क्यों शतक बनाकर मैदान छोड़ना चाह रहे थे जाधव? (Why did Jadhav want to leave field after century)

Why did Jadhav want to leave field after century

इंग्लैंड के खिलाफ पहले एकदिवसीय मैच में शतक बनाने वाले केदार जाधव ने कहा है की मैच के दौरान एक बार वो फील्ड छोड़ने पर भी विचार कर रहे थे.

पुणे में मैच के बाद जाधा ने कहा की जिस तरह से इंग्लैंड के बल्लेबाज़ आक्रामक बल्लेबाज़ी कर रहे थे उसे देखकर उन्हें विश्वास हो गया था की पिच बल्लेबाज़ी के अनुकूल है. जितनी आसानी से मोईन अली गेंद को पुल कर पा रहे थे उससे सॉफ था की गेंद खेलने के लिए पिच से काफ़ी समय मिल रहा है. जिस समय जाधव गेंदबाज़ी कर रहे थे उन्होने अनुभव किया की गेंद बिल्कुल भी स्पिन नही कर रही थी. और इसी से सीख लेकर उन्होने निश्चय किया की ज़्यादा उत्तेजित हो कर बल्लेबाज़ी करने की आवश्यकता नही है, और सिंगल ले कर रनगति बनाए रखनी चाहिए, क्योंकि पिच इतनी अच्छी है की बीच बीच में चौक्के तो लगते रहेंगे.

विराट ने जाधव को काफ़ी प्रोत्साहित भी किया की जैसे जाधव अक्सर तेज़ गति से 40-50 रन बनाकर आउट हो जाते हैं, उसके विपरीत अगर वो संभाल के बल्लेबाज़ी करें तो इस पिच पर बड़ा स्कोर बनाकर भारत को मैच जीत सकते हैं. जैसे ही जाधव 40 के स्कोर के पार पहुँचे उन्होने ठान लिया की संभाल कर खेलेंगे और कम से कम 40 रन और बनाएँगे.

जैसे जैसे जाधव की पारी आगे बढ़ी उनके लिए शॉट्स खेलना और चौक्के मारना आसान होता गया, और इस कारण मैच हमेशा नियंत्रण में रहा और कोहली पर दबाव नही पड़ा. जब जाधव की मांसपेशियों में खिचाव हुआ तो उन्होने सोचा की कुछ समय के लिए मैदान से बाहर चलें जाएँ और पुनः अपनी बल्लेबाज़ी जारी करें. लेकिन इसके विपरीत टीम से उन्हें संदेश यह मिला की अगर वो आराम करेंगे तो पैर में खिचाव और बढ़ जाएगा. और इसलिए जाधव ने दर्द सहते हुए अपनी बल्लेबाज़ी जारी रखी.

केदार जाधव – भारत – रिकॉर्ड्स

जाधव से कहा गया की वो जितनी देर बल्लेबाज़ी कर सकते हैं करें, किसी तरह से 20-30 रन और बना दें. इसके बाद जाधव ने ज़्यादा लंबे शोता खेले ताकि उन्हें दौड़ने के लिए समय मिले, और चूँकि विराट कोहली उससे कुछ ही देर पहले आउट हुए थे, इंग्लैंड को ये ना लगे की भारत दबाव में आ गया है और धीमी गति से बल्लेबाज़ी कर रहा है.

अपनी फिटनेस को लेकर जाधव ने कहा की वे अची तरह जानते हैं की उन्हें बहुत मेहनत करने की आवश्यकता है और वे इसके लिए कड़ी मेहनत करेंगे. हालाँकि विराट से तुलना पर जादव बोले की विराट की फिटनेस का स्तर बहुत उपर है और उनकी बराबरी करना किसी के लिए भी लगभग असंभव है.

Leave a Response

share on: