बीसीसीआई अगले पांच सालों के लिए आईपीएल खिताब प्रायोजन के लिए बोली आमंत्रित करता है

BCCI invites bid for title sponsor IPL 2018

बोली लगाने में जो फर्म कामयाब रहेगा, वह आईपीएल 2018 से अगले पांच साल की अवधि के लिए टी -20 लीग का शीर्षक प्रायोजक होगा।

भारतीय क्रिकेट कंट्रोल बोर्ड (बीसीसीआई) ने अगस्त से जुलाई 2022 तक की अवधि के लिए इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) के शीर्षक प्रायोजन अधिकारों के लिए बोली लगाने के लिए पार्टियों से आवेदन आमंत्रित करना शुरू कर दिया है। बोली लगाने में जो फर्म कामयाब रहेगा, वह आईपीएल 2018 से अगले पांच साल की अवधि के लिए टी -20 लीग का शीर्षक प्रायोजक होगा।

यदि आपको नहीं पता था …

ग्वानडोंग की चीनी मोबाइल निर्माता कंपनी VIVO को दो साल (2016 और 2017) की अवधि के लिए आईपीएल के शीर्षक प्रायोजन का अधिकार प्राप्त हुआ था। VIVO से पहले, शीतल पेय कंपनी पेप्सी ने टी 20 टूर्नामेंट का शीर्षक प्रायोजन, भारती एयरटेल को पछाड़कर, 396.8 करोड़ रुपये की बोली लगाकर जीता था, जहाँ पांच साल का समझौता हुआ था, जिसमें से केवल तीन साल पूरे हुए। रियल एस्टेट कंपनी डीएलएफ, 2008 से अगले पांच सालों के लिए लीग के पहले खिताब की प्रायोजक थी।

मामले का सार

3 लाख रुपये की लागत से आमंत्रण निविदा (आईटीटी) 1 जून से 21 जून तक मुम्बई में बीसीसीआई मुख्यालयों पर शुरू हो जाएगी और दोपहर 27 जून तक प्रस्तुत कर दी जानी चाहिए। बोली की स्थिति गैर- वापसी योग्य है, और प्रस्तुत करने की जगह के बारे में विवरण बोली दस्तावेजों में निर्दिष्ट किया गया है। बीसीसीआई भी अपने विवेक से जगह बदल सकती है, और यदि ऐसा होता है तो पार्टियों को बोर्ड द्वारा सूचित किया जाएगा|
यदि ज़रूरत होती है तो बीसीआई के पास बोली लगाने की शर्तों में संशोधन करने या इसे पूरी तरह से रद्द करने का अधिकार है।

आगे क्या होगा?

आईपीएल को आईपीएल 2018 में कुछ बड़े बदलावों से गुजरना है, जिनकी शुरुआत इसमें भाग लेने वाली टीमों से होगी। राइजिंग पुणे सुपरजायंट और गुजरात लायन्स को चेन्नई सुपरकिंग्स और राजस्थान रॉयल्स के लिए रास्ता बनाना होगा, जिसके चलते प्रशंसको में भी महत्वपूर्ण बदलाव दिखेगा, साथ ही साथ टीम के प्रति वफादारी भी बदलेगी, क्योंकि खिलाड़ियों को एक खुली नीलामी से गुजरना होगा और टीमों में स्थानांतरित होना होगा।

लेखक का विचार

कुल दस सत्र पूरे करने के बाद, आईपीएल अभी भी एक मजबूत ब्रांड और एक बड़ा टी -20 टूर्नामेंट रहा है, जो अंतर्राष्ट्रीय कैलेंडर में प्रमुख महत्व रखता है। बीसीसीआई को पता है कि आईपीएल उनके लिए अभी भी पैसे कमाने का एक जरिया है, और उन्हें इसके प्रायोजन सौदों और संघों से सर्वश्रेष्ठ बाहर निकालने के इस दो महीने के चक्कर से अपने मुनाफे को अधिकतम करने की उम्मीद होगी।

Summary
Review Date
Reviewed Item
BCCI invites bid for title sponsor IPL 2018 | CricketinHindi.com
Author Rating
51star1star1star1star1star

Leave a Response

share on: