्तान

दिनेश रामदीन के बल्लेबाज़ी और क्षेत्ररक्षण कीर्तिमान:

Mat Inns NO Runs HS Ave BF SR 100 50 4s 6s Ct St
Tests 74 126 14 2898 166 25.87 5945 48.74 4 15 376 6 205 12
ODIs 139 110 22 2200 169 25.00 2738 80.35 2 8 165 31 181 7
T20Is 58 38 12 421 55* 16.19 364 115.65 0 1 39 8 32 19
First-class 140 234 29 5952 166* 29.03 12 27 362 36
List A 199 164 33 3798 169 28.99 4 15 258 20
T20s 167 121 35 1933 84 22.47 1572 122.96 0 9 160 57 108 44

दिनेश रामदीन के गेंदबाज़ी कीर्तिमान:

Mat Inns Balls Runs Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 74
ODIs 139
T20Is 58
First-class 140
List A 199
T20s 167

दिनेश रामदीन एक कुशल विकेटकीपर बल्लेबाज हैं इस बारे में कोई संदेह नहीं है। अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट में उनके पदार्पण के बाद से ही इन्हें भविष्य का कप्तान कहा जाने लगा। फिर भी ऐसा लगता है कि रामदीन ने अपनी योगता का पूरा फायदा नहीं उठाया लेकिन यह बात तो पूरी तरह स्पष्ट है कि वह अपनी टीम के सवश्रेष्ठ विकेटकीपर हैं। रामदीन ने अपने कैरियर की शुरुआत 13 वर्ष की उम्र में एक गेंदबाज के तौर पर की पर जल्दी ही इन्होंने गेंदबाजी छोड़कर अपना ध्यान विकेटकीपिंग पर लगाना शुरू कर दिया। रामदीन ने त्रिनिदाद एंड टोबैगो और वेस्ट इंडीज अंडर 19 की कप्तानी भी की उसके बाद इन्हें 19 वर्ष की उम्र में वेस्ट इंडीज की अंतरराष्ट्रीय टीम में चुन लिया गया। इन्होंने अपना पहला अंतरराष्ट्रीय टेस्ट मैच 2005 में श्रीलंका के खिलाफ खेला जहाँ इन्होंने 56 रन की पारी खेली। रामदीन ने अपना पहला एकदिवसीय मैच भी उसी साल इंडियन ऑयल कप में खेला।

मार्लोन सैम्युल्स – वेस्टइंडीज़ – रिकॉर्ड

रामदीन का अंतरराष्ट्रीय कैरियर बहुत तेजी से आगे बढ़ा। इन्होंने ज़्यादातर मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया और वेस्टइंडीज के एक नियमित खिलाड़ी बन गए। उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ ऑस्ट्रेलिया की ऊबड़ खाबड़ पिच पर बल्लेबाजी करते हुए 71 रनों की पारी खेली। इसके बाद ही अगले साल इन्होंने भारत के खिलाफ़ 62 रनों की जुझारु पारी खेली। उन्होंने अपनी विकेटकीपिंग का शानदार प्रदर्शन देते हुए भारत के खिलाफ काफी प्रभावित किया। हालाँकि अगले 1-2 साल में वह एक बल्लेबाज के तौर पर असफल होने लगे। उनके खराब प्रदर्शन के बाद भी उन्हें 2007 वर्ल्ड कप का हिस्सा बनाया गया। 2009 में उन्होंने अपना पहला शतक इंग्लैंड के खिलाफ बारबाडोस में लगाया लेकिन उसके बाद उनके लगातार खराब प्रदर्शन के कारण उन्हें टीम से बाहर कर दिया गया।

घरेलू टूर्नामेंट में अपने कुछ अच्छे प्रदर्शन के बाद उन्हें 2011-12 में एक बार फिर से 2 साल के अन्तराल के बाद अंतरराष्ट्रीय टीम में मौका दिया गया। इंग्लैंड के टेस्ट दौरे पर पहले 2 मैचों में असफल रहने के बाद रामदीन ने तीसरे टेस्ट में 107 रनों की लाजवाब पारी खेली। हालाँकि इन्होंने इस अवसर को तब खराब कर दिया जब उन्होंने विव रिचर्ड्स, जिन्होंने रामदीन के खराब प्रदर्शन की आलोचना की थी, के ऊपर एक नोट में “हाँ रिचर्ड्स बात करो” लिखा जिसके बाद उनके ऊपर खराब व्यवहार के कारण मैच फीस का 20% का जुर्माना लगाया गया।

जेसन होल्डर – वेस्टइंडीज – रिकॉर्ड

2013 में इंग्लैंड में हो रहे आई सी सी चैंपियंस ट्रॉफी में एक बार फिर से रामदीन ने पाकिस्तान के मिस्बाह-उल-हक के एक कैच पर विवाद खड़ा कर दिया जहाँ पर वह दावा कर रहे थे कि उन्होंने कैच पकड़ा है जबकि टेलेविज़न रीप्ले में साफ दिख रहा था कि उन्होंने कैच नहीं पकड़ा है। यह मामला मैच रेफरी को सौंप दिया गया और उन्हें अपनी मैच की पूरी फीस जुर्माने में देनी पड़ी इसके अतिरिक्त उन्हें 2 मैचों का बैन भी झेलना पड़ा। नवंबर 2013 में भारतीय दौरे पर रामदीन एक बार फिर से बहुत अच्छा प्रदर्शन नहीं कर सके। उन्होंने दूसरे टेस्ट मैच की दूसरी इनिंग में नाबाद 53 रनों की पारी खेली जहाँ पर वेस्टइंडीज मात्र 157 रन पर आल आउट हो गया और इसी के साथ उन्हें भारत के हाथों सीरीज भी गंवानी पड़ी।

सेडान पार्क में एक मैच में रामदीन ने अपने अनुभव का प्रदर्शन करते हुए न्यूज़ीलैंड के खिलाफ शिवनारायण चंद्रपाल के साथ मिल कर टीम के स्कोर को 86-5 से 286-6 तक ले गए जहाँ पर इन्होंने अपने कैरियर का तीसरा टेस्ट शतक जड़ा पर यह टीम की जीत के लिए पर्याप्त न हो सका। रामदीन की वीकेटकीपिंग लाजवाब थी और उसी के दम पर उन्होंने खुद को वेस्टइंडीज के वीकेटकीपर बल्लेबाज के पहले विकल्प के तौर पर स्थापित कर लिया।

वेस्टइंडीज ने रामदीन को उनके अच्छे प्रदर्शन के कारण कप्तानी सौंप दी। कप्तान के तौर पर उनकी पहली सीरीज उनके घरेलू मैदान पर न्यूज़ीलैंड के खिलाफ थी जहाँ पर उन्होंने पहले टेस्ट मैच में शिकस्त के बाद दूसरा मैच जीतने के लिए टीम को प्रोत्साहित किया पर वह सीरीज बचाने में नाकाम रहे और आखरी मैच हार कर उन्हें सीरीज 2-1 से गंवानी पड़ी। उन्होंने कप्तान के तौर पर बांग्लादेश को 2-0 से हरा कर जीत का स्वाद चखा पर वह बल्ले से कुछ खास योगदान नहीं दे सके। साउथ अफ्रीका के दौरे पर उनकी बल्लेबाजी और विकेटकीपिंग दोनों की असली परीक्षा हई और वह नियमित प्रदर्शन करने में असफल रहे। हालाँकि रामदीन ने एकदिवसीय मैचों में अच्छा प्रदर्शन किया। उन्होंने बांग्लादेश के खिलाफ 169 रन बनाए जो कि किसी भी वेस्टइंडीज वीकेटकीपर द्वारा बनाया गया एकमात्र शतक है। इसके बाद उन्होंने साउथ अफ्रीका और भारत के खिलाफ भी अर्धशतक लगाया।

डैरेन ब्रावो – वेस्टइंडीज़ – रिकॉर्ड

वर्ल्ड कप में रामदीन का प्रदर्शन औसत रहा लेकिन पाकिस्तान के खिलाफ उनके द्वारा लगाया गया अर्धशतक वेस्टइंडीज की जीत के लिए काफी कारगर साबित हुआ। कप्तान रहते हुए रामदीन को काफी कठिन समय झेलना पड़ा और 2015-16 में ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ 2-0 से सीरीज हारने के बाद उनकी जगह पर जैसन होल्डर को कप्तान बनाया गया। फिर भी वह वीकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर टीम के पहले विकल्प थे और उन्होंने घरेलू मैदान पर त्रिकोणीय श्रृंखला में साउथ अफ्रीका और ऑस्ट्रेलिया के खिलाफ अच्छा प्रदर्शन किया।

इसी टूर्नामेंट के दौरान रामदीन एकदिवसीय मैचों में 2000 रन बनाने वाले एकमात्र वेस्टइंडीज के वीकेटकीपर बन गए। बल्लेबाजी और वीकेटकीपिंग में अच्छा करने के बावजूद भी उन्हें खेल के सारे प्रारूपों से बाहर कर दिया गया। उन्हें 2016 के कैरिबियन प्रीमियर लीग में भी जगह नही मिली पर आखरी समय में उन्हें सैंट लूसिया ज़ोउक्स के चोटिल हो जाने पर उनकी जगह टीम में रखा गया। 2017 के सी पी एल संस्करण में रामदीन को एक घरेलू फ्रैंचाइज़ी त्रिंबागो नाईट राइडर्स ने साइन कर लिया जहाँ पर उन्होंने बहुत से मैचों में विजयी पारी खेल कर अपनी टीम को टूर्नामेंट जीतने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

रामदीन ने टूर्नामेंट के अंत तक 212 रन बनाए जो कि इनकी टीम की दूसरी सर्वाधिक रन संख्या थी। पूरे टूर्नामेंट में इनकी शांतिपूर्वक एवं नियमित तरीके से बल्लेबाजी ही थी जिसने इनकी टीम को फाइनल तक पहुँचाया और जहां पर इन्होंने एक काँटे के मुकाबले में अपनी टीम को दूसरी शीर्षक जीत दिलायी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
Denesh Ramdin Records | West Indies | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: