कुक ने इंग्लैंड की कप्तानी छोड़ी (Cook leaves England Captaincy)

Cook leaves England Captaincy - Cricket in Hindi

एलेस्टेयर कुक ने इंग्लैंड के कप्तान के रूप में 59 टेस्ट मैचों के बाद अपनी भूमिका त्याग दी है। उनकी इस भूख पर तब सवाल उठाए गए जब इंग्लैंड क्रिसमस से पहले भारत से 4-0 से हार गया था, अब कुक ने पुष्टि की है कि वह यह कप्तानी किसी और को सौंप देंगे, इसके बाद जो रूट के उनके उत्तराधिकारी होने की संभावना है।

अगस्त 2012 में नियुक्ति के बाद, कुक ने किसी अन्य इंग्लैंड के कप्तान की तुलना में अधिक टेस्ट मैचों में टीम का नेतृत्व किया है। उनके रिकॉर्ड में 2013 और 2015 में घर पर एशेज जीत के साथ ही भारत और दक्षिण अफ्रीका में सीरीज जीत भी शामिल हैं। 24 टेस्ट जीत के साथ, वह संयुक्त रूप से दूसरे इंग्लैंड के सबसे सफल कप्तान हैं, लेकिन सर्दियों में 7 टेस्ट मैचों में से 5 में हार का मतलब यह है की उन्होंने माइकल आथर्टन का हार का रिकॉर्ड भी लांघ लिया।

कुक ने रविवार शाम को कोलिन ग्रेव्स, ईसीबी के अध्यक्ष के साथ अपने फैसले पर चर्चा की और एंड्रयू स्ट्रॉस, इंग्लैंड की टीम के निदेशक और चयनकर्ताओं को टेस्ट क्रिकेट खेलने के लिए अपने सतत प्रतिबद्धता की पुष्टि की है। स्ट्रॉस ने सुझाव दिया कि कुक की जगह वेस्टइंडीज के वनडे दौरे से पहले उनका रिप्लेसमेंट इस महीने के अंत तक नामित कर दिया जाएगा, आने वाले दिनों में इंग्लैंड के नए कप्तान के रूप में रूट पसंदीदा नाम होंगे- उनके टेस्ट इतिहास में 80 वां कप्तान।

कुक, 32, इंग्लैंड के सबसे कैप्ड टेस्ट खिलाड़ी, आज की तारीख तक 140 टेस्ट मैचों में 11057 रन के साथ सबसे उर्वर बल्लेबाज हैं, और अपने किसी भी देशवासी से अधिक टेस्ट शतक बनाए हैं। उन्होंने 2010 और 2014 के बीच 69 मौकों पर एकदिवसीय टीम का नेतृत्व किया, जो एक और इंग्लैंड रिकॉर्ड है।

उनके पांच सत्रों के दौरान उन्हें विज़डन क्रिकेटर ऑफ द ईयर (2012) और आईसीसी विश्व टेस्ट कप्तान (2013) से पुरस्कृत किया गया, और इस खेल में अपनी सेवाओं के लिए उन्हें सीबीई के साथ – शुक्रवार को बकिंघम पैलेस में – सम्मानित किया गया- इसके पहले उन्हें 2011 में एमबीई से सम्मानित किया गया।

“पिछले पांच वर्षों में टेस्ट टीम का नेतृत्व करना और
इंग्लैंड का कप्तान होना एक बड़े सम्मान की बात है ,” कुक ने कहा। “इस पद को छोड़ना एक अविश्वसनीय रूप से कठिन निर्णय है, लेकिन मुझे पता है यह मेरे लिए और टीम के लिए सही समय पर सही निर्णय है। मुझे भारत श्रृंखला के बाद सोचने के लिए समय मिला और इस सप्ताह के अंत में मैंने कॉलिन ग्रेव्स से बात की और मेरे इस्तीफे की पेशकश की।

“यह कई मायनों में व्यक्तिगत रूप से एक दुखद दिन है, लेकिन मैं हर किसी को जिनकी मैंने कप्तानी की है, सभी कोच और सहयोगी स्टाफ को धन्यवाद देना चाहता हूं और, ज़ाहिर है, इंग्लैंड के समर्थकों को जिन्होंने हमें घर और घर से दूर अटूट समर्थन दिया है।

“इंग्लैंड के लिए खेलना वास्तव में एक विशेषाधिकार है और मुझे आशा है की एक टेस्ट खिलाड़ी के रूप में मैं खेलता रहूं, साथ ही इंग्लैंड के नए कप्तान और टीम को अपना योगदान देता रहूं।”

स्ट्रास, जिस से कुक ने 2012 में टेस्ट कप्तानी ली, अपने पूर्व सलामी जोड़ीदार का शुक्रिया किया और एक उत्तराधिकारी की नियुक्ति में अगले कदम के बारे में बताया।

“मैं, एलिस्टेयर का शुक्रिया अदा करता हूं, ईसीबी की ओर से और एक व्यक्तिगत दृष्टिकोण से, जिन्होंने 2012 में कप्तान के रूप में पदभार संभालने के बाद इंग्लैंड टेस्ट टीम के लिए शानदार योगदान दिया,” स्ट्रॉस ने कहा।

“उनका देश उनका आभारी है, जिस दृढ़ संकल्प, विश्वास और गर्व के साथ उन्होंने टीम का पिछले पांच वर्षों में नेतृत्व किया है वह एक बड़े ही गर्व की बात है और उनके रिकॉर्ड ही इस चीज़ का सबूत हैं। किसी से भी अधिक मैचों में नेतृत्व करने और दो एशेज जीत सहित, उन्हें हमारे देश के महान कप्तानों में से एक के रूप में देखा जाना चाहिए।

“मैदान के अंदर हो या बाहर, उन्होंने टीम और अपनी संस्कृति के विकास के लिए अपनी ताकत दिखाई है, एक मौलिक प्रबंधन में और हमें भविष्य के निर्माण में उन्होंने मदद की है। जैसा की सभी कप्तानों के साथ होता है, कई बार जहां परिस्थितियों ने उनका परीक्षण लिया है, उनके लचीलेपन और सरल स्वभाव ने उन्हें प्रबल और समृद्ध करने में मदद की है।

“अब हम सही उत्तराधिकारी नियुक्त करने की प्रक्रिया के साथ आगे बढ़ रहे हैं। टीम में कई ऐसे खिलाड़ी हैं जो औपचारिक या अनौपचारिक तौर पर नेतृत्वकर्ता की भूमिका निभाते हुए खेल रहे हैं और अब तक हमने टेस्ट कप्तानी के संबंध में किसी से बात नहीं की थी, पर अब हम टीम के साथ पूरी तरह से और खुले तौर पर बात कर सकते हैं। हम 22 फरवरी को वेस्टइंडीज के लिए टीम रवाना होने से पहले यह घोषणा करने के लिए सक्षम होने की उम्मीद करते हैं।”

Cook ne England ki kaptani chhodi - Cricket in Hindi
Cook ne England ki kaptani chhodi – Cricket in Hindi

कुक ने सबसे पहले 2010 में बांग्लादेश में इंग्लैंड की कप्तानी की थी, जब स्ट्रास को आराम दिया गया था। 2012 में स्थायी रूप से पदभार संभालने के बाद, कुक ने तीन शतकों के साथ नेतृत्व करते हुए इंग्लैंड को 28 साल में भारत में अपनी पहली टेस्ट श्रृंखला में जीत दिलाई। इंग्लैंड ने गर्मियों में 3-0 से एशेज जीत कर जीत का सिलसिला बरकरार रखा लेकिन यहां से दरारें दिखने लगीं और ऑस्ट्रेलिया ने कुछ ही महीने बाद अपना बदला ले लिया।

5-0 की हार के बाद इंग्लैंड को पुनर्निर्माण की जरूरत थी, और केविन पीटरसन की भागीदारी के बिना ऐसा करने का निर्णय कुक के शासनकाल का सबसे विवादास्पद निर्णयों में से एक था। 2014 की गर्मियों के शुरू में श्रीलंका द्वारा घर में पिटने के बाद, इंग्लैंड ने भारत से लॉर्ड्स में दूसरा टेस्ट खो दिया, इससे कुक के इस्तीफा देने पर विचार शुरू हो गया। उन्होंने फिर भी जारी रखना चुना, लेकिन उनकी 2015 विश्व कप में इंग्लैंड का नेतृत्व करने की उम्मीदें तब धराशायी हो गई जब ईसीबी ने कम से कम टूर्नामेंट से दो महीने पहले उन्हें बर्खास्त कर दिया।

उन्होंने इसके बाद टेस्ट टीम के उत्थान का पुनर्निरीक्षण महसूस किया जब रूट, बेन स्टोक्स, मोइन अली और जॉनी बेयरस्टो जैसे खिलाड़ियों ने 2015 में एशेज हासिल करने के लिए और उसके बाद सर्दियों में दक्षिण अफ्रीका में एक यादगार जीत सुरक्षित करने में इंग्लैंड की मदद की।

हालांकि इंग्लैंड की प्रगति हाल ही में उपमहाद्वीप की दो कठिन दौरों से जाँच में थी, पहला बांग्लादेश के साथ 1-1 ड्रा खेल कर इसके बाद भारत से हार झेलने पर, कुक ने अपने साथी खिलाड़ियों और कोचिंग स्टाफ के समर्थन को बनाए रखा था।
उनका इस्तीफा देना सात महीने के टेस्ट प्रतिबद्धताओं के साथ और उनके उत्तराधिकारी को दक्षिण अफ्रीका और वेस्टइंडीज के खिलाफ घरेलू श्रृंखला और ऑस्ट्रेलिया के लिए एक और एशेज दौरे की चुनौती के लिए तैयार होने का समय देने के अंतराल के दौरान आता है।

Leave a Response

share on: