महेंद्र सिंह धोनी ने जनवरी में इंग्लेंड के खिलाफ एकदिवसीय और टी२० श्रंखला शुरू होने से पहले यह निर्णय लिया है. हालाँकि धोनी अभी भी श्रंखला के लिए एक विकेटकीपर बल्लेबाज के तौर पर चयन के लिए उपलब्ध होंगे, बीसीसीआई ने बुधवार शाम को बताया.

६ जनवरी को मुंबई में चयनकर्ताओ की बैठक होगी एकदिवसीय और टी२० दस्तों के चयन के लिए. बीसीसीआई ने अभी किसी उत्तराधिकारी का नाम कप्तानी के लिए नही बताया लेकिन माना जा रहा है की टेस्ट टीम की कप्तानी कर रहे विराट कोहली इस दौड़ में सबसे आगे हैं.

Dhoni and MSK Prasad
Dhoni and MSK Prasad

ऐसा माना जा रहा है की धोनी, उम्र 35 साल, ने अपने इस निर्णय की जानकारी एम एस के प्रसाद (मुख्य चयनकर्ता) को नागपुर में दी थी, जहाँ झारखंड (जिसके मेंटर धोनी हैं) और गुजरात का रणजी ट्रोफी सेमी फाइनल मॅच चल रहा था. चाय के दौरान धोनी को प्रसाद से लंबी बातचीत करते देखा गया था. “हम सब धोनी की ईमानदारी और देशभक्ति की भावना को जानते हैं, और यह उनकी उच्च सोच में साफ झलकता है”, प्रसाद ने कहा. “शायद उन्हे लगता है की टीम के लिए यह सबसे अच्छा निर्णय है, और हमें इस बात का सम्मान करना चाहिए”

    महेंद्र सिंह धोनी – भारत – रिकॉर्ड्स (Mahendra Singh Dhoni Records)

धोनी के मैनेजर अरुण पांडेय ने कहा कि निर्णय आवेगी नहीं लिया गया.”आप इस तरह रात भर में कोई फैसला नहीं लेते हैं. निश्चित तौर पर धोनी ने इस पर अच्छे से सोच विचार किया है. धोनी के अनुसार यह सही समय है की कप्तानी का दायित्व छोड़ कर वे टीम में एक विकेटकीपर बल्लेबाज़ की भूमिका अदा करें. उनके अनुसार उन्होने भारत को एक मज़बूत टीम बना दिया है, और यह सही समय है की अब कप्तानी का भार किसी और को सौंपा जाए. धोनी ने हमेशा टीम को निजी स्वार्थ से उपर रखा है, और वे ऐसे व्यक्ति नही हैं जो किसी पद को पकड़ कर रखें. उनके लिए टीम का हित्त सबसे अहम और सर्वोपरि रहा है.”

Dhoni with World Cup T20 - 2007
Dhoni with World Cup T20 – 2007

धोनी ने दिसंबर 2014 के मेल्बर्न टेस्ट के बाद टेस्ट कप्तानी छोड़ दी थी. लेकिन उन्होने एकदिवसीय और टी२० की कप्तानी अपने पास ही रखी, जो भार उन्होने 2007 से कुशलता पूर्वक निभाया है.

धोनी भारत के सबसे सफल कप्तान रहे, और उनकी कप्तानी में भारत ने 2007 विश्व टी२० कप दक्षिण आफ्रिका में, 2011 विश्व कप भारत में, और 2013 में चॅंपियन्स ट्रोफी इंग्लेंड में जीती. धोनी ने भारत की कप्तानी 199 एकदिवसीय मैंचो में की, जिनमे 110 विजय और 74 पराजय शामिल हैं. धोनी की कप्तानी में भारत ने 72 टी20 मैचों में से 41 जीते और 28 हारे. इसके साथ ही धोनी टेस्ट मैचों में भी भारत के सबसे सफल कप्तान रहे, और उनके नेत्रत्व में भारत ने 27 जीत, 18 हार और 15 ड्रॉ मॅच खेले.

Sachin Tendulkar and MS Dhoni
Sachin Tendulkar and MS Dhoni

महान बल्लेबाज़ सचिन तेंदुलकर ने धोनी को श्रद्धांजलि देते हुए कहा – “एक कप्तान के रूप में एक अद्भुत कैरियर पर एमएसडी के लिए बधाई हो, दोनों टी -20 और वनडे विश्व कप में सफलता भारत को उनकी ही वजह से मिली. धोनी को एक आक्रामक बल्लेबाज़ से एक स्थिर और निर्णयक कप्तान बनते देखा है. यह दिन उनकी सफल कप्तानी का जश्न मनाने, और उनके निर्णय का सम्मान करने का है. मेरी बधाई है धोनी को, और मैदान पर उनके कारनामो से मनोरंजन का सिलसिला ज़ारी रहेगा.”

धोनी भारत के अकेले ऐसे कप्तान हैं जिन्होने ऑस्ट्रेलिया में टी२० और एकदिवसीय शृंखला, और न्यूज़ीलॅंड में एकदिवसीय शृंखला जीती. उन्होने बतौर कप्तान, एकदिवसीय मैचों में 54 की औसत और 86 के स्ट्राइक रेट से 6633 रन बनाए. टी२० मैचों में कप्तान के तौर पर 1122 रन 122.60 की स्ट्राइक रते से बनाए. वहीं टेस्ट कपटैन के रूप में 3454 रन 40.63 की औसत से बनाए.

बीसीसीआई के मुख्य कार्यकारी अधिकारी राहुल जौहरी ने कहा – “हर भारतीय क्रिकेट प्रशंसक और बीसीसीआई की ओर से, मैं सभी प्रारूपों में भारतीय टीम के कप्तान के रूप में उनके उत्कृष्ट योगदान के लिए महेंद्र सिंह धोनी का शुक्रिया अदा करता हूँ. उनके नेतृत्व में भारतीय टीम ने नई ऊंचाइयों को छुआ है और उनकी उपलब्धियों को भारतीय क्रिकेट के इतिहास में हमेशा याद रखा जाएगा.”

Leave a Response

share on: