एड्डो ब्रैंडेस – ज़िम्बाब्वे – रिकॉर्ड

Eddo Brandes Records in Hindi

पूरा नाम – एडो आंद्रे ब्रैंडेस

जन्म – 5 मार्च, 1963, पोर्ट शेपस्टोन, नेटल, दक्षिण अफ्रीका

प्रमुख टीमें – जिम्बाब्वे, मशोनलैंड, मशोनलैंड कंट्री जिले

उपनाम – चिकन जॉर्ज

बल्लेबाज़ी शैली – दाएं हाथ के बल्लेबाज़

गेंदबाजी शैली – दाएं हाथ के तेज-मध्यम

अन्य – कोच

शिक्षा – प्रिंस एडवर्ड स्कूल

टेस्ट पदार्पण (कैप 2) – 18 अक्टूबर 1992 बनाम भारत
अंतिम टेस्ट – 8 दिसंबर 1999 बनाम श्रीलंका

एकदिवसीय पदार्पण (कैप 14) – 10 अक्टूबर 1987 बनाम न्यूजीलैंड
अंतिम एकदिवसीय – 18 दिसंबर 1999 बनाम श्रीलंका

Batting and fielding averages
Mat Runs HS Ave SR 100 50 4s 6s Ct
Tests 10 121 39 10.08 36.11 0 0 11 3 4
ODIs 59 404 55 13.03 90.17 0 2 27 14 11
First-class 60 1151 165* 16.68 1 2 28
List A 126 1173 55 16.52 0 4 23
Bowling averages
Mat Wkts BBI BBM Ave Econ SR 4w 5w 10
Tests 10 26 3/45 6/153 36.57 2.85 76.7 0 0 0
ODIs 59 70 5/28 5/28 32.37 4.8 40.4 1 2 0
First-class 60 179 7/38 28.6 3.25 52.7 10 1
List A 126 164 5/28 5/28 28.19 4.47 37.8 1 4 0

‘चिकन फार्मर’ के नाम से प्रसिद्ध ब्रैंडेस ने अल्बुरी (ऑस्ट्रेलिया) में 1992 विश्व कप में अपने प्रदर्शन से इंग्लैंड को करारी शिकस्त दी और हॉल ऑफ़ फेम में शामिल हो गये | ब्रैंडेस एकदिवसीय मैच में हैट्रिक लेने वाले सबसे उम्रदराज़ खिलाड़ी भी है | उन्होंने 33 साल की उम्र में इंग्लैंड के खिलाफ यह उपलब्धि हासिल की | निक नाइट, जॉन क्रॉले और नासेर हुसैन उनके प्रसिद्ध शिकार थे।

एक मनोरंजक चरित्र, ब्रैंडेस अपने विरोधियों के साथ अपने टकराव के लिए जाने जाते थे। उन्होंने सिर्फ 10 टेस्ट और 59 एकदिवसीय मैच खेले | अगर वो अपना फिटनेस स्तर अच्छा बनाये रखते तो वो और मैच खेल सकते थे |

उनका वह हैट्रिक उल्लेखनीय था, लेकिन ब्रैंडेस के लिये सबसे यादगार पल 1992 विश्व कप में उनके द्वारा उनके अच्छे मित्र ग्रीम हिक का शिकार था, उस मैच में उन्होंने 21 रन देकर 4 विकेट लिए और मैच जिताऊ प्रदर्शन किया |

ब्रैंडेस एक उपयोगी निचले क्रम के बल्लेबाज भी थे, और वो गेंदों पर करारा प्रहार कर सकते थे | उनकी तकनीक काफी अच्छी थी और यह तब दिखा जब उन्होंने दक्षिण अफ्रीका में अपना पहला प्रथम श्रेणी शतक लगाया |

संन्यास लेने के बाद ब्रैंडेस ने कोचिंग शुरू कर दी, और वो ज़िम्बाब्वे अकादमी में कुछ समय के लिए थे | 2003 में जब राजनितिक हालात ख़राब हुए, तब ब्रैंडेस क्वींसलैंड, ऑस्ट्रेलिया चले गये और उन्होंने वहाँ पर अपना कोचिंग करियर ज़ारी रखा |

अब वो सनशाइन तट पर टमाटर का खेत सँभालते है | चिकन से लेकर टमाटर तक, खेती और एड्डो ब्रैंडेस को अलग नहीं किया जा सकता |

Summary
Review Date
Reviewed Item
Eddo Brandes Records | Zimbabwe | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: