शिवनारायण चंद्रपॉल – वेस्टइंडीज़ – रिकॉर्ड

Shivnarine Chanderpaul Records

पूरा नाम – शिवनारायण चंदरपॉल

जन्म – 16 अगस्त 1974, एकता गांव, पूर्वी तट, डेमेरारा, गुयाना

प्रमुख टीमें – वेस्टइंडीज, डर्बीशायर, डरहम, गयाना, गयाना अमेज़ॅन वारियर्स, खुले रॉयल बेंगल, लंकाशायर, रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर, स्टैनफोर्ड सुपरस्टार, यूवा नेक्स्ट, वार्विकशायर, वार्विकशायर द्वितीय एकदिवसीय

भूमिका – बल्लेबाज़

बल्लेबाजी शैली – बाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – लेगब्रेक

टेस्ट पदार्पण (कैप 204) – 17 मार्च 1994 बनाम इंग्लैंड
अंतिम टेस्ट – 1 मई 2015 बनाम इंग्लैंड

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 66) – 17 अक्टूबर 1994 बनाम भारत
अंतिम एकदिवसीय – 23 मार्च 2011 बनाम पाकिस्तान
वनडे शर्ट नंबर 6

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 164 11867 203* 51.37 43.31 30 66 1285 36 66
ODIs 268 8778 150 41.6 70.74 11 59 722 85 73
T20Is 22 343 41 20.17 98.84 0 0 34 5 7
First-class 375 27192 303* 54.27 77 141 192
List A 415 13252 150 42.33 13 97 114
T20s 81 1576 87* 23.52 105.77 0 8 164 27 24
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 164 9 1/2 1/2 98.11 3.04 193.3 0 0 0
ODIs 268 14 3/18 3/18 45.42 5.15 52.8 0 0 0
T20Is 22
First-class 375 60 4/48 42.2 3.15 80.2 0 0
List A 415 56 4/22 4/22 24.78 4.95 30 2 0 0
T20s 81

इस बात का अंदाजा बहुत लोगों को नहीं है कि शिवनारायण चंद्रपॉल 1994 से अंतर्राष्ट्रीय क्रिकेट का हिस्सा है लेकिन कैरिबियाई प्रदेश के सबसे प्रतिभाशाली और सबसे कम ख्याति प्राप्त करने वाले विजेता की यही कहानी है | न ही उनकी बल्लेबाज़ी देखने में इतनी लुभावनी है और न ही वे तेज़ खेलते है, लेकिन इन बीते वर्षों में चंद्रपॉल एक ऐसी चट्टान बन गए है जो कि इस कमज़ोर बल्लेबाज़ी-क्रम को सँभालने का काम करते है | अपने पहले 18 मैचों में 15 अर्धशतक लगाने के बाद चंद्रपॉल का पहला शतक उनके 19वे मैच में आया | उन्होंने अपने करियर का पहला पड़ाव महानतम खिलाड़ी लारा की परछाई में ही निकाल दिया, और लारा के संन्यास के बाद उनके अकेले योद्धा बन गए |

ब्रायन लारा – वेस्ट इंडीज़ – रिकॉर्ड

उनकी बल्लेबाज़ी शैली को ‘केंकड़े-जैसा’ कहा गया है और यह दलहन में अच्छी नहीं लगती; हालाँकि, इस बात को कोई नहीं नकार सकता की चन्दरपॉल वेस्ट इंडीज की कमज़ोर होती बल्लेबाज़ी के इकलौते मसीहा हैं | अपने जुझारूपन के लिए जाने जाने वाले चन्दरपॉल के नाम चौथे सबसे तेज़ टेस्ट शतक का कीर्तिमान भी है | उन्होंने यह सैंकड़ा केवल 67 गेंदों में दौरे पर आयी ऑस्ट्रेलियाई टीम के विरुद्ध 2002 में बनाया था | उन्होंने ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध एंटीगुआ में वेस्ट इंडीज के 418 रनों के रिकॉर्ड लक्ष्य का सफलतापूर्वक पीछा करने में भी 104 रन बनाकर अहम भूमिका निभाई थी | 2005 में दौरे पर आयी दक्षिण अफ्रीकी टीम के विरुद्ध उन्हें कप्तान घोषित किया गया था और उन्होंने इसका जश्न गयाना में दोहरा शतक लगाकर मनाया था, एक उपलब्धि जिसे हासिल करने वाले वे केवल दूसरे कप्तान हैं |

जॅक कैलिस – दक्षिण अफ्रीका – रिकॉर्ड

लेकिन कप्तान के रूप में चन्दरपॉल का कार्यकाल अच्छे परिणाम लाने में असफल रहा, उनके लिए और उनकी टीम के लिए | उन्होंने 2006 में इस पद से इस्तीफा दे दिया और अपनी बल्लेबाज़ी पर ध्यान केंद्रित करने लगे | इस काम से उन्हें मदद ज़रूर मिली, और आगे के सत्रों में उन्हें काफी सफलता मिली | 2007 के इंग्लैंड दौरे पर बल्ले से उनका औसत 150 के पास रहा | इसमें तीसरे और चौथे टेस्ट में नाबाद शतक भी शामिल थे | वे श्रृंखला तो हार गए, लेकिन चन्दरपॉल के बेमिसाल प्रदर्शन के कारण हार के अंतर काफी हद तक कम हो गए |

हालाँकि उनका खेल टेस्ट क्रिकेट के ज़्यादा अनुकूल है, चन्दरपॉल ने एकदिवसीय क्रिकेट में भी काफी सफलता प्राप्त की है | उन्होंने वेस्ट इंडीज के 2004 की चैंपियंस ट्रॉफी के विजयी अभियान में महत्वपूर्ण योगदान दिया था | मध्य क्रम के बल्लेबाज़ होने के बावजूद चन्दरपॉल ने 2006 की चैंपियंस ट्रॉफी में पारी की शुरुआत की और अच्छी सफलता पायी, और इस संस्करण में वेस्ट इंडीज को फाइनल तक पहुंचने में सहायता की |

उनका अच्छा खेल 2008 में भी चलता रहा, जहां उन्होंने अपने घर पर ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध 3 टेस्ट मैचों में 442 रन बनाये | उनके प्रदर्शन को पहचाना गया और उन्हें सम्मानित किया गया, जब उन्होंने 2008 में विसडेन क्रिकेटर ऑफ़ द ईयर और आई.सी.सी. प्लेयर ऑफ़ द ईयर पुरस्कार जीते |

रिकी पोंटिंग – ऑस्ट्रेलिया – रिकॉर्ड

आने वाले सालों में उनकी ताकत किसी भी परिस्थिति के अनुसार खुद को ढालने की उनकी प्रतिभा रही है, जिस कारण वे अपने हुनर का बेहतरीन इस्तेमाल कर पाते हैं | उनकी दीर्घायु का एक उदाहरण ऑस्ट्रेलिया के विरुद्ध 2012 में खेली गयी श्रृंखला है, जहां उन्होंने 103*, 12, 94, 68 और 69 के स्कोर बनाये, और पूरी श्रृंखला में पाँच पारियों में 346 रन बनाये | केंसिंग्टन ओवल की पहली पारी में 103 रनों की नाबाद पारी के दौरान उन्होंने इस मैदान पर सर्वाधिक रन बनाने के मामले में लारा को पीछे छोड़ दिया | साथ ही रोज़ू में 68 और 69 रनों की मदद से वे ब्रायन लारा के बाद केवल दूसरे ऐसे वेस्ट इंडियन खिलाड़ी बन गए, जिसने 10,000 टेस्ट रन बनाये हो | बाद में 2012 में, उन्होंने क्रिकेट के सबसे छोटे प्रारूप में खेलने का फैसला किया, और श्री लंका प्रीमियर लीग के उद्घाटन संस्करण में उवा नेक्स्ट का प्रतिनिधित्व किया |

नवंबर 2013 में चन्दरपॉल ने भारत के विरुद्ध मुंबई में अपना 150वा टेस्ट मैच खेला जो कि संयोग से सचिन तेंदुलकर का 200वा टेस्ट मैच भी था | सर्वाधिक टेस्ट मैच खेलने वाले क्रिकेटरों की सूची में वे सातवे पायदान पर है | न्यू ज़ीलैंड में मुश्किल हालातो में भी उन्होंने मोर्चा संभाले रखा, और एक शतक और एक अर्धशतक की सहायता से 256 रन बनाये |

दिलचस्प तथ्य: 1999 में चन्दरपॉल ने एक पुलिस कर्मी को चोर समझकर गोली मार दी थी | हालाँकि, उनपर इस गलती को लेकर कोई आरोप नहीं लगाए गए थे |

Summary
Shivnarine Chanderpaul Records | West Indies | CricketinHindi.com
Article Name
Shivnarine Chanderpaul Records | West Indies | CricketinHindi.com
Publisher Name
CricketinHindi.com
Publisher Logo

Leave a Response

share on: